मुलेठी के फायदे: Mulethi Benefits and Side Effects in Hindi

0
569
Benefits of Mulethi

मुलेठी के फायदे:- मुलेठी का इस्तेमाल मिठाई टूथपेस्ट पर पदार्थ के स्वाद बढ़ाने के लिए किया जाता है। इसके अतिरिक्त मुलेठी का इस्तेमाल दवाइयों में भी किया जाता है । मुलेठी की जड़ का इस्तेमाल जड़ी-बटी के रूप में किया जाता है। (मुलेठी के फायदे) मुलेठी में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। मुलेठी चीनी की तुलना में अधिक मीठी होती है। आज हम आपके साथ हमारे इस लेख के माध्यम से मुलेठी से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी जैसे मुलेठी होती क्या है ?, मुलेठी के फायदे, मुलेठी के नुकसान, मुलेठी के पोषक तत्व आदि पर चर्चा पर चर्चा करेंगे।

मुलेठी के फायदे

मुलेठी का वैज्ञानिक नाम Glycyrrhiza Glabra है। मुलेठी को अंग्रेजी में लिकोरिस कहा जाता है। मुलेठी का पौधा झाडी जैसा होता है।मुलेठी के पौधे की तने की छाल को सुखाकर इसका इस्तेमाल किया जाता है मुलेठी के तने में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं मुलेठी का Fabaceae कुल से संबंध रखती है।मुलेठी का पौधा लगभग डेढ़ मीटर से 2 मीटर ऊंचा होता है और इसकी जड़े लंबी झुरीदर और फैली हुई होती है। मुलेठी ऊंचाई स्थाने वाले वाले स्थानों पर उगाई जाती है। भारत के जम्मू कश्मीर देहरादून सहारनपुर में मुलेठी का उत्पादन किया जाता है। (मुलेठी के फायदे) और अरब, तुर्किस्तान, अफगानिस्तान में भी मुलेठी का उत्पादन किया जाता है।

मुलेठी के फायदे

Mulethi In Hindi

Nutrients of Mulethi

मुलेठी में कई पोषक तत्व उपस्थित होते है जैसे कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटैशियम, सोडियम, जिंक, कॉपर, सेलेनियम, थायमिन, राइबोफ्लेविन, नियासिन, विटामिन बी-6 आदि प्रचुर मात्रा में पाए जाते है। मुलेठी में ग्लिसराइज़िक एसिड, ग्लिसराइज़िन, आएसो लिक्विरिटन (एक प्रकार का ग्लाइकोसाइड स्टेराइड इस्ट्रोजन) (गर्भाशयोत्तेजक हारमोन), ग्लूकोज़ (लगभग 3.5 प्रतिशत), सुक्रोज़ (लगभग 3 से 7 प्रतिशत), रेज़ीन (2 से 4 प्रतिशत), स्टार्च (लगभग 40 प्रतिशत), उड़नशील तेल (0.03 से 0.35 प्रतिशत) आदि रसायन घटक प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।

मुलेठी के फायदे

Benefits of Mulethi

लिवर के लिए (Mulethi For Liver)

मुलेठी में एंटी ऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो मुक्त करो और विषाक्त पदार्थों के की वजह से लिवर संबंधित समस्याओं से छुटकारा दिलाने में सहायक होते हैं ।मुलेठी का इस्तेमाल करने से हेपटाइटिस की वजह से लिवर में होने वाली सूजन को भी कम किया जा सकता है। मुलेठी का सेवन करने से पीलिया, हेपेटाइटिस, गैर शराबी फैटी लिवर जैसी गंभीर बीमारियों का इलाज भी किया जा सकता है। (मुलेठी के फायदे) मुलेठी की जड़ का अर्क का सेवन करने से गैर शराबी फैटी लीवर के रोग के उपचार के लिए किया जाता है। मुलेठी की चाय से सेवन करने से के लिवर को स्वास्थ रखा जा सकता है।

श्वसन तंत्र में संक्रमण के लिए ( Mulethi For respiratory tract infections)

मुलेठी का सेवन करने से गले की खराश सर्दी खांसी और दमा के कारण श्वसन तंत्र में होने वाले संक्रमण का इलाज किया जा सकता है ।मुलेठी में एंटी इन्फ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो ब्रोक्लयर नलियो की सूजन को कम करने और वायु मार्ग को शांत करने में सहायक होते हैं ।

