10 Evidence-Based Healthy Benefits of Lemon in Hindi ( नींबू के फायदे )

0
715
Health Benefits of Lemons

नींबू के फायदे:- छोटा सा दिखने वाला नींबू औषधीय गुणों का खजाना है| इसके रस का इस्तेमाल जायकेदार व्यंजनों से लेकर कई तरह की रिफ्रेशिंग ड्रिंक्स बनाने के लिए किया जाता है| भले ही नींबू सवाद में खट्टा हो लेकिन नींबू के फायदे कई है|नींबू का उपयोग शरीर के लिए कई तरह से फायदेमंद होता है |यही कारण है कि दादी के नुस्खे के इस लेख में हम न सिर्फ नींबू के गुण बताएंगे बल्कि नींबू का उपयोग किन-किन तरीकों से किया जाता है यह जानकारी भी देंगे| इस लेख में नींबू के फायदे और नुकसान दोनों के बारे में ही विस्तार से बताया गया है |

नींबू के फायदे

Table of Contents

आइए इस लेख के जरिए जानते हैं नींबू के बारे में कुछ खास जानकारी |नींबू से सब परिचित है| लोग नींबू का इस्तेमाल कर व्यंजन बनाते हैं| नींबू की चटनी को बहुत ही पसंद किया जाता है नींबू की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि जहां दूसरे फल पकाने पर मीठे हो जाते हैं|वही नींबू का स्वाद हर समय खट्टा ही रहता है नींबू विटामिन सी का मुख्य स्रोत है नींबू के सेवन से स्किन रोग भी ठीक हो जाते हैं |

इतना ही नहीं नींबू का प्रयोग कर कहीं और भी बीमारी ठीक की जा सकती है| आयुर्वेद में नींबू के बारे में बहुत सारी अच्छी बातें बताई गई हैं। आप नींबू का उपयोग पेट के कीड़ों को खत्म करने के लिए, पेट दर्द से आराम पाने के लिए, भूख बढ़ाने के लिए, पित्त और कफज विकारों को ठीक करने के लिए तो कर ही सकते हैं, साथ ही और भी कई रोगों में लाभ पा सकते हैं। नीचे आपके लिए बहुत आसान शब्दों में नींबू के सभी फायदे के बारे में बताया गया है। नींबू खासतौर पर अपने खट्टे रस के लिए उपयोग में लाया जाता है।

इसमें कई औषधीय गुण मौजूद हैं। इसके साथ ही इसमें कैल्शियम, पोटेशियम, फाइबर जैसे पोषक तत्व भी मौजूद होते हैं। इसके अलावा, यह एंटी-कैंसर, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-माइक्रोबियल गुणों से भी समृद्ध है। वहीं, यह रक्त को साफ करने और अस्थमा की स्थिति में भी उपयोगी होता है । इन्हीं के बारे में हम आगे विस्तार से जानेंगे।

नींबू क्या है

नींबू की कई जातियां पाई जाती है, जैसे- कागजी नींबू बिजौरी नींबू, जम्मीरी नींबू, मीठा नींबू इत्यादि। औषधी के रूप में कागजी नींबू का ही प्रयोग करना चाहिए। इसका आकार छोटा या मध्यम होता है। इसका वृक्ष कांटों से युक्त, झाड़ीनुमा होता है। इसके फूल छोटे, सफेद अथवा गुलाबी रंग के होते हैं। फूलों से सुगंध आती है।

अनेक भाषाओं में नींबू के नाम :

  • English – बीटर ऑरेंज (Bitter orange), बीगेरेड ऑरेंज (Bigarade orange), Seville orange (सेवील्ले ऑरेंज), लाइम (Lime), सॉर ऑरेंज (Sour orange)
  • Hindi (lemon in hindi)- खट्टा नींबू, कागजी नींबू (kagzi nimbu)
  • Sanskrit – बृहत् जम्बीर, निम्बुक
  • Urdu – लिमू (Limu)
  • Kannada – बीजपूर (Bijpur)
  • Tamil – चामपलम (Champalam)
  • Telugu – बीजपूरम (Beejpuram)
  • Bengali – लेबू (Lebu)
  • Nepali – बिमिरो (Bimiro
  • Manipuri – चाम्प्रा (Champra)
  • Marathi – अंबटनिंबू(Ambatanimbu), लिंबू (Limbu)
  • Arabic – लीबू (Leebu)
  • Persian – लीबू (Leebu)

