Top 10 Amazing Health Benefits of Jasmine and Jasmine oil in Hindi ( चमेली और चमेली के तेल के फायदे )

0
278

benefits of jasmine flowers | चमेली के तेल के फायदे | benefits of jasmine plant in bedroom | jasmine leaves benefits | benefits of jasmine plant in house | benefits of jasmine for hair | benefits of jasmine oil for hair | jasmine leaves benefits | jasmine oil benefits |

Benefits of Jasmine Flowers

चमेली के फूलों में मॉइश्चुराइजिंग और हीलिंग गुण होते हैं, जिसका इस्तेमाल चेहरे की स्किन को तरो-ताजा रखने में (Benefits of Jasmine Flowers) कर सकते हैं। चमेली के फूलों का लेप ऑयल में मिलाकर चेहरे पर लगाने से चेहरे की चमक बनी रहती है। इस लेख में चमेली के फूल के बारें में जानेगे। चमेली के फूल को भारत के अलावा कई अन्य देशो में भी अति लोकप्रिय माना जाता है, इस फूल को भारत में रात की रानी का फूल भी कहा जाता है। इसका सबसे बड़ा कारण है, इसकी सुगंध और चमेली के फायदे। इस फूल के अंदर से एक मनमोह लेने वाली खुशबु निकलती है।

जो की हमारे आस पास के पुरे वातावरण को पूरी तरह से महकाकर आनंदमय बना देती है। इस फूल का रंग और आकर दोनों ही शानदार होते है। आज हम इससे जुड़ी सभी जानकारी आपको बताने वाले है। मुझे पूरी उम्मीद है, की अगर आप इस लेख को पूरा पढ़ते हैं, तो जैस्मिन के फूल की जानकरी ले लिए आपको कोई और लेख पड़ने की आवश्यकता नहीं (Benefits of Jasmine Flowers) पड़ेगी, तो चलिए जानते है, चमेली के फूल की जानकारी चमेली एक ऐसा फूल है जो रात में खिलता है और इसकी खुशबू सुखदायक और विदेशी होती है। इस फूल की गंध आत्मविश्वास को बढ़ाने और शरीर में ऊर्जा को संतुलित करने के लिए जानी जाती है।

रोमांस और आकर्षण के लिए इस नाजुक फूल का उपयोग युगों से होता आ रहा है। चमेली का तेल तैयार करने के लिए फूलों की एक बड़ी संख्या लगती है और इसलिए यह महंगा है और इसकी सबसे ज्यादा मांग भी है। गर्मियों के मौसम में स्‍किन और हेयर की केयर करना थोड़ा मुश्‍किल होता है। अगर आप इन्‍हें नेचुरल तरीके से फायदा पहुंचाना ( Benefits of Jasmine Flowers) चाहती हैं, तो मोगरे के फूल को अपने ब्‍यूटी केयर रूटीन में शामिल करें। मोगरे का फूल कई मायनों में फायदेमंद है। औषधीय गुणों से भरपूर होने के कारण सदियों से ही इसका उपयोग किया जाता है। खासतौर से एशियाई और पूर्वी संस्कृतियों में लंबे समय से इसका इस्तेमाल किया जाता रहा है। मोगरे की अनोखी खुशबू हर किसी को प्रभावित करती है। यह फूल बालों और चेहरे के लिए बेहद लाभकारी है। यह न सिर्फ डियोड्रेंट के रूप में इस्तेमाल किया जाता है बल्कि त्वचा और बालों से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करने में भी मदद करता है।

मोगरे की खुशबू मूड को बेहतर बनाती है और दिमाग को तरोताजा रखती है। मोगरे का इस्तेमाल ऑयल के रूप में किया जाता है। इसमें कीटोन की सांद्रता कम होती है। यह सौम्य और सुगंधित खुशबू प्रदान करता है और नैचुरल डियोड्रेंट का काम करता है। बहुत से लोगों को चाय पीने का शौक होता है. भारत एक ऐसा देश है (Benefits of Jasmine Flowers) जहां कई तरह की चाय का सेवन किया जाता है. यहां ग्रीन टी, ब्लैक टी आदि का सेवन किया जाता है. ऐसे में आज हम आपको एक खास चाय के बारे में बताने जा रहे हैं जो आपने शायद कभी नहीं पी होगी. जी हां हम बात कर रहे हैं जैस्मिन टी की. ग्रीन टी की तरह ही जैस्मिन टी भी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद होता है. फिटनेस एक्सपर्ट्स का मानना है कि इन खास तरह की चाय से हमें ऊर्जा, ताजगी और वजन कम करने में मदद मिल सकती है. इसमें ऐसे तत्व मौजूद होते हैं, जो हमारी सेहत के लिए बहुत जरूरी हैं. चमेली या जैस्मिन सफेद रंग का खुशबूदार फूल है जिसकी खुशबू मन में समा जाती है।

 