मुलेठी का सेवन करने से बलगम को निकालने में सहायता होती है। (मुलेठी के फायदे)और खांसी की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। इसके अतिरिक्त, मुलेठी में रोगाणु रोधी, जीवाणु रोधी, एंटीवायरल गुण भी मौजूद होते हैं, जो स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं से निजात दिलाने में सहायक होते हैं। श्वास संबंधित समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आप मुलेठी की जड़ की चाय का सेवन कर सकते हैं। गले में जलनहोने पर मुलेठी कैंडी का सेवन भी कर सकते हैं।

मुलेठी के फायदे

मुलेठी पाउडर के फायदे

Click Here–>> Jamun Ke Fayde

प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए (Mulethi For immune System)

मुलेठी हमारे शरीर में लिंफोसाइट्स और माइक्रोफेज जैसे रसायनों के उत्पादन करने में सहायक होती है, जो हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक होते हैं। इसके अतिरिक्त, मुलेठी में एंटीऑक्सीडेंट भी पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर में प्रतिरोधक क्षमता में सुधार लाने में सहायक होते हैं।

इसके अतिरिक्त, मुलेठी में एंटी वायरस, एंटी बैक्टीरियल और एंटी फंगल औषधीय गुण भी पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर को स्वस्थ रखने और संक्रमण से बचाने में सहायक होते हैं। (मुलेठी के फायदे)प्रतिरक्षा प्रणाली को स्वस्थ रखने के लिए आप मुलेठी की चाय का सेवन कर सकते हैं ।या फिर मुलेठी शहद और घी का मिश्रण बनाकर इसका सेवन कर सकते हैं।

पाचन के लिए (Mulethi For Digestion)

मुलेठी में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो कब्ज, अम्लता, सीने में जलन, पेट के अल्सर, पेट की अस्तर की सूजन जैसी समस्याओं से निजात दिलाने में सहायक होते हैं। मुलेठी में एंटी इन्फ्लेमेटरी और जीरा वरोधी औषधीय गुण पाया जाता है, जो पेट की सूजन कम करने और संक्रमण से पेट की अंदरूनी परत को बचाने में सहायक होता है ।मुलेठी का सेवन करने से पेट में होने वाले पेप्टिक अल्सर से भी छुटकारा पाया जा सकता है ।पेट संबंधित समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आप एक चम्मच मुलेठी पाउडर को एक कम गर्म पानी में डालकर सेवन कर सकते हैं।

वजन घटाने के लिए (Mulethi For weight loss )

मुलेठी में फ्लेवोनॉयड्स उपस्थित होते हैं, जो हमारे शरीर में अत्यधिक वसा संचय को कम करने में सहायक होते हैं ।मोटापे की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप मुलेठी का सेवन कर सकते हैं।  की अतिरिक्त चर्बी को कम किया जा सकता है। मुलेठी के तेल का सेवन करने से आप मोटापे की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। इसके अतिरिक्त आप मुलेठी की कैंडी का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

गठिया के लिए (Mulethi For arthritis)

मुलेठी में मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी और एनाल्जेसिक औषधीय गुण गठिया के कारण होने वाले दर्द और सूजन को कम करने में सहायक होते हैं। मुलेठी या मूली भुनी हुई मुलेठी का अर्क का सेवन करने से आप जोड़ों के दर्द से छुटकारा पा सकते हैं।मुलेठी की चाय का सेवन करने से गठिया के दर्द और सूजन को कम किया जा सकता है । (मुलेठी के फायदे) मुलेठी का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से एक बार सलाह जरूर लें।

मुख संबंधित समस्याओं के लिए (mulethi For Oral Health)

मुलेठी में जीवाणु रोधी और रोगाणुरोधी औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो कैविटी के कारण उत्पन्न होने वाले बैक्टीरिया को रोकते हैं, और पटिका को कम करने में सहायक होते हैं। मुलेठी का सेवन करने से बुरी सांसो  को रोका जा सकता है। और दांतों और मसूड़ों को मजबूत तथा स्वस्थ बनाने में सहायक होती है। मुलेठी की जड़ का के पाउडर का इस्तेमाल करने से आप मुख संबंधित  समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। आप इसे ब्रश करने के लिए या माउथवॉश करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

