Top 10 Health Benefits of Aloe Vera Juice in Hindi ( एलोवेरा जूस के फायदे )

0
448
Benefits of aloe vera juice

Benefits of Aloe Vera Juice:- आप अगर स्किन प्रॉब्लम्स का लगातार सामना कर रहे हैं, तो सुबह उठकर खाली पेट एलोवेरा खाये, इससे न सिर्फ आपकी स्किन की समस्याएं दूर हो जाएंगी बल्कि आपके पेट, जोड़ों के दर्द की समस्या भी कुछ ही दिनों में ठीक हो जाएगी। एलोवेरा का ग्वारपाठा, घृत कुमारी, गिलोय भी कहा जाता है।

Benefits Of Aloe Vera Juice

Table of Contents

एलोवेरा को सौंदर्य निखार के लिए हर्बल कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स जैसे एलोवेरा जैल, बॉडी लोशन, हेयर जैल, स्किन जैल, शैंपू, साबुन में भी इस्तेमाल किया जाता है। एलोवेरा के जूस का सेवन करने से शरीर में होने वाले पोषक तत्वों की कमी को पूरा किया जा सकता है। इनमें 12 विटामिन, 18 अमीनो एसिड, 20 खनिज, 75 पोषक तत्व और 200 सक्रिय एंजाइम शामिल हैं।

इसके अलावा कई रासायनिक गुण खनिज कैल्शियम, जस्ता, तांबा, पोटेशियम, लोहा, सोडियम, मैग्नीशियम, क्रोमियम और मैंगनीज प्रचुर मात्रा में पाया जाता है और इसमें विटामिन के गुण भी भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं। ऐलोवेरा एक ऐसा पौधा है, जो आजकल हर घर में मिल जाता है. यह एक औषधि भी है, जिससे जुड़े कई घरेलू नुस्‍खे मौजूद हैं |

ऐलोवेरा का इस्तेमाल करने से स्किन से संबंधित समस्याओं, पेट से संबंधित कई बीमारियों, दांतों की समस्या, सिरदर्द, भूख न लगना जैसी दिक्कतों को बड़ी आसानी से दूर किया जा सकता है. इसमें प्रोटीन, विटामिन समेत एंटी-ऑक्‍सीडेंट भरपूर मात्रा में होते हैं, जो आपके शरीर को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं.

आपको भले विश्वास न हो लेकिन ऐलोवेरा का जूस पेट से संबंधित 200 से ज़्यादा बीमारियों को दूर करता है. ऐलोवेरा के जूस से रोग प्रतिरोधक क्षमता भी बढ़ती है. ऐलोवेरा का जूस पीने में भले ही थोड़ा कड़वा लगे लेकिन इसके फायदे अनेक हैं. बाज़ार में ऐलोवेरा के इन फायदों की वज़ह से ही कई फ्लेवर में ये जूस आसानी से मिलता है. ऐसे में इस स्वास्थ्यवर्धक जूस का सेवन आप आसानी से कर सकते हैं. एलोवेरा जूस हमारी सेहत और खूबसूरती दोनों के लिए ही फायदेमंद है। एलोवेरा को आयुर्वेद की भाषा में घृतकुमारी कहा जाता है और आयुर्वेद में घृतकुमारी का प्रयोग करके अनेक रोगों के लिए औषधियां बनाई जाती हैं। एलोवेरा कई प्राकृतिक गुणों से भरपूर है।

इसमें विटमिंस, मिनरल्स और ऐंटिऑक्सिडेंट्स का भंडार है। प्रकृति ने हमारी सेहत के लिए कई प्रकार की जड़ी-बूटियां तोहफे में दी हैं, उन्हीं में से एक है एलोवेरा। एलोवेरा के फायदे अनेक हैं, चाहे वो स्वास्थ्य के लिए हों, त्वचा के लिए हों या बालों के लिए। एलोवेरा भले ही एक छोटा-सा पौधा है, लेकिन इसके जूस के गुण जगजाहिर हैं।