जी हां यूं तो चमेली का फूल अच्‍छी खुशबु के लिए जाना जाता है। जिससे आसपास का वातावरण महक जाता है। साथ ही चमेली का फूल ताजगी भी महसूस करवाता है। आपने देखा होगा कि अक्‍सर महिलाएं इसके बने गाजरे का इस्‍तेमाल बालों में करती हैं। लेकिन क्‍या आप जानती हैं कि चमेली का फूल सुंदरता के लिए भी लाभदायक होता है। आपने कभी सोचा नहीं होगा कि आपके बगीचे में खिलने वाला यह साधारण (Benefits of Jasmine Flowers) सा फूल आपकी खोई हुई रंगत को वापस लाने में मदद करता है। जी हां, इस फूल का इस्‍तेमाल करके आप अपनी ब्यूटी ट्रीटमेंट कर सकती हैं। सबसे अच्‍छी बात ये फूल आपको आपके घर के बगीचे या फिर मार्केट में आसानी से मिल जाएगा। इस फूल से आप अपने त्‍वचा की कई समस्‍याओं को दूर कर सकती हैं। चमेली के फूल में भरपूर मात्रा में एंटीमाइक्रोबियल और एंटीसेप्टिक गुण पाए जाते हैं। जी हां चमेली के फूल खूबसूरती बढाने का बहुत अच्छा तरीका हैं, क्योंकि इसमें नेचुरल मॉइश्‍चराइजर पाया जाता है जो त्वचा के लिए बेहद अच्छा होता है। आज हम आपको कुछ ऐसे ही तरीके बताने जा रहे हैं जिससे आपके चेहरे का निखार दोगुना हो जाएगा। चमेली के पौधे या फूल से आप सभी परिचित होते हैं। चमेली के फूल जितने खूबसूरत होते हैं उतने ही सुगंधित भी होते हैं।

चमेली के फूलों से इत्र और तेल भी बनाया जाता है। क्या आप को पता है कि चमेली एक जड़ी-बूटी भी है, और चमेली के पौधे में कई सारे औषधीय गुण भी हैं। क्या आप यह जानते हैं कि कान दर्द, सिर दर्द, जीभ की सूजन और मोतियाबंद जैसी बीमारियों में चमेली के इस्तेमाल से फायदे मिलते हैं। इतना ही नहीं, मुंह के अनेक रोग, एड़ियों के (Benefits of Jasmine Flowers) फटने, और कान बहने पर भी चमेली के औषधीय गुण से लाभ मिलता है। आयुर्वेद में चमेली के गुण के बारे में कई सारी अच्छी बातें बताई गई हैं जो आपको जानना जरूरी है। आप पेट में कीड़े होने पर, एसीडिटी, रक्तपित्त में चमेली के औषधीय गुण के फायदे ले सकते हैं। इसके अलावा आपप बुखार, घाव, और वात दोष में भी चमेली से लाभ ले सकते हैं। आइए यहां एक-एक कर जानते हैं कि चमेली के सेवन या उपयोग करने से कितनी सारी बीमारियों में फायदा होता है, साथ ही यह भी जानते हैं कि चमेली से क्या-क्या नुकसान हो सकता है।

चमेली क्या है ( What is Chameli in Hindi? )

चमेली का एक पौधा आठ से पद्रह वर्षों तक फूल देता है। इसके फूलों की गंध इतनी अच्छी और मनोहारिणी होती है कि निराश हृदय में खुशी की लहर उठने लगती है। इसी गुण के कारण इसे सुमना, हृद्यगंध, चेतिका इत्यादि नाम भी दिए गए हैं। फूल के भेद के अनुसार इसकी दो जातियाँ पाई जाती हैं, जो निम्न हैं. चमेली का जिक्र आते ही जहन में इसके फूलों की भीनी-भीनी और मीठी सुगंध मन को (Benefits of Jasmine Flowers) सराबोर करने लगती है। वहीं बात करें चमेली के तेल की, तो इसका उपयोग भी सदियों से सेहत, त्वचा और बालों से जुड़ी कई समस्याओं से राहत पाने के लिए किया जाता रहा है।

Benefits of Jasmine Flowers

1) Jasminum grandiflorum >>>> इसके फूल सफेद होते हैं।

2) Jasminum humile Linn >>>>> से स्वर्ण जाति कहते हैं। लैटिन में इसका नाम है। इसके फूल पीले सुंगन्धित होते हैं। इस पौधे में झाड़ीदार अनेक शाखाएं होती हैं। इसकी पत्तियां चमकीले हरे रंग की होती है। पत्ते विभिन्न आकार के होते हैं। इसके फूल पीले रंग के और सुगन्धित होते हैं।

क्या है जैस्मिन टी

चमेली की चाय हर्बल चाय के समान लाभ प्रदान करती है, लेकिन यह एक सुगंधित चाय है, जो विशिष्ट रूप से ताज़ा खुशबू और स्वाद देती है. जैस्मीन टी यानि चमेली की चाय की उत्पत्ति चीन में एक शाही चाय के रूप में हुई थी, लेकिन सांस्कृतिक निर्यात के साथ, यह जल्द ही दुनिया के अन्य हिस्सों में पहुंच गई. चमेली की चाय में शक्तिशाली (Benefits of Jasmine Flowers) टीऑक्सिडेंट होते हैं, जो आपके सिस्टम को साफ करने और उसे डिटॉक्‍सीफाई करने में मदद करते हैं.