नींबू के फायदे

नींबू के फायदे

1) वजन कम करने के लिए ( Benefits of Lemons for To lose weight )

नींबू में मौजूद पॉलीफेनॉल्स बढ़ते मोटापे को नियंत्रित करते हैं। शरीर में अतिरिक्त फैट के जमने से रोकने के लिए ये पॉलीफेनॉल्स कारगर माने गए हैं। इसी विषय पर किए गए एक अन्य अध्ययन के अनुसार डिटॉक्स ड्रिंक के रूप में नींबू शरीर से फैट को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा, नींबू के रस का सेवन गुनगुने पानी के साथ करना और उपयोगी होता है। दरअसल, नींबू के रस का सेवन अगर गुनगुने पानी के साथ किया जाए, तो यह पाचन को बढ़ावा देता है और चयापचय दर में सुधार कर वजन कम करने में सहायक होता है।

इसके अलावा, नींबू को विटामिन-सी का भी अच्छा स्रोत माना गया है और वजन घटाने के लिए विटामिन-सी सबसे खास तत्व माना जाता है। इतना ही नहीं, वजन घटाने के लिए कई लोग नींबू पानी में शहद का सेवन भी करते हैं, जो वजन घटाने के लिए एक सुरक्षित घरेलू उपाय होता है। हालांकि, इसके साथ डाइट और व्यायाम पर ध्यान देना भी आवश्यक है।

2) कैंसर के लिए ( Benefits of Lemons for Cancer )

इसमें कोई शक नहीं कि कैंसर एक गंभीर बीमारी है और इसका एक मात्र उपाय डॉक्टरी इलाज ही है। हालांकि, जीवनशैली और खानपान की आदतों में बदलाव कर इसके जोखिम को कम जरूर किया जा सकता है । खासतौर पर अगर सिट्रस फल जैसे – संतरे और नींबू की बात की जाए, तो इनके सेवन से कैंसर से बचाव होता है ।

इसके अलावा, प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार नींबू जैसे सिट्रस फलों का सेवन करने से अग्नाशय के कैंसर से बचा जाता है। वहीं, एक अन्य अध्ययन के अनुसार, नींबू में मौजूद फ्लेवोनोइड्स एंटीकैंसर के रूप में काम करते हैं । साथ ही सिट्रस फलों में एंटी-ट्यूमर और केमोप्रीवेंटिव गुण भी मौजूद है .

3) बुखार के लिए ( Benefits of Lemons for fever )

बुखार होने के पीछे कई कारण होते हैं, जिसमें बैक्टीरियल और वायरल संक्रमण प्रमुख हैं । ऐसे में यहां नींबू का सेवन मददगार होता है। कई लोग बुखार के लिए घरेलू उपाय के तौर पर भी नींबू का उपयोग करते हैं । अगर बात करें नींबू के गुण की, तो यह विटामिन-सी से समृद्ध होता है और इससे बैक्टीरिया व वायरस के कारण होने वाले संक्रमण से बचाव करने में मदद मिलती है।

हालांकि, इस बारे में सटीक वैज्ञानिक शोध की कमी है, लेकिन जैसा कि इसमें विटामिन-सी है, तो रोग-प्रतिरोधक क्षमता में सुधार और बुखार से बचाव के लिए घरेलू उपाय के तौर पर नींबू का सेवन लाभकारी होता है। इसके अलावा, सामान्य गले की खराश के लिए भी नींबू का उपयोग किया जाता है  .