एलोवेरा के जूस काे सिर्फ घरेलू नुस्खे की तरह ही इस्तेमाल किया जा सकता है। दादी के नुस्खे के इस आर्टिकल में हम बता रहे हैं एलोवेरा जूस के फायदे, उपयोग और नुकसान के बारे में। तमाम गुणों के बावजूद एलोवेरा का जूस कोई मेडिकल ट्रीटमेंट नहीं है। इसलिए, अगर कोई गंभीर रोग से पीड़ित है, तो एलोवेरा के जूस के भरोसे रहने की जगह डॉक्टर से इलाज जरूर करवाना सही विकल्प होता है।

एलोवेरा जूस पीने का तरीका

अधिकतर लोग हमेशा पेट में गैस बनने और खाने के न पचने की समस्या से ग्रसित रहते हैं। शरीर में पेट संबंधी कोई भी बीमारी हो तो आप सुबह 20 ग्राम एलोवेरा के रस में शहद और नींबू मिलाकर सेवन करें। यह पेट की बीमारी को दूर तो करता ही है, साथ ही साथ पाचन शक्ति को भी बढ़ाता है।

एलोवेरा जूस बनाने के लिए

एलोवेरा जूस बनाने के लिए पहले एक एलोवेरा काट लें। इसके बाद चाकू की मदद से इसका छिलका हटा दें और जैल को ग्राइंडर में निकाल लें। इसके बाद इसे 2-3 मिनट अच्छी तरह से ग्राइंड कर लें। आपका एलोवेरा जूस बनकर तैयार है। इसे आप ऐसे ही ताजा-ताजा पी लें।

benefits of aloe vera juice

अन्य भाषाओं में एलोवेरा के नाम (Name of Aloe Vera in Different Languages)

Aloe Vera in other Languages:-

1) Hindi – घीकुआँर, ग्वारपाठा, घीग्वार

2) English – एलो वेरा (Aloe vera), कॉमन एलो (Common aloe), बारबडोस एलो (Barbados aloe), मुसब्बार (Musabbar), कॉमन इण्डियन एलो (Common Indian aloe)

3) Sanskrit – कुमारी, गृहकन्या, कन्या, घृतकुमारी

4) Kannada – लोलिसर (Lolisar)

5) Gujarati – कुंवार (Kunwar), कड़वी कुंवर (Kadvi kunvar)

6) Tamil – कत्तालै (Kattale), अंगनी (Angani), अंगिनी (Angini)

7) Telugu – कलबन्द (Kalband), एट्टाकलाबन्द (Ettakalaband)

8) Bengali – घृतकुमारी (Ghritkumari)

9) Nepali – घ्यूकुमारी (Giukumari)

10) Punjabi – कोगर (Kogar), कोरवा (Korwa)

11) Malayalam – छोट्ठ कथलाइ (Chotthu kathalai)

12) Marathi – कोरफड (Korphad), कोराफण्टा (Koraphanta)

13) Arabic – तसाबार अलसी (Tasabrar alsi), मुसब्बर (Musabbar)

14) Persian – दरखते सिब्र (Darkhate sibre), दरख्तेसिन (arkhteesinn)

एलोवेरा जूस के फायदे – Benefits of Aloe Vera Juice in Hindi

एलोवेरा के फायदों के बारे में तो आप सभी जानते होंगे. एलोवेरा बाल, स्किन से लेकर पेट के लिए बहुत फायदेमंद है. एलोवेरा जेल चेहरे पर लगाने से दाग-धब्बे, पिंपल दूर हो जाते हैं और स्किन ग्लो करने लगती है. बालों पर एलोवेरा लगाने से रुखे बाल शाइन करने लगते हैं. इसके अलावा पेट से संबंधी कब्ज और पाचन की समस्या को भी एलोवेरा जूस पीने से दूर किया जा सकता है. लेकिन क्या आप जानते हैं एलोवेरा में ऐसा क्या होता है जो इतना फायदेमंद है. इस कटीले पौधे में आखिर इतने चमत्कारी गुण कैसे पाए जाते हैं |

1) मस्तिष्क स्वास्थ्य के लिए (Benefits of Aloe Vera Juice for health Brain )

एलोवेरा जेल में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाया जाता है, जो ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस को कम करने का काम करता है। साथ ही याददाश्त को बढ़ाने में भी मददगार साबित हो सकता है।

