Benefits of Fenugreek in Hindi। मेथी के फायदे

0
644
Benefits of Fenugreek

Benefits of Fenugreek:- मेथी हरी सब्जियों में से एक है। यह एक पत्तेदार सब्जियां होता है ।हम इसके पत्ते बीच का उपयोग खाने में कर सकते हैं। मेथी में आयरन, विटामिन, प्रोटीन प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। आज हम आपको मेथी से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी जैसे Benefits of Fenugreek, मेथी के नुकसान, मेथी क्या होती है?, मेथी कहां उगाई जाती है?, मेथी के पोषक तत्व आदि पर चर्चा परिचर्चा करेंगे।

Benefits of Fenugreek

मेथी एक औषधीय पौधा होता है। मेथी का उपयोग खाद्य पदार्थों और आयुर्वेदिक दवाइयों के लिए किया जाता है ।मेथी का वनस्पतिक नाम ट्रिगोनेला फॉनीम ग्रिंक है और यह फैबेसी कुल की है।मेथी का पौधा दो से 3 फीट लंबा होता है ।और इसके छोटे-छोटे फूल आते हैं और मूंग की दाल जैसे फल्ली आती है ।मेथी के बीज बिल्कुल छोटे छोटे होते हैं और स्वाद में कड़वी होती है।(Benefits of Fenugreek)

Benefits of Fenugreek

मेथी को अंग्रेजी में फेनुग्रीक, ग्रीक हे और ग्रीक क्लोवर भी कहा जाता है। इसके अलावा अन्य भाषाओं में मेथी मेथी दाना कहते हैं।मेथी भूमध्य सागरीय क्षेत्र जैसे दक्षिण यूरोप पश्चिम एशिया में उगाई जाती है। भारत में सबसे अधिक मेथी का उत्पादन किया जाता है। मेथी की खेती सर्दियों में की जाती है। हम मेथी का उपयोग परांठे सब्जी तथा अन्य कई तरीकों से कर सकते हैं । (Benefits of Fenugreek) हम मेथी के लड्डू बनाकर भी मेथी का सेवन कर सकते हैं।

Nutrients of Fenugreek in Hindi

मेथी में कई तरह के विटामिन्स, मिनरल्स, खनिज और अनेक प्रकार के पौष्टिक पोषक तत्व उपस्थित होते हैं। मेथी में मुख्य रूप से प्रोटीन, वसा, कार्बोहाइड्रेट, कैल्शियम, आयरन, फाइबर, मैग्नीशियम, फास्फोरस, पोटेशियम, सोडियम, जिंक, विटामिन सी, थायमिन, नियासिन, राइबोफ्लेविन, विटामिन-बी 6, विटामिन-ए, विटामिन K, फोलेट, ऊर्जा, एंटीओक्सीडेंट, सेलेनियम, एंटी इंफ्लेमेटरी तथा एन्टीबैक्टीयियल गुण प्रचुर मात्रा में मौजूद होते हैं।

Benefits of Fenugreek in Hindi

त्वचा के लिए(Fenugreek in Hindi For Skin)

मेथी में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो त्वचा को फ्री रेडिकल्स की क्षति से बचाने में सहायक होते है। एंटी एजिंग गुण भी पाए जाते हैं, जो झुर्रियों के अलावा जली हुई त्वचा को ठीक करने में भी सहायक होते है ।(Benefits of Fenugreek) इसके अतिरिक्त मेथी में एंटीबैक्टीरियल और एंटी इन्फ्लेमेटरी गुण पाया जाता है जो त्वचा पर मुहांसों और अन्य समस्याओं को दूर करने में सहायक होते हैं।

मेथी के बीज एक नेचुरल मॉइश्चराइजर के रूप में कार्य करते हैं। जो सूखी त्वचा से छुटकारा दिलाने में सहायक होते हैं। आप एक चम्मच मेथी पाउडर में दही मिलाकर पेस्ट बनाकर चेहरे पर 30 मिनट के लिए लगा कर रखे और फिर उसे ठंडे पानी से धो लें। ऐसा करने से आप मुंहासों की समस्या तथा तेलीय त्वचा से छुटकारा प्राप्त कर सकते हैं।