4) किडनी स्टोन के लिए ( Benefits of Lemons for Kidney stone )

जिन्हें किडनी स्टोन की शिकायत है, वो अपनी डाइट में नींबू को शामिल कर सकते हैं। दरअसल, नींबू में मौजूद सिट्रेट गुण पथरी को बनने से रोकता है। भले ही इसका नेचर एसिडिक हो, लेकिन शरीर में जाकर यह एल्कलाइन प्रभाव देता है और किडनी के लिए क्लींजर की तरह काम कर सकता है। ऐसे में भरपूर मात्रा में पानी के साथ-साथ नींबू पानी का सेवन भी लाभकारी हो सकता है। फिर भी बेहतर यही है कि इस बारे में डॉक्टरी सलाह जरूर ली जाए।

5) रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए ( Benefits of Lemons for Immunity )

अगर व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता यानी इम्यून पावर सही हो, तो व्यक्ति का शरीर बीमारियों के जोखिम से बच सकता है। ऐसे में विटामिन-सी रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार करने में काफी सहायक होता है। विटामिन-सी कई तरह की शारीरिक समस्याओं से शरीर का बचाव करता है। ऐसे में रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार करने, खुद को बीमारी से बचाव करने के लिए घरलू उपाय के तौर नींबू को आहार में शामिल किया जा सकता है।

6) लीवर के लिए ( Benefits of Lemons for Lever )

नींबू या नींबू रस के फायदे की बात की जाए, तो यह लिवर के लिए भी काफी फायदेमंद होता है। दरअसल,एक शोध में, अल्कोहल से प्रभावित लीवर पर नींबू की सुरक्षात्मक प्रतिक्रिया देखी गई है। इसका कारण नींबू में मौजूद हेपटॉपरटेक्टिव गुण को माना जाता है। इसके अलावा, एक अन्य शोध के अनुसार, बिना चीनी का फर्मेन्टेड नींबू जूस लिवर की सूजन और चोट में सुधार करने में सहायक होता है । दरअसल, ये शोध जानवरों पर किए गए हैं, ऐसे में इंसानों पर इसका कितना असर होगा, इस बारे में अभी और शोध की जरूरत है। हालांकि, लिवर को स्वस्थ रखने के लिए नींबू के जूस का सेवन किया जाता है।

7) ब्लड प्रेशर के लिए ( Benefits of Lemons for blood pressure )

नींबू में मौजूद विटामिन-सी ब्लड प्रेशर को संतुलित रखने का काम करता है । इसके अलावा, इसी विषय में किए गए शोध में यह भी पाया गया है कि नींबू का सेवन और नियमित वॉक करने से रक्तचाप का स्तर कम होता है । हालांकि, अगर कोई ब्लड प्रेशर की दवाइयों का सेवन कर रहा है, तो नींबू का उपयोग करने से पहले, एक बार डॉक्टरी सलाह भी जरूर लें।

8) बालों के लिए ( Benefits of Lemons for Hair )

बालों की बात करें, तो डैंड्रफ की समस्या काफी आम है। डैंड्रफ लगभग 50 प्रतिशत आबादी को प्रभावित करती है । ऐसे में बालों में नींबू का रस लगाने के फायदे में नींबू का रस डैंड्रफ कम करने के लिए एक आसान घरेलू उपाय होता है। नींबू स्कैल्प और बालों को स्वस्थ रखने में सहायक होता है । अब सवाल यह उठता है कि बालों में नींबू कैसे लगाएं, तो हम बता दें कि एक कटोरी में निम्बू का रस निकालें और रूई की मदद से लगाएं।

9) भूख बढ़ाने के लिए ( Benefits of Lemons for Increase Appetite )

1) 3 मिली नींबू का रस, 10 मिली चूने का पानी तथा मधु तीनों को मिलाएं। इसे 20-20 बूंद की मात्रा में लेने से भूख बढ़ती है।

2) नींबू के रस का सेवन करने से भूख न लगने की समस्या ठीक हो जाती है।

3) नींबू के शर्बत में दोगुना पानी और 1-2 नग लौंग के साथ काली मिर्च मिलाकर पीने से भूख बढ़ती है।

4)नींबू को काटकर काला नमक बुरक लें। इसे चाटने से भी भूख न लगने की समस्या ठीक हो जाती है।

5) एक नींबू के रस में थोड़ी अदरक एवं थोड़ा काला नमक मिलाकर सेवन करने से भूख बढ़ती है।

6) 5 मिली फल के रस में मधु, नारिकेलोदक और नमक मिलाकर सेवन करें। इससे भूख बढ़ती है.