इसलिए, एलोवेरा जूस का उपयोग मस्तिष्क के लिए फायदेमंद माना जाता है। एक अन्य रिसर्च में पाया गया है कि ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस के कारण अल्जाइमर की समस्या भी हो सकती है, जो भूलने की बीमारी है। इस समस्या में भी एलोवेरा जूस का उपयोग फायदेमंद हो सकता है। एलोवेरा जूस में पाया जाने वाला एंटीऑक्सीडेंट प्रभाव ऑक्सिडेटिव स्ट्रेस के कारण होने वाली अल्जाइमर की समस्या में फायदेमंद होता है ।

2) अच्छे पाचन के लिए (Benefits of Aloe Vera Juice for Good digestion )

Benefits of aloe vera juice

पाचन संबंधी परेशानी होने पर कब्ज की समस्या होना आम बात है। वहीं, एलोवेरा जूस का उपयोग इस समस्या से छुटकारा दिलाने में मददगार हो सकता है। एक रिसर्च के अनुसार, एलोवेरा में लेक्सटिव प्रभाव पाया जाता है, जो कब्ज की समस्या को कुछ हद तक ठीक करता है। कब्ज के ठीक होने से पाचन संबंधी समस्या पर भी दूर हो सकती है। वहीं, एक अन्य रिसर्च में पाया गया कि एलोवेरा सिरप का उपयोग पाचन की एक गंभीर समस्या गैस्ट्रिक एसिड को कम करने में लाभदायक होता है। इसके साथ ही सीने में जलन, भोजन में गड़बड़ी, बदहजमी, पेट फूलना, जी मचलाना और एसिडिटी के कारण होने वाली समस्या में भी एलोवेरा के फायदे नजर आ सकते हैं।

3) हृदय स्वास्थ्य के लिए (Benefits of Aloe Vera Juice for health heart )

एलोवेरा के जेल का उपयोग हृदय को स्वस्थ रखने के लिए भी किया जा सकता है। इसकी पुष्टि चूहों पर किए गए एक शोध से होती है। यह शोध पर प्रकाशित किया गया है। इस रिसर्च पेपर के अनुसार, एलोवेरा जेल में कार्डियो प्रोटेक्टिव गुण पाए गए हैं। एलोवेरा में पाया जाने वाला यह गुण हृदय को स्वस्थ रखने और जोखिम से बचाने में मददगार होता है । वहीं, अगर किसी को हृदय संबंधी किसी भी तरह का रोग है, तो उसे घरेलू नुस्खों के साथ-साथ मेडिकल ट्रीटमेंट जरूर करवाना चाहिए।

4) पेट की बीमारी के लिए (Benefits of Aloe Vera Juice for Stomach disease )

Benefits of aloe vera juice

1) तकुमारी के औषधीय गुण से पेट के रोग में भी लाभ होता है। गूदे को पेट के ऊपर बांधने से पेट की गांठ बैठ जाती है। इस उपचार से आंतों में जमा हुआ मल भी आराम से बाहर निकल जाता है। एलोवेरा की 10-20 ग्राम जड़ को उबाल लें। इसे छानकर भुनी हुई हींग मिला लें। इसे पीने से पेट दर्द में आराम मिलता है।

2) एलोवेरा के 6 ग्राम गूदा और 6 ग्राम गाय का घी, 1 ग्राम हरड़ चूर्ण और 1 ग्राम सेंधा नमक लें। इसे मिलाकर सुबह-शाम खाने से वात विकार से होने वाले गैस की समस्या ठीक होती है।

3) गाय के घी में 5-6 ग्राम घृतकुमारी के गूदे में त्रिकटु सोंठ, मरिच पिप्‍प्‍ली, हरड़ और सेंधा नमक मिला लें। इसका सेवन करने से गैस की समस्या में लाभ होता है।

4) 60 ग्राम घृतकुमारी के गूदे में 60 ग्राम घी, 10 ग्राम हरड़ चूर्ण तथा 10 ग्राम सेंधा नमक मिला लें। इसे अच्छी तरह मिला लें।इसको 10-15 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम गुनगुने पानी के साथ सेवन करने से वात दोष से होने वाले पेट की गैस की समस्या से निजात मिलता है। इस पेस्‍ट का सेवन पेट से जुड़ी बीमारियों व वात दोष से होने दूसरे रोगों में भी फायदेमंद होता है।