नासूर घावों के इलाज के लिए (Mulethi For the treatment of canker sores )

मुलेठी में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो लंबे समय तक ठीक ना होने वाले घाव को ठीक करने में सहायक होते हैं। मुलेठी का सेवन करने से पेट की समस्याओं के कारण होने वाले मुंह में छाले को ठीक करने में सहायक होते हैं। आप मुलेठी का सेवन पानी या शहद के साथ कर सकते हैं। यह पेट से संबंधित समस्याओं को ठीक करने में सहायक होता है, जिससे मुंह में छाले जैसी समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है।

मुलेठी का सेवन करने से सूजन और म्यूकोसा चिकित्सा के कारण नासूर घाव का इलाज भी किया जा सकता है। यह दाद जैसी समस्याओं से छुटकारा पाने में भी सहायक होते हैं। (मुलेठी के फायदे) 200 मिलीग्राम मुलेठी कैप्सूल का दिन में दो या तीन बार सेवन करने से आप इन सभी समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। या फिर आप मुलेठी पाउडर का दिन में 4 बार बुला कर सकते हैं।

रजोनिवृत्ति की समस्याओं के लिए (Mulethi For menopausal problems )

मुलेठी में मैं फाइटोएस्ट्रोजन इक योगिक पाया जाता है, जो हमारे शरीर में हार्मोन असंतुलन को नियंत्रित करने में सहायक होता है। जिससे रात को पसीना, अनिद्रा, डिप्रेशन आदि समस्याओं को कम किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त मुलेठी में मौजूद विटामिन बी एस्ट्रोजन तथा प्रोजेस्ट्रोन जैसे हार्मोन को विनियमित करने में सहायक होते हैं।

अवसाद के लिए (Mulethi For depression )

मुलेठी मे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो अवसाद की समस्या से छुटकारा दिलाने में सहायक होते हैं ।इसमें अधिवृक्क ग्रंथि के कार्य प्रणाली में सुधार लाने के लिए पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो घबराहट और अवसाद की समस्याओं से छुटकारा दिलाने में सहायक होते हैं। इसके अतिरिक्त, मुलेठी में मैग्निशियम, कैलशियम, बीटा कैरोटीन जैसे आवश्यक खनिज और फ्लेवोनॉयड्स पाए जाते हैं, जो अवसाद को दूर करने में सहायक होते हैं।

मुलेठी की चाय का सेवन करने से आप अवसाद की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। मुलेठी में सेरोटोनिन की समस्या को रोकने में सहायक होते हैं। यह समस्या रजोनिवृत्ति के पूर्व या बाद होती है।मुलेठी का सेवन करने से पहले अपने चिकित्सक से एक बार सलाह जरूर लें।

त्वचा के लिए (Mulethi Benefits For Skin)

मुलेठी को  Antioxidents का पावर हाउस कहा जाता है। मुलेठी में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर को निरोग बनाने में सहायता करते हैं ।मुलेठी का इस्तेमाल त्वचा संबंधित समस्याओं को दूर करने के लिए भी किया जाता है। (मुलेठी के फायदे) मुलेठी में मौजूद Antioxidents फ्री ऑक्सीजन रेडिकल के कारण त्वचा के होने वाले नुकसान को बचाने में सहायक होते हैं।

मुलेठी के फायदे

मुलेठी हमारे शरीर में वात और पित्त दोष के कारण त्वचा में उपलब्ध हानिकारक तत्वों को बाहर निकालने में भी सहायक होते हैं।  त्वचा संबंधित कई समस्याएं जैसे दाग धबबे होना, फोड़े फुंसी के इलाज के लिए आप मुलेठी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

मुलेठी का इस्तेमाल करने से आप Hypertension और Dark Circles की समस्याओं को दूर किया जा सकता है। जिससे दाग धब्बे हट जाते हैं और त्वचा लोइंग हो जाती है। आप मुलेठी के पेस्ट बनाकर भी इस्तेमाल कर सकती है। या फिर मुलेठी पाउडर को गुलाब जल या दूध में मिलाकर पेस्ट बनाएं और चेहरे पर लगाएं। इससे चेहरे की चमक बढ़ जाती है। यदि आपकी त्वचा ऑयली है, तो आप मुलेठी पाउडर में चंदन पाउडर और गुलाब जल मिलाकर पेस्ट बनाकर फेस मास्क भी लगा सकते हैं।