10) लीवर संबंधित विकारों में लाभ

1) गुनगुने पानी में नींबू का रस (nimbu pani ke fayde) और मिश्री मिलाकर सुबह चाय की तरह पिएं। इससे लिवर सही तरह से काम करता है, और लिवर के विकार ठीक होते हैं।

2) नींबू फल के रस में बराबर मात्रा में पलाण्डु रस मिलाकर सेवन करने से लिवर संबंधित विकार ठीक हो जाते हैं।

3) 5-10 मिली नींबू रस में भुनी हुई 500 मिग्रा अजवायन, और स्वाद के अनुसार सेंधा नमक मिला लें। इसका सेवन करने से लिवर संबंधित रोगों में लाभ होता है।

नींबू का प्रयोग :

नीचे पढ़ें नींबू के फायदे के लिए इसका किन-किन तरीकों से उपयोग किया जाता है।

1) नींबू का उपयोग जूस के तौर पर किया जा सकता है।

2) नींबू के रस का उपयोग सलाद में किया जा सकता है।

3) नींबू की चाय पी सकते हैं।

4) नींबू का उपयोग सोडा या मोजितो बनाने में किया जा सकता है। कई लोग खाना खाने के बाद निम्बू पानी पीने के फायदे के लिए नींबू सोडा का सेवन करते हैं।

5) गैस की समस्या हो, तो आधे नींबू पर अजवाइन डालकर और फिर तवे पर उसे गर्म करके चाट सकते हैं।

6) नींबू का अचार बनाया जा सकता है।

7) नींबू का रस मुंहासों पर या स्ट्रेच मार्क्स पर लगा सकते हैं।

8) डैंड्रफ दूर करने के लिए भी कई लोग नींबू के रस का उपयोग करते हैं।

9) बालों में मेहंदी लगाते वक्त नींबू का रस डाल सकते हैं।

10) फ्रिज या माइक्रोवेव साफ करने के लिए नींबू का उपयोग किया जा सकता है।

11) कपड़ों को साफ करने के लिए भी नींबू के जूस का उपयोग किया जा सकता है।

नींबू पानी बनाने की विधि :

सामग्री

एक से दो गिलास पानी

1) एक नींबू

2) स्वादानुसार चीनी

3) स्वादानुसार काला नमक (वैकल्पिक)

4 )स्वादानुसार चाट मसाला (वैकल्पिक)

5) एक से दो बर्फ के टुकड़े (वैकल्पिक)

बनाने की विधि

1) सबसे पहले नींबू को दो टुकड़ों में काट लें।

2) अब पानी को किसी जग में निकाल लें और इसमें नींबू को निचोड़ लें।

3) फिर पानी में चीनी, काला नमक और चाट मसाला डालकर तब तक मिलाएं जब तक सभी सामग्री पानी में अच्छी तरह मिल न जाएं।

4) अब इसे छान लें और गिलास में बर्फ के टुकड़े डालकर सर्व करें ।

नींबू से चाय बनाने की विधि :

सामग्री

1) एक से दो कप पानी

2) अपनी पसंद का एक टी बैग

3) एक छोटा चम्मच नींबू का रस

4) एक चम्मच शहद

5) आधा चम्मच पुदीने के पत्ते (वैकल्पिक)

बनाने की विधि

1) पहले पानी को एक पैन में उबाल लें।

2) अब इसे एक कप में निकाल लें।

3) फिर इसमें टी बैग डालकर, थोड़ी देर रहने दें।

4) अब इसमें नींबू का जूस, पुदीने के पत्ते और शहद मिलाकर सेवन करें।

नींबू को लंबे समय तक सुरक्षित कैसे रखें |

1) सबसे पहले सही नींबू का चुनाव करें।

2) कभी भी नर्म और गले हुए नींबू न खरीदें।

3) भूरे रंग के धब्बे वाले नींबू न खरीदें।

4) ऐसे नींबू चुनें, जो चमकीले पीले हों।

5) अब नींबू को रूम टेम्प्रेचर पर रख सकते है। रूम टेम्प्रेचर पर रखने से नींबू कम से कम सात दिन सुरक्षित रह सकते हैं।