5) खूबसूरती बढ़ाने के लिए (Benefits of Aloe Vera Juice for Enhance beauty )

दमकती त्वचा के लिए एलोवेरा एक वरदान की तरह होता है। त्वचा को माइश्चराइज करने के साथ-साथ यह त्वचा से जुड़ी कई बीमारियों को भी दूर रखता है। – एलोवेरा जूस को आप बालों की खूबसूरती बढ़ाने के लिए भी उपयोग में ला सकते हैं। इसके उपयोग से बाल घने, काले और मजबूत बनते हैं। साथ ही सिर में डेंड्रफ और किसी तरह के अन्य स्किन इंफेक्शन की समस्या नहीं होती है।

Benefits of aloe vera juice

6) बालों के लिए (Benefits of Aloe Vera Juice for Hair )

एलोवेरा में कुछ खास एंजाइम पाए जाते हैं, जो बालों के विकास को बढ़ावा देने का काम करते हैं। इसके अलावा, शोध में पाया गया कि एलोवेरा का उपयोग बालों के लिए कई प्रकार से फायदेमंद होता है। एलोवेरा जूस बालों का झड़ना, गंजापन, डैंड्रफ व एलोपेशिया एरीटा जैसी समस्या को दूर करने के साथ ही बालों का रंग निखारने और हेयर कंडीशनर के रूप में उपयोगी होता है । इसलिए, एलोवेरा के फायदे बालों के लिए भी हो सकते हैं। इसे पीने के साथ-साथ बालों और स्कैल्प पर भी लगाया जा सकता है।

7) त्वचा के लिए (Benefits of Aloe Vera Juice for Skin )

Benefits of aloe vera juice

एलोवेरा जेल का इस्तेमाल कई तरह की त्वचा संबंधी समस्याओं के लिए किया जाता है। एलोवेरा में एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है, जो त्वचा को किसी भी प्रकार के संक्रमण से बचाने में मदद करता है। साथ ही यह सूरजी की पराबैंगनी किरणों से भी सुरक्षित रखने का काम करता है । एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि एलोवेरा का उपयोग त्वचा की ड्राइनेस, मुंहासों, सूजन और एरिथेमा की समस्या में भी किया जा सकता है। इसलिए, एलोवेरा जूस के लाभ त्वचा के लिए भी माने जाते हैं।

8) कैंसर की समस्या के लिए (Benefits of Aloe Vera Juice for Cancer )

कैंसर एक जानलेवा बीमारी है। इसलिए, कैंसर से बचाव ही सबसे सही विकल्प है। वहीं, एलोवेरा का उपयोग कैंसर से बचाव में मददगार होता है। इस विषय पर हुए शोध में पाया गया कि एलोवेरा में एंटी-कैंसर गुण पाए जाते हैं। यह गुण कैंसर सेल को पनपने से रोकने में मदद करते हैं । साथ ही ध्यान रहे कि कैंसर की समस्या होने पर एलोवेरा को उपचार के रूप में उपयोग नहीं किया जा सकता है। इसके उपचार के लिए डॉक्टर द्वारा बताया गया ट्रीटमेंट ही सबसे सही होता है।

9) वजन कम करने के लिए (Benefits of Aloe Vera Juice for Lose weight )

शरीर में अतिरिक्त चर्बी बढ़ने के कारण मोटापे की समस्या हो सकती है। वहीं, एलोवेरा जूस का उपयोग मोटापे की समस्या से छुटकारा दिलाने में मददगार होता है। इस विषय पर हुए अध्ययन के मुताबिक एलोवेरा जूस में एंटी-ओबेसिटी प्रभाव पाया जाता है, जो शरीर के मोटापे को कम करने का काम करता है। इससे वजन को नियंत्रित करने में भी मदद मिलती है ।

एलोवेरा जूस के लाभ के लिए डॉक्टरी परामर्श के अनुसार इसकी निश्चित मात्रा का रोजाना सेवन किया जा सकता है। वजन कम करने के लिए एलोवेरा जूस के साथ-साथ संतुलित डाइट व प्रतिदिन व्यायाम भी जरूर करना चाहिए।