Benefits of Fenugreek

बालों के लिए (Fenugreek in Hindi For Hair)

मेथी के बीजों में प्रोटीन और निकोटीनिक एसिड उपस्थित होता है जो बालों को मजबूत बनाने तथा उन्हें टूटने की समस्या को कम करने में सहायक होती है। मेथी में प्रोटीन पाया जाता है जो बालों की जड़ों से झड़ने की समस्या को दूर करने और उनके पुनर्निर्माण करने में सहायक होता है।

इसके अतिरिक्त मेथी में लेसीथीन भी पाया जाता है जो बालों में नमी बनाए रखने में सहायक होते हैं।बालों से जुड़ी सभी समस्याओं से निजात पाने के लिए आप मेथी का इस्तेमाल कर सकते हैं ।(Benefits of Fenugreek)मेथी बालों के प्राकृतिक रंग को बनाए रखने में सहायक होती है तथा डैंड्रफ को भी कम करने में सहायक होती है।

मेथी पाउडर के 2 बड़े चम्मच को नारियल के दूध में मिलाने और पेस्ट बनाकर बालों पर लगाएं अब इसे कम से कम 30 मिनट के लिए बालों पर रहने दे। आधे घंटे पश्चात बालों को शैंपू से धो लें। ऐसा करने से आप बालों से जुड़ी सभी समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।

यह भी देखे –>> Jamun Benefits in Hindi। जामुन के फायदे

मधुमेह के लिए (Fenugreek in Hindi for Diabetes)

मेथी के बीज में ह्य्पोग्ल्य्सिमिक गुण मौजूद होता है, जो हमारेरक्त में शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में सहायक होताहै। इसके अतिरिक्त मेथी में उपस्थित फाइबर कार्बोहाइड्रेट और शुगर के अवशोषण को धीमा कर देते है। (Benefits of Fenugreek) मेथी के बीजों से बने हुए खाद्य प्रदार्थ का सेवन करने से इन्सुलिन को नियंत्रित किया जा सकता है।

एक गिलास पानी में 1 -2 चम्मच मेथी के बीज को भिगो कर रात भर के लिए छोड़ दे। अगले दिन सुबह, खाली पेट में मेथी के पानी को पी लें और मेथी के बीज को भी खा ले ।

स्तनपान कराने वाली महिलाओ के लिए (Fenugreek in Hindi For lactating women)

मेथी में फाइटोस्ट्रोजेन पाया जाता है जो स्तनपान कराने वाली माताओं में दूध उत्पादन को बढ़ावा देता है। इसके अलावा मेथी में गैलेक्टोगॉग्स (galactagogues) भी पाया जाता है(Benefits of Fenugreek) जो स्तन-दूध की मात्रा में बढ़ोतरी करने में सहायक होता है।मेथी का स्तनपान करवाने वाली महिलाओ के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

मेथी का सेवन करने से नवजात शिशु का वजन भी बढ़ाता है। मेथी में विटामिन और मैग्नीशियम पाया जाता है जो माता और शिशु के समग्र स्वास्थ्य में वृद्धि में सहायक होते हैं।

कोलेस्ट्रॉल को कम करने के लिए (Methi in Hindi for Cholesterol)

मेथी के बीज में नारिंगेनिन नामक एक फ्लैवोनॉयड पाया जाता है। यह हमारे शरीर में उच्च कोलेस्ट्रॉल की समस्या होने पर लिपिड स्तर को कम करके नियंत्रित करने में सहायक होता है।(Benefits of Fenugreek)मेथी में घुलनशील फाइबर भी पाए जाते है, जो पचे हुए खाने के चिपचिपेपन को बढ़ा करकोलेस्ट्रॉल के स्तर को कम करने में सहायक होते है।

हानिकारक कोलेस्ट्रॉल हमारे शरीर में रक्त-धमनियों में रुकावट पैदा कर सकता है और ऐसा होने पर दिल का दौरा या फिर स्ट्रोक जैसी गंभीर समस्याए उत्पन्न हो सकती है ।हानिकारक कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मेथी के बीज काफी फायदेमंद होते है।

