जायफल के फायदे- Amazing Benefits of Nutmeg for Skin & Hair in Hindi

0
603
जायफल के फायदे

जायफल के फायदे:- आजकल सर्दी-जुकाम जैसी साधारण बीमारियों के लिए भी हम काफी परेशान हो जाते हैं और डॉक्टर के यहां दौड़े-दौड़े चले जाते हैं। इसका मुख्य कारण यह है कि हमारे किचन में जो चीजें मौजूद हैं, उनके गुणों के बारे में हमें नहीं पता। आज बात करते हैं प्रकृति के अनुपम उपहार जायफल की। इसे हम ( जायफल के फायदे ) मसाले में तो प्रयोग करते हैं, लेकिन इसके और क्या-क्या औषधीय गुण हैं, इनको भी जानना जरूरी है। मिरिस्टिका नामक वृक्ष से जायफल तथा जावित्री प्राप्त होती है। मिरिस्टिका प्रजाति की लगभग 80 जातियां हैं, जो भारत, आस्ट्रेलिया तथा प्रशांत महासागर के द्वीपों पर उपलब्ध हैं।

जायफल के फायदे

Table of Contents

मिरिस्टिका वृक्ष के बीज को जायफल कहते हैं। इस वृक्ष का फल छोटी नाशपाती के रूप का एक इंच से डेढ़ इंच तक लंबा, हल्के लाल या पीले रंग का गूदेदार होता है। पकने पर फल दो खंडों में फट जाता है और भीतर सिंदूरी रंग की जावित्री दिखाई देने लगती है। जावित्री के भीतर गुठली होती है, जिसके कड़े खोल को तोड़ने ( जायफल के फायदे ) पर भीतर से जायफल प्राप्त होता है।

जायफल का इस्तेमाल ज्यादातर किचन में खाने के स्वाद को बढ़ाने के लिए किया जाता है। जायफल में खाने के स्वाद को बढ़ाने के साथ-साथ शरीर और चेहरे को खूबसूरत बनाने के भी गुण पाए जाते हैं। दादी नानी के नुस्खे के मुताबिक यदि छोटे बच्चे को जायफल और तेल की मालिश की जाए, तो उससे बच्चे की हड्डी मजबूत होती है। जायफल में अनेकों पोषक तत्व पाए जाते हैं।

यदि आप कम परेशानियों का सामना करते हुए अपने शरीर को स्वस्थ और त्वचा को तंदुरुस्त रखना चाहते है, तो डॉक्टर की परामर्श लेकर जायफल का इस्तेमाल जरूर करें। हमारे देश को मसालों का देश यूं ही नहीं कहा जाता। भोजन से लेकर स्वास्थ्य सम्बन्धी समस्याओं में मसालों का प्रयोग किया जाता है। हमारे घरों में किचन में मसालों की एक ( जायफल के फायदे ) खास जगह होती है जहां उन्हें करीने से अपने उपयोग के अनुसार लगाया जाता है।

ऐसा ही एक मसाला है जायफल जिसकी मीठी खुशबू पूरे किचन को महका देती है। जायफल भले ही भारत के घर-घर में इस्तेमाल होता हो लेकिन ये इंडोनेशिया में पाए जाने वाले पेड़ मायरिस्टिका से मिलता है। जैसा कि लगभग सभी मसालों के साथ है, ये सिर्फ स्वाद बढ़ाने के लिए ही नहीं, बल्कि भोजन के जरिये हमें बेहतर स्वास्थ्य देने के लिए होते हैं, जायफल भी हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है।

पुरुषों को जायफल के बारे में शायद अधिक जानकारी ना हो, लेकिन महिलाएं जायफल के बारे में जरूर जानती होंगी। जायफल का इस्तेमाल ( जायफल के फायदे ) अनेक अवसर पर किया जाता है। कभी मसाले के रूप में तो कभी बच्चों की मालिश करने के लिए। जायफल के तेल का उपयोग साबुन बनाने के लिए किया जाता है। आयुर्वेद में जायफल के फायदे से संबंधित बहुत सारी जानकारी दी गई है। तो आइए जाने अनेकों गुणों से भरपूर जायफल को इस्तेमाल करने से और क्या-क्या फायदे प्राप्त हो सकते हैं।

जायफल क्या है?