10) घाव और चोट के लिए (Benefits of Aloe Vera Juice for Wounds and injuries )

1) फोड़ा ठीक से पक न रहा हो तो एलोवेरा के गूदे में थोड़ा सज्जीक्षार और हरड़ चूर्ण मिलाकर घाव पर बांधें। इससे फोड़ा जल्दी पक कर फूट जाता है।

2) घृतकुमारी के पत्ते को एक ओर से छील लें। इस पर थोड़ा हरड़ का चूर्ण बुरक कर हल्‍का गर्म कर लें। इसे गांठ पर बांधें। इससे गांठों की सूजन दूर होगी।

3) स्त्रियों के स्तन में गांठ पड़ गई हो या सूजन हो गई हो तो एलोवेरा की जड़ का पेस्‍ट बना लें। इसमें थोड़ा हरड़ चूर्ण मिलाकर गर्म करके बांधने से लाभ होता है। इसे दिन में 2-3 बार बदलना चाहिए।

4) घृतकुमारी का गूदा घावों को भरने के लिए सबसे उपयुक्त औषधि है। रेडिएशन के कारण हुए गंभीर घावों पर इसके प्रयोग से बहुत ही अच्छा फायदा मिलता है।

एलोवेरा जूस को स्टोर कैसे करें

1) एलोवेरा जूस को एक एयर टाइट कंटेनर में रखकर फ्रिज में रख सकते हैं।

2) एलोवेरा जूस को नींबू के रस के साथ मिलाकर भी स्टोर करके रख सकते हैं।

कब-कब कर सकते हैं एलोवेरा का सेवन और इस्तेमाल

1) नियमित रूप से एलोवेरा के जूस का सेवन करने से शरीर में ब्लड सेल्स की संख्या बढ़ जाती हैं। जिससे खून की कमी यानी एनीमिया से छुटकारा मिल जाता है।

2) एलोवेरा जूस का नियमित सेवन करने से आपके शरीर से विषाक्त तत्व बाहर निकल जाते हैं। जिससे आपका पेट साफ रहने के साथ स्किन संबंधी समस्याओं से निजात मिल जाता है।

3) अगर आप हमेशा एसिडिटी, कब्ज आदि की समस्या से परेशान रहते हैं तो सुबह एलोवेरा जूस पिएं। इससे आपको लाभ मिलेगा।

4) अगर आप बुखार से परेशान हैं तो एलोवेरा काफी कारगर साबिदत हो सकता हैं। इसके लिए एलोवेरा की जड़ से काढ़ा बना लें। 10-20 मिलीग्राम काढ़ा को दिन में तीन बार पिलाने से बुखार ठीक होता है।

5) इम्यूनिटी बूस्ट करने के लिओ रोजाना सुबह इसका सेवन करें।

Side Effects of Aloe Vera Juice in Hindi

  • एलोवेरा जूस दस्त, पेशाब के रंग में परिवर्तन, हेपेटाइटिस (लीवर में इंफ्लेमेशन) और कब्ज की समस्या का कारण बन सकता है। इसके अलावा, एलोवेरा जूस का लंबे समय तक उपयोग कोलोरेक्टल कैंसर (पेट से जुड़ा कैंसर) के जोखिम को उत्पन्न कर सकता है।
  • गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को एलोवेरा जूस के सेवन से बचना चाहिए। यह गर्भावस्था के दौरान गर्भाशय संकुचन और स्तनपान के दौरान नवजात में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल से जुड़ी समस्या खड़ी कर सकता है।
  • कुछ लोगों की त्वचा संवेदनशील होती है। इसलिए, उन्हें एलोवेरा के प्रयोग से एलर्जी हो सकती है।
  • एलोवेरा में पीले रंग का तरल पदार्थ होता है, जिसे लैटेक्स कहते हैं। लैटेक्स हानिकारक हो सकता है। इसके सेवन से पेट में ऐंठन या दस्त की समस्या हो सकती है।

For more details regarding the Aloe Vera Juice in Hindi: click here

एलोवेरा किसे कहते है ?