हृदय के लिए (Fenugreek in Hindi for Heart)

मेथी के बीज में अच्छे एंटी-ऑक्सीडेंट एवं हृदय संरक्षण के लिए औषधीय गुण पाएं जाते हैं। मेथी हमारे शरीर में रक्त प्रवाह को नियमित कर ब्लड-क्लॉट की समस्या को दूर करने में सहायक होती है। यह रक्त-चाप को भी नियंत्रित करने में सहायक होता है। मेथी रक्त में लिपिड स्तर प को नियंत्रित कर atherosclerosis की समस्या होने की संभावना को कम करता है।

मेथी हृदय रोग के दो प्रमुख कारणों रक्त शर्करा और मोटापे​ को नियंत्रित करने में सहायक होती है।मेथी के बीज में 25% गैलेक्टोमैनन पाया जाता है। यह प्राकृतिक घुलनशील फाइबर होता है जो ह्रदय संबंधित रोगो को कम करने में सहायक होता है। हृदय संबंधित रोगो को ठीक करने के लिए आप मेथी के बीजो की चाय का सेवन कर सकते है।

कब्ज की समस्या के लिए (Fenugreek in Hindi for Constipation)

मेथी के बीजों में घुलनशील फाइबर उपस्थित होते है जो कब्ज की समस्या से छुटकारा दिलाने में बहुत सहायक होते है। मेथी अपच के कारण पेट में होने वाले दर्द से भी निजात दिलाने में सहायक होती है। (Benefits of Fenugreek)इसके अतिरिक्त मेथी पेट और आंतों की अम्लता, जलन एवं सूजन को कम करने में सहायक होती है।

मेथी प्राकृतिक पाचन टॉनिक के अनुरूप कार्य करता है। रोजाना सोने से पहले एक गिलास गर्म पानी में आधा चमच्च मेथी के बीज का पाउडर मिलाकर सेवन करने से आप कब्ज की समस्या से छुटकारा पा सकते है ।

सर्दी के लिए (Methi in Hindi for Cold)

मेथी के बीज में एंटी-ऑक्सीडेंट औषधीय गुण उपस्थित होता है। यह हमारे शरीर को फ्लू एवं सर्दी से लड़ने में सहायता करती हैं। (Benefits of Fenugreek)इसके अतिरिक्त मेथी में एंटीवायरल, जीवाणुरोधी और विभिन्न अन्य औषधीय गुण भी पाए जाते हैं जो आपकी बीमारियों से लड़ने में सहायता करते है।

मासिक धर्म के लिए (Methi in Hindi for Period Pain)

मेथी में कुछ एस्ट्रोजन सम्बंधित गुण पाए जाते हैं जो रजनोवृत्ति से जुड़े लक्षणों से आराम दिलाने में सहायक होता हैं। मेथी में हॉट फ्लैशेस, डिप्रेशन और मूड में उतार-चढ़ाव जैसे रजोनिवृत्ति के लक्षणों को कम करने में सहायक होते है। मेथी में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो रेड ब्लड सेल्स को बढ़ाने में सहायक होता है। यह हमारे शरीर में होने वाली खून की कमी को पूरा करने में सहायक होता है।

Benefits of Fenugreek

जोड़ों के दर्द के लिए (Methi in Hindi for Joint Pain)

मेथी के बीज में दिओस्जेनिन नामक पोषक तत्व पाया जाता है जो जोड़ों के दर्द से छुटकारा दिलाने में सहायक होती हैं। इसके अतिरिक्त, मेथी के बीज में आयरन, कैल्शियम एवं फॉस्फोरस उपस्थित होते है (Benefits of Fenugreek) जो हड्डियों को स्वस्थ एवं मजबूत बनाने में सहायक होता है। मेथी में एंटी-ऑक्सीडेंट एवं एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण जोड़ों में होने वाली सूजन को कम करने में सहायक होते हैं।

Side Effects of Fenugreek in Hindi

  •  मेथी का अधिक मात्रा में सेवन करने से उलटी और दस्त आदि हो सकते हैं।
  •  मेथी का उपयोग ध्यानपूर्वक करे क्योकि इसका अधिक मात्रा में एलर्जी या फिर जलन और चकत्ते की समस्या उत्पन्न हो सकते है।
  •  गर्भावस्था के दौरान मेथी के बीजो का सेवन न करे।
  • मेथी का अधिक मात्रा में सेवन करने पर अपच, सीने में जलन, गैस, सूजन और मूत्र गंध जैसी अन्यसमस्याए उत्पन्न हो सकती है।

For Details Regarding the Fenugreek in Hindi: Click Here

मेथी क्या है?