बालों के लिए (Mulethi For Hair)

मुलेठी का इस्तेमाल कहने से करने से सिर की स्कैल्प और हेयर फॉलिकल्स में रक्त संचार को बेहतर बनाया जा सकता है। जिससे बालों की जड़ें मजबूत होती है, और बालों का विकास भी होता है |(मुलेठी के फायदे) नियमित रूप से मुलेठी का सेवन करने से आप गिरते बालों की समस्याओं को दूर कर सकते हैं और (मुलेठी के फायदे) गंजेपन की समस्याओं से छुटकारा भी पा सकते हैं।

इसके अलावा आप कम उम्र में बालों का सफेद होने की समस्या से भी छुटकारा पा सकते हैं। मुलेठी के सेवन करने से आप बालों की स्कैल्प में कई प्रकार के होने वाले इन्फेक्शन से भी छुटकारा पा सकते हैं। मुलेठी का इस्तेमाल करने से बाल घने और लंबे हो जाते हैं।

Harmful Effects Of Mulethi

  • 2 सप्ताह से अधिक मुलेठी का अधिक मात्रा में सेवन करने से उच्च रक्तचाप द्रव प्रतिधारण चयापचय असमान्यताएं जैसे गंभीर समस्याएं सामने आ सकती है।
  • मुत्रल और उच्च रक्तचाप की दवाइयों के सेवन करने वाले लोगों को मुलेठी का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से एक बार सलाह जरूर लें।
  • यदि आप मधुमेह, गुर्दे की बीमारी या कम पोटेशियम स्तर की समस्याओं से परेशान है, तो आप मुलेठी का  सेवन करने से पहले अपनी डॉक्टर से सलाह जरूर लें ।
  • गर्भवती महिलाओं को मुलेठी का सेवन नहीं करना चाहिए।

For More Details Regarding Mulethi Benefits in Hindi: Click Here

मुलेठी की Harmful Effects बताईये?

➥ 2 सप्ताह से अधिक मुलेठी का अधिक मात्रा में सेवन करने से उच्च रक्तचाप द्रव प्रतिधारण चयापचय असमान्यताएं जैसे गंभीर समस्याएं सामने आ सकती है।
➥ मुत्रल और उच्च रक्तचाप की दवाइयों के सेवन करने वाले लोगों को मुलेठी का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से एक बार सलाह जरूर लें।
➥ यदि आप मधुमेह, गुर्दे की बीमारी या कम पोटेशियम स्तर की समस्याओं से परेशान है, तो आप मुलेठी का  सेवन करने से पहले अपनी डॉक्टर से सलाह जरूर लें ।
➥ गर्भवती महिलाओं को मुलेठी का सेवन नहीं करना चाहिए।

मुख संबंधित समस्याओं के लिए मुलेठी कैसे उपयगी है?

मुलेठी में जीवाणु रोधी और रोगाणुरोधी औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो कैविटी के कारण उत्पन्न होने वाले बैक्टीरिया को रोकते हैं, और पटिका को कम करने में सहायक होते हैं। मुलेठी का सेवन करने से बुरी सांसो  को रोका जा सकता है। और दांतों और मसूड़ों को मजबूत तथा स्वस्थ बनाने में सहायक होती है। मुलेठी की जड़ का के पाउडर का इस्तेमाल करने से आप मुख संबंधित  समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। आप इसे ब्रश करने के लिए या माउथवॉश करने के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं।

रजोनिवृत्ति की समस्याओं के लिए कैसे फायदेमंद है?

मुलेठी में मैं फाइटोएस्ट्रोजन इक योगिक पाया जाता है, जो हमारे शरीर में हार्मोन असंतुलन को नियंत्रित करने में सहायक होता है। जिससे रात को पसीना, अनिद्रा, डिप्रेशन आदि समस्याओं को कम किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त मुलेठी में मौजूद विटामिन बी एस्ट्रोजन तथा प्रोजेस्ट्रोन जैसे हार्मोन को विनियमित करने में सहायक होते हैं।