जायफल का वृक्ष हमेशा हरा रहने वाला और सुगन्धित होता है। वृक्ष के तने शयामले रंग के होते हैं, जिसमें बाहर छिद्र होता है। अन्दर लाल रंग के द्रव्य होते हैं। इसके पत्ते लम्बे और भालाकार होते हैं। इसके फूल छोटे-छोटे, सुगंधित और पीले-सफेद रंग के होते हैं। यह गोलाकार, अण्डाकार लाल और पीला रंग का होता है।

फल पकने पर दो भागों में फट जाता है, जिसमें से जायफल निकलता है। जायफल को ( जायफल के फायदे ) चारों ओर से घेरे हुए लाल रंग का कड़ा मांसल कवच होता है, जिसे जावित्री‘ कहते हैं। यह सूखने पर अलग हो जाता है। इसी जावित्री के अन्दर जायफल होता है। यह अण्डाकार, गोल और बाहर से शमायला रंग का सिकुड़ा हुआ, और तीव्र गन्धयुक्त होता है।

जायफल के फायदे

अनेक भाषाओं में जायफल के नाम ( Name of Jaifal in Different Languages )

1) Name of Jaiphal in Hindi (Nutmeg in Hindi) – जायफल, जायफर

2) Name of Jaiphal in English – नट् मेग (Nutmeg), फॉल्स एरिल (False aril), प्रैंग्रैन्ट नट ट्री (Fragrant nut tree), ट्रू नटमेग (True nutmeg), मैक ट्री (Mac tree) Name of Jaiphal in Sanskrit– जातीफल, मालतीफल

3) Name of Jaiphal in Oriya– जायफोलो (Jaipholo)

4) Name of Jaifal in Kannada– जाजीकाय (Jajikaya)

5) Name of Jaifal in Gujarati– जायफल (Jayaphal)

6) Name of Jaiphal in Telugu– जाजीकाय (Jajikaya), जाजीपत्री (Jajipattiri)

7) Name of Jaifal in Tamil (mace meaning in tamil)- अडिपलम (Adipalam), अट्टिगम (Attigam)

8) Name of Jaiphal in Nepali– जाइफल (Jaiphal);

9) Name of Jaiphal in Punjabi– जयफल (Jayphala)

10) Name of Jaiphal in Marathi (nutmeg in marathi)- जायफल (Jayaphala), बांडा जायफल (Banda jayaphala) Name of Jaifal in Malayalam (nutmeg in malayalam)- जाति (Jati)

11) Name of Jaifal in Arabic– जीआन्सीबेन (Jiansiban), जोउजबाव्वा (Jouzbawwa)

जायफल के फायदे – Benefits of Nutmeg in Hindi

1) दस्त पर रोक लगाने के लिए ( Benefits of Nutmeg for Diarrhea )

जायफल के फायदे

बराबर-बराबर भाग में जायफल और सोंठ (500 मिग्रा) लें। इसे जल में घिसकर सेवन करने से दस्त ठीक हो जाता है। इस दौरान स्वस्थ भोजन करना जरूरी है।

दस्त पर रोक लगाने के लिए जायफल को घिसकर नाभि में लेप करें। इससे दस्त की गंभीर बीमारी भी तुरंत ठीक हो जाती है।

दस्त को ठीक करने के लिए जायफल, लौंग, सफेद जीरा और ( जायफल के फायदे ) सुहागा के 1 ग्राम चूर्ण में मधु और मिश्री मिलाकर सेवन करें। इससे दस्त की गंभीर बीमारी ठीक हो जाती है।

इसी तरह 1-2 जातीफलादि वटी को सुबह और शाम छाछ के साथ सेवन करने से सभी तरह के दस्त ठीक हो जाते हैं।

500 मिग्रा जायफल चूर्ण में शहद मिलाकर खाने से पेट की गैस और दस्त की समस्या से आराम मिलता है।

उल्टी और दस्त की बीमारी में 500 मिग्रा जायफल के चूर्ण में घी और खांड मिलाकर चाटें। इससे लाभ होता है।

2) एंटीऑक्सीडेंट के लिए ( Benefits of Nutmeg for Antioxidant )

जायफल में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जिसमें फेनोलिक यौगिक और प्लांट पिगमेंट्स शामिल हैं, जो सेल्यूलर ( जायफल के फायदे )डैमेज को रोककर पुरानी बीमारियों से आपका बचाव कर सकते हैं। दरअसल, जिन बीजों से जायफल निकाला जाता है, वे पौधों के यौगिक से भरपूर होते हैं, जो आपके शरीर में एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करते हैं। ये एंटीऑक्सीडेंट कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले सेल्यूलर डैमेज को रोकते हैं।

3) एंटीबैक्टीरियल गुणों के लिए ( Benefits of Nutmeg for Antibacterial properties )