मेथी हरी सब्जियों में से एक है। यह एक पत्तेदार सब्जियां होता है ।हम इसके पत्ते बीच का उपयोग खाने में कर सकते हैं। मेथी में आयरन, विटामिन, प्रोटीन प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। आज हम आपको मेथी से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी जैसे Benefits of Fenugreek, मेथी के नुकसान, मेथी क्या होती है?, मेथी कहां उगाई जाती है?, मेथी के पोषक तत्व आदि पर चर्चा परिचर्चा करेंगे।

बालों के लिए कैसे उपयोगी है?

मेथी के बीजों में प्रोटीन और निकोटीनिक एसिड उपस्थित होता है जो बालों को मजबूत बनाने तथा उन्हें टूटने की समस्या को कम करने में सहायक होती है। मेथी में प्रोटीन पाया जाता है जो बालों की जड़ों से झड़ने की समस्या को दूर करने और उनके पुनर्निर्माण करने में सहायक होता है।
इसके अतिरिक्त मेथी में लेसीथीन भी पाया जाता है जो बालों में नमी बनाए रखने में सहायक होते हैं।बालों से जुड़ी सभी समस्याओं से निजात पाने के लिए आप मेथी का इस्तेमाल कर सकते हैं ।मेथी बालों के प्राकृतिक रंग को बनाए रखने में सहायक होती है तथा डैंड्रफ को भी कम करने में सहायक होती है।

मधुमेह के लिए कैसे फायदेमंद है?

मेथी के बीज में ह्य्पोग्ल्य्सिमिक गुण मौजूद होता है, जो हमारेरक्त में शुगर के स्तर को नियंत्रित करने में सहायक होताहै। इसके अतिरिक्त मेथी में उपस्थित फाइबर कार्बोहाइड्रेट और शुगर के अवशोषण को धीमा कर देते है। मेथी के बीजों से बने हुए खाद्य प्रदार्थ का सेवन करने से इन्सुलिन को नियंत्रित किया जा सकता है।
एक गिलास पानी में 1 -2 चम्मच मेथी के बीज को भिगो कर रात भर के लिए छोड़ दे। अगले दिन सुबह, खाली पेट में मेथी के पानी को पी लें और मेथी के बीज को भी खा ले ।

जोड़ों के दर्द के लिए कैसे उपयोगी है?

मेथी के बीज में दिओस्जेनिन नामक पोषक तत्व पाया जाता है जो जोड़ों के दर्द से छुटकारा दिलाने में सहायक होती हैं। इसके अतिरिक्त, मेथी के बीज में आयरन, कैल्शियम एवं फॉस्फोरस उपस्थित होते है जो हड्डियों को स्वस्थ एवं मजबूत बनाने में सहायक होता है। मेथी में एंटी-ऑक्सीडेंट एवं एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण जोड़ों में होने वाली सूजन को कम करने में सहायक होते हैं।

मेथी के Side Effects बताईये?

 मेथी का अधिक मात्रा में सेवन करने से उलटी और दस्त आदि हो सकते हैं।
 मेथी का उपयोग ध्यानपूर्वक करे क्योकि इसका अधिक मात्रा में एलर्जी या फिर जलन और चकत्ते की समस्या उत्पन्न हो सकते है।
 गर्भावस्था के दौरान मेथी के बीजो का सेवन न करे।
मेथी का अधिक मात्रा में सेवन करने पर अपच, सीने में जलन, गैस, सूजन और मूत्र गंध जैसी अन्यसमस्याए उत्पन्न हो सकती है।