आप अगर स्किन प्रॉब्लम्स का लगातार सामना कर रहे हैं, तो सुबह उठकर खाली पेट एलोवेरा खाये, इससे न सिर्फ आपकी स्किन की समस्याएं दूर हो जाएंगी बल्कि आपके पेट, जोड़ों के दर्द की समस्या भी कुछ ही दिनों में ठीक हो जाएगी। एलोवेरा का ग्वारपाठा, घृत कुमारी, गिलोय भी कहा जाता है। एलोवेरा को सौंदर्य निखार के लिए हर्बल कॉस्मेटिक प्रोडक्ट्स जैसे एलोवेरा जैल, बॉडी लोशन, हेयर जैल, स्किन जैल, शैंपू, साबुन में भी इस्तेमाल किया जाता है। एलोवेरा के जूस का सेवन करने से शरीर में होने वाले पोषक तत्वों की कमी को पूरा किया जा सकता है। इनमें 12 विटामिन, 18 अमीनो एसिड, 20 खनिज, 75 पोषक तत्व और 200 सक्रिय एंजाइम शामिल हैं।

अच्छे पाचन के लिए एलोवेरा कैसे उपयोगी है बताईये?

पाचन संबंधी परेशानी होने पर कब्ज की समस्या होना आम बात है। वहीं, एलोवेरा जूस का उपयोग इस समस्या से छुटकारा दिलाने में मददगार हो सकता है। एक रिसर्च के अनुसार, एलोवेरा में लेक्सटिव प्रभाव पाया जाता है, जो कब्ज की समस्या को कुछ हद तक ठीक करता है। कब्ज के ठीक होने से पाचन संबंधी समस्या पर भी दूर हो सकती है। वहीं, एक अन्य रिसर्च में पाया गया कि एलोवेरा सिरप का उपयोग पाचन की एक गंभीर समस्या गैस्ट्रिक एसिड को कम करने में लाभदायक होता है। इसके साथ ही सीने में जलन, भोजन में गड़बड़ी, बदहजमी, पेट फूलना, जी मचलाना और एसिडिटी के कारण होने वाली समस्या में भी एलोवेरा के फायदे नजर आ सकते हैं।

कैंसर की समस्या के लिए एलोवेरा के उपयोग बताईये?

कैंसर एक जानलेवा बीमारी है। इसलिए, कैंसर से बचाव ही सबसे सही विकल्प है। वहीं, एलोवेरा का उपयोग कैंसर से बचाव में मददगार होता है। इस विषय पर हुए शोध में पाया गया कि एलोवेरा में एंटी-कैंसर गुण पाए जाते हैं। यह गुण कैंसर सेल को पनपने से रोकने में मदद करते हैं । साथ ही ध्यान रहे कि कैंसर की समस्या होने पर एलोवेरा को उपचार के रूप में उपयोग नहीं किया जा सकता है। इसके उपचार के लिए डॉक्टर द्वारा बताया गया ट्रीटमेंट ही सबसे सही होता है।

एलोवेरा से होने वाले Side Effects बताईये?

एलोवेरा जूस दस्त, पेशाब के रंग में परिवर्तन, हेपेटाइटिस (लीवर में इंफ्लेमेशन) और कब्ज की समस्या का कारण बन सकता है। इसके अलावा, एलोवेरा जूस का लंबे समय तक उपयोग कोलोरेक्टल कैंसर (पेट से जुड़ा कैंसर) के जोखिम को उत्पन्न कर सकता है।
गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को एलोवेरा जूस के सेवन से बचना चाहिए। यह गर्भावस्था के दौरान गर्भाशय संकुचन और स्तनपान के दौरान नवजात में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल से जुड़ी समस्या खड़ी कर सकता है।
कुछ लोगों की त्वचा संवेदनशील होती है। इसलिए, उन्हें एलोवेरा के प्रयोग से एलर्जी हो सकती है।
एलोवेरा में पीले रंग का तरल पदार्थ होता है, जिसे लैटेक्स कहते हैं। लैटेक्स हानिकारक हो सकता है। इसके सेवन से पेट में ऐंठन या दस्त की समस्या हो सकती है।