6) वहीं, फ्रिज में रखने से कई हफ्तों तक नींबू सुरक्षित रह सकते हैं।

Side effects of Lemon in Hindi

नींबू का अधिक सेवन दांत खट्टे कर सकता है।

संवेदनशील त्वचा वाले लोगों को स्किन पर नींबू के उपयोग से रैशेज या एलर्जी की समस्या हो सकती है 

 इसके साथ ही नींबू से फाइटोफोटोडर्माटाइटिस की समस्या भी हो सकती है

अगर किसी को नींबू से एलर्जी की समस्या है, तो उसे ओरल एलर्जी सिंड्रोम हो सकता है

For more details regarding the Lemon in Hindi: click here

नींबू क्या है?

नींबू की कई जातियां पाई जाती है, जैसे- कागजी नींबू बिजौरी नींबू, जम्मीरी नींबू, मीठा नींबू इत्यादि। औषधी के रूप में कागजी नींबू का ही प्रयोग करना चाहिए। इसका आकार छोटा या मध्यम होता है। इसका वृक्ष कांटों से युक्त, झाड़ीनुमा होता है। इसके फूल छोटे, सफेद अथवा गुलाबी रंग के होते हैं। फूलों से सुगंध आती है।

वजन कम करने के लिए नींबू कैसे उपयोगी है?

नींबू में मौजूद पॉलीफेनॉल्स बढ़ते मोटापे को नियंत्रित करते हैं। शरीर में अतिरिक्त फैट के जमने से रोकने के लिए ये पॉलीफेनॉल्स कारगर माने गए हैं। इसी विषय पर किए गए एक अन्य अध्ययन के अनुसार डिटॉक्स ड्रिंक के रूप में नींबू शरीर से फैट को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा, नींबू के रस का सेवन गुनगुने पानी के साथ करना और उपयोगी होता है। दरअसल, नींबू के रस का सेवन अगर गुनगुने पानी के साथ किया जाए, तो यह पाचन को बढ़ावा देता है और चयापचय दर में सुधार कर वजन कम करने में सहायक होता है।

बालों के लिए कैसे फायदेमंद है नींबू बताईये?

बालों की बात करें, तो डैंड्रफ की समस्या काफी आम है। डैंड्रफ लगभग 50 प्रतिशत आबादी को प्रभावित करती है । ऐसे में बालों में नींबू का रस लगाने के फायदे में नींबू का रस डैंड्रफ कम करने के लिए एक आसान घरेलू उपाय होता है। नींबू स्कैल्प और बालों को स्वस्थ रखने में सहायक होता है । अब सवाल यह उठता है कि बालों में नींबू कैसे लगाएं, तो हम बता दें कि एक कटोरी में निम्बू का रस निकालें और रूई की मदद से लगाएं।

नींबू से होने वाले Side Effects बताईये?

नींबू का अधिक सेवन दांत खट्टे कर सकता है।
संवेदनशील त्वचा वाले लोगों को स्किन पर नींबू के उपयोग से रैशेज या एलर्जी की समस्या हो सकती है 
 इसके साथ ही नींबू से फाइटोफोटोडर्माटाइटिस की समस्या भी हो सकती है
अगर किसी को नींबू से एलर्जी की समस्या है, तो उसे ओरल एलर्जी सिंड्रोम हो सकता है

किडनी स्टोन के लिए कैसे उपयोगी है नींबू ?

जिन्हें किडनी स्टोन की शिकायत है, वो अपनी डाइट में नींबू को शामिल कर सकते हैं। दरअसल, नींबू में मौजूद सिट्रेट गुण पथरी को बनने से रोकता है। भले ही इसका नेचर एसिडिक हो, लेकिन शरीर में जाकर यह एल्कलाइन प्रभाव देता है और किडनी के लिए क्लींजर की तरह काम कर सकता है। ऐसे में भरपूर मात्रा में पानी के साथ-साथ नींबू पानी का सेवन भी लाभकारी हो सकता है। फिर भी बेहतर यही है कि इस बारे में डॉक्टरी सलाह जरूर ली जाए।