जायफल के फायदे

जायफल में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं। कभी-कभी स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स और एग्रिगेटिबेक्टेरिन, ( जायफल के फायदे एक्टिनोमाइसेटेमकोमिटन्स जैसे बैक्टीरिया मसूडों को खराब करते हैं। टेस्ट ट्यूब रिसर्च से पता चला है कि जायफल ई-कोलाई नामक बैक्टीरिया के विकास को रोकते हैं, जो मनुष्य में गंभीर बीमारी के साथ मौत का भी कारण बन सकता है।

4) कोलेस्ट्रॉल घटाने के लिए ( Benefits of Nutmeg for Cholesterol )

कोलेस्ट्रॉल दो तरह के होते हैं, गुड कोलेस्ट्रोल और बैड कोलेस्ट्रॉल। जब शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगता है तो कई समस्याएं शुरू हो जाती है। व्यक्ति को हर वक्त थकान महसूस होना, हार्ट अटैक का खतरा, किडनी की समस्या, आंखों की रोशनी कम होना आदि समस्याओं का सामना करना पड़ता है। दरअसल, जायफल के अर्क में कोलेस्ट्रॉल को कम करने ( जायफल के फायदे ) वाली गतिविधि पाई जाती है।

वहीं, इसी शोध में जिक्र मिलता है कि जायफल का सप्लीमेंट ब्लड लिपिड में सुधार का काम कर सकता है, जिससे बढ़ते कोलेस्ट्रॉल की समस्या को नियंत्रित करने में मदद मिल सकती है अगर जायफल का सेवन किया जाए तो कोलेस्ट्रॉल का लेवल घटाने में मदद मिलती है। इसमें मौजूद एथेनॉलिक एक्सट्रैक्ट कोलेस्ट्रॉल का स्तर घटाने में मददगार साबित होते हैं। लेकिन याद रखें, इस बारे में अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लें।

5) वजन कम करने के लिए ( Benefits of Nutmeg for To lose weight )

जायफल के फायदे

इन दिनों मोटापा लगभग हर दूसरे व्यक्ति की परेशानी है। स्ट्रेस, हॉर्मोनल डिस्बैलेंस, लगातार बाहर का खाना, सही वक्त पर न खाना और शारीरिक व्यायाम की कमी इसके कुछ कारण हैं। ऐसे में वर्कआउट और हेल्दी डाइट के साथ ही अपनी रसोई से कुछ मसाले उधार लेने में कोई बुराई नहीं है। जायफल भी एक ऐसा ही पदार्थ है जो वजन घटाने में असरदार होता है। इसके सेवन से काफी हद तक वजन कम होता है।

इसका सेवन ( जायफल के फायदे ) मेटाबोलिक डिसऑर्डर्स में मदद करता है। एक बड़ी आबादी मोटापे की समस्या से ग्रसित है। लगातार बाहर का खाना, तैलीय खाद्य पदार्थ, सही वक्त पर न खाना और व्यायाम न करना इसके कारण हो सकते हैं। ऐसे में शारीरिक गतिविधि और खाने-पीने का ध्यान रखना जरूरी है। वहीं, माटापे को नियंत्रित करने के लिए घरेलू नुस्खों को भी अपनाया जा सकता है, जिसमें जायफल भी शामिल है।

6) रोग-प्रतिरोधक क्षमता के लिए ( Benefits of Nutmeg for Immunity )

जायफल के फायदे

ये वो समय है जब इम्युनिटी को बेहतर बनाने की बात सबसे ज्यादा हो रही है। वजह है कोरोनावायरस महामारी। स्वस्थ रहने के लिए अच्छी इम्युनिटी बहुत जरूरी है। अगर ऐसा नहीं होता है, तो व्यक्ति जल्द बीमार पड़ सकता है। कई लोग मौसम में थोड़ा-सा बदलाव आते ही बीमार या सर्दी-जुकाम के( जायफल के फायदे) शिकार हो जाते हैं, क्योंकि उनकी इम्युनिटी कमजोर होती है।

ऐसे में जायफल का सेवन इम्यून पावर बढ़ाने में मददगार साबित होता है। इसमें विटामिन-ए, सी व ई होते हैं जो इम्युनिटी बढ़ाने में मददगार होते हैं. किसी भी व्यक्ति के लिए उसकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता का सही होना बहुत जरूरी है। अगर ऐसा नहीं होता है, तो व्यक्ति जल्द बीमार पड़ सकता है। ऐसे में जायफल का सेवन इम्यून पावर बढ़ाने में मददगार साबित होता है। इससे जुड़े एक शोध के अनुसार, जायफल रोग-प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करने का काम करता है ।

7) दिमाग के लिए ( Benefits of Nutmeg for Helthy brain )

आजकल लगभग हर किसी को कोई न कोई तनाव है। यहां तक कि बच्चे भी इससे अछूते नहीं है। बहुत से लोगों ( जायफल के फायदे ) को स्ट्रेस के चलते पैनिक अटैक्स भी आने समस्या होती है। ऐसे में जायफल का सेवन या जायफल का तेल काफी लाभकारी होता है। जायफल में एंटीकॉन्वलसेंट गुण होते हैं, जो कन्वल्जंस से बचाव करते है। यह तनाव को कम कर दिमाग में ब्लड सर्कुलेशन को सुधारता है और एकाग्रता को बेहतर करता है।

8) दांतों के लिए ( Benefits of Nutmeg For teeth )

जायफल के फायदे

बेहतर स्वास्थ्य के लिए दांतों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है। ज्यादा मीठा, सोडा या कॉफ़ी के सेवन से दांत खराब होने लगते हैं और उनमें कैविटी होने लगती है। ऐसे में जरूरी है अपने दांतों का ध्यान रखने की। ऐसे में जायफल काफी फायदेमंद होता है। जायफल एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर है और यह मुंह के स्वास्थ्य के लिए बहुत ( जायफल के फायदे ) लाभकारी होता है। जायफल का उपयोग दांतों के स्वास्थ्य के लिए भी किया जा सकता है।

एक शोध के अनुसार, जायफल में अर्क में मौजूद मैकलिग्नन (macelignan) नामक तत्व में एंटीकैरोजेनिक (दांतों को टूटने से बचाने वाला) प्रभाव पाया जाता है, जो दांतों को स्ट्रेप्टोकोकस म्यूटन्स नामक ओरल बैक्टीरिया से सुरक्षा प्रदान करता है।

जायफल का उपयोग ( How to Use Nutmeg )

जायफल को आप कई तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं। जैसे:

1) मांसपेशियों और जोड़ों के दर्द में आप इसका तेल लगाकर मालिश कर सकते हैं।

2) मसाले के तौर पर जायफल का उपयोग स्वाद के साथ ही स्वास्थ्य में भी बढ़ौतरी करता है।

3) जायफल की तासीर गर्म होती है। ऐसे में अगर आपको सर्दी-जुकाम की समस्या ज्यादा रहती है तो आप जायफल का उपयोग कर सकते हैं।

4) चुटकीभर जायफल का पाउडर दूध में मिलाकर सेवन करने से शरीर को अंदर से गर्मी मिलती है।

5) जायफल आपकी स्किन के लिए भी बहुत फायदेमंद है। अगर आपको पिंपल्स या दाग-धब्बे की समस्या है तो जायफल पाउडर और शहद को मिलाकर चेहरे पर लगाएं। सूखने पर ठंडे पानी से धो दें। ये एक अच्छा फेसपैक है।

जायफल को लंबे समय तक सुरक्षित कैसे रखें

1) बाजार में जायफल साबुत और पाउडर के रूप में उपलब्ध है। इनका चुनाव जरूरत अनुसार किया जा सकता है।

2) चाहें, तो बाजार से साबुत जायफल खरीदकर घर में ही इसका पाउडर बना सकते हैं।

3) इसे जनरल स्टोर या ऑनलाइन खरीदा जा सकता है।

4) जायफल को किसी एयरटाइट कंटेनर में स्टोर करके लंबे समय तक सुरक्षित रखा जा सकता है।

5) ध्यान रहे, जायफल या इसके पाउडर को किसी सूखी जगह पर ही रखें ताकि यह नमी से बचा रहे।

Side Effects of Nutmeg in Hindi

  • इसकी 5 ग्राम या उससे अधिक मात्रा का प्रयोग करने पर हिचकी, बहुत अधिक प्यास लगना, पेट दर्द, मानसिक विकार, व्याकुलता, बेहोशी, द्विरूपता ), लीवर से जुड़ी परेशानी हो सकती है।
  • इससे मृत्यु भी हो सकती है।
  • जायफल के बीज का चूर्ण अत्यधिक कामोत्तेजक होता है, और अधिक मात्रा में इसका प्रयोग नुकसान पहुंचा सकता है।
  • कई बार जायफल का सेवन अधिक मात्रा में करने से ठीक वैसा ही असर हो सकता है, जैसा किसी नशीले पदार्थ के सेवन से होता है ।
  • इससे ड्राई माउथ की समस्या भी हो सकती है ।

For more details regarding the Nutmeg in Hindi: click here

जायफल क्या है?

जायफल का वृक्ष हमेशा हरा रहने वाला और सुगन्धित होता है। वृक्ष के तने शयामले रंग के होते हैं, जिसमें बाहर छिद्र होता है। अन्दर लाल रंग के द्रव्य होते हैं। इसके पत्ते लम्बे और भालाकार होते हैं। इसके फूल छोटे-छोटे, सुगंधित और पीले-सफेद रंग के होते हैं। यह गोलाकार, अण्डाकार लाल और पीला रंग का होता है।

कोलेस्ट्रॉल घटाने के लिए जायफल कैसे फायदेमंद है बताईये?

कोलेस्ट्रॉल दो तरह के होते हैं, गुड कोलेस्ट्रोल और बैड कोलेस्ट्रॉल। जब शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल बढ़ने लगता है तो कई समस्याएं शुरू हो जाती है। व्यक्ति को हर वक्त थकान महसूस होना, हार्ट अटैक का खतरा, किडनी की समस्या, आंखों की रोशनी कम होना आदि समस्याओं का सामना करना पड़ता है। दरअसल, जायफल के अर्क में कोलेस्ट्रॉल को कम करने ( जायफल के फायदे ) वाली गतिविधि पाई जाती है।

दिमाग के लिए के लिए जायफल को कैसे उपयोग में ली सकते है बताईये?

आजकल लगभग हर किसी को कोई न कोई तनाव है। यहां तक कि बच्चे भी इससे अछूते नहीं है। बहुत से लोगों ( जायफल के फायदे ) को स्ट्रेस के चलते पैनिक अटैक्स भी आने समस्या होती है। ऐसे में जायफल का सेवन या जायफल का तेल काफी लाभकारी होता है। जायफल में एंटीकॉन्वलसेंट गुण होते हैं, जो कन्वल्जंस से बचाव करते है। यह तनाव को कम कर दिमाग में ब्लड सर्कुलेशन को सुधारता है और एकाग्रता को बेहतर करता है।

एंटीऑक्सीडेंट के लिए के लिए फायदे बताईये जायफल के ?

जायफल में एंटीऑक्सीडेंट भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जिसमें फेनोलिक यौगिक और प्लांट पिगमेंट्स शामिल हैं, जो सेल्यूलर ( जायफल के फायदे )डैमेज को रोककर पुरानी बीमारियों से आपका बचाव कर सकते हैं। दरअसल, जिन बीजों से जायफल निकाला जाता है, वे पौधों के यौगिक से भरपूर होते हैं, जो आपके शरीर में एंटीऑक्सीडेंट के रूप में कार्य करते हैं। ये एंटीऑक्सीडेंट कोशिकाओं को मुक्त कणों से होने वाले सेल्यूलर डैमेज को रोकते हैं।

दस्त पर रोक लगाने के लिए क्या करें बताईये?

बराबर-बराबर भाग में जायफल और सोंठ (500 मिग्रा) लें। इसे जल में घिसकर सेवन करने से दस्त ठीक हो जाता है। इस दौरान स्वस्थ भोजन करना जरूरी है।दस्त पर रोक लगाने के लिए जायफल को घिसकर नाभि में लेप करें। इससे दस्त की गंभीर बीमारी भी तुरंत ठीक हो जाती है।दस्त को ठीक करने के लिए जायफल, लौंग, सफेद जीरा और ( जायफल के फायदे ) सुहागा के 1 ग्राम चूर्ण में मधु और मिश्री मिलाकर सेवन करें। इससे दस्त की गंभीर बीमारी ठीक हो जाती है।

जायफल के Side Effects बताईये?

इसकी 5 ग्राम या उससे अधिक मात्रा का प्रयोग करने पर हिचकी, बहुत अधिक प्यास लगना, पेट दर्द, मानसिक विकार, व्याकुलता, बेहोशी, द्विरूपता ), लीवर से जुड़ी परेशानी हो सकती है।
इससे मृत्यु भी हो सकती है।
जायफल के बीज का चूर्ण अत्यधिक कामोत्तेजक होता है, और अधिक मात्रा में इसका प्रयोग नुकसान पहुंचा सकता है।
कई बार जायफल का सेवन अधिक मात्रा में करने से ठीक वैसा ही असर हो सकता है, जैसा किसी नशीले पदार्थ के सेवन से होता है ।
इससे ड्राई माउथ की समस्या भी हो सकती है ।