अन्य भाषाओं में चमेली के नाम ( Name of Chameli in Different Languages )

Chameli in

1) Hindi- चमेली, चम्बेली, चंबेली

2) English- Spanish jasmine (स्पैनिश जैसमिन), कैंटालोनियन जैस्मिन (Catalonian jasmine) रॉयल जैस्मिन

3) Sanskrit- जनेष्टा, सौमनस्यनी, जाति, सुमना, चेतिका, हृद्यगन्धा, राजपुत्रिका

4) Oriya- मालोतो (Maloto), जयफूलो (Jaiphulo)

5) Urdu- चम्बेली (Chambeli); यास्मीन (Yasmeen)

6) Kannada- मल्लिगे (Mallige)

7) Gujarati- चम्बेली (Chambeli), चमेली (Chameli)

8) Tamil- कोडीमल्लीगई (Kodimalligai), पिच्ची (Pichi)

9) Telugu- जाजी (Jaji), मालती (Malati)

10) Bengali- चमेली (Chameli), जाति (Jati)

11) Nepali- लहरे चमेली (Lehre chameli)

12) Punjabi- चम्बा (Chamba), जाती (Gati)

13) Marathi- चमेली (Chameli)

14) Malayalam- पिचकम (Pichakam), पिक्कामूला (Piccakamula)

15) Arabic- यास्माईन (Pasmain)

16) Persian- याशिम (Yashim)

चमेली के फायदे – Benefits of Jasmine in hindi

1) ड्राए स्किन के लिए ( Benefits of Jasmine for dry skin )

बहुत सी महिलाएं ऐसी भी होत हैं जिनकी त्‍वचा डिहाइड्रेशन की वजह से ड्राए हो जाती है। वैसे त्‍वचा को हाइड्रेटेड रखने के लिए सबसे ज्‍यादा जरूरी है कि आप ज्‍यादा से ज्‍यादा मात्रा में पानी पीएं और ऐसे फल खाएं जो त्‍वचा को हाइड्रेटेड रखें। त्वचा संबंधित विकारों के लिए कुछ एसेंशियल ऑयल पर किए गए एक शोध में पाया गया कि (Benefits of Jasmine Flowers) चमेली के तेल का उपयोग त्वचा के सूखेपन, अत्यधिक तैलीय त्वचा और सोराइसिस जैसे त्वचा संबंधित विकारों को दूर करने में भी लाभदायक साबित होता है। इस कारण यह कहा जाता है कि चमेली का तेल अन्य समस्याओं के साथ-साथ त्वचा के लिए भी फायदेमंद साबित होता है।

2) बालों के लिए ( Benefits of Jasmine for Hair )

10-15 मोगरे के फूल को पानी में भिगोकर पानी बनाएं। इस पानी से बालों को धोने से बाल मुलायम होते हैं। इस पानी में बेकिंग सोडा मिलाकर शैंपू और कंडीशनर के रुप में इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके अलावा बालों में इसका तेल लगाने से बाल घुंघराले होते हैं। त्वचा के साथ-साथ चमेली तेल के फायदे बालों के लिए भी फायदेमंद साबित होते हैं। दरअसल, बालों के झड़ने के कई कारण होते हैं, जिनमें चिंता,( Benefits of Jasmine Flowers) तनाव और स्कैल्प पर बैक्टीरियल इन्फेक्शन भी शामिल हैं। वहीं लेख में हम पहले भी बता चुके हैं कि चमेली के तेल में मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण त्वचा संबंधी कई समस्याओं को दूर करने में मदद करते हैं। साथ ही यह तेल अवसाद को ठीक करने और मूड को बदलने का काम भी कर सकता है, जिसका सकारात्मक प्रभाव चिंता और तनाव की स्थिति को कम करने में मदद करता है।

3) कान के बहने के लिए ( Benefits of Jasmine for ear drops )

कान में अगर दर्द हो और कान से मवाद निकलती हो तो चमेली के 20 ग्राम पत्तों को तिल के 100 मिली तेल में उबाल लें। इसे छानकर कान में 1-1 बूंद डालें। इससे कान का बहना बंद हो जाएगा। चमेली के तेल में एलुवा मिला के कान में डालने से कान में होने वाली खुजली खत्म हो जाती है। चमेली के पत्तों के 5 मिली रस में 10 मिली गोमूत्र (Benefits of Jasmine Flowers) मिलाकर गुनगना कर लें। इसे कान में डालने से कान का दर्द ठीक होता है।

4) मुंह के रोग के लिए ( Benefits of Jasmine for diseases of the mouth )

चमेली के 25 से 50 ग्राम पत्तों का काढ़ा बना लें। इसे गले में रखें। इसके साथ ही पत्तों को चबाने से मुंह के छालों और मसूड़ों के विकारों में लाभ होता है। बड़ के पीले पत्ते, चमेली, लाल चन्दन, कूठ, कालीयक चंदन और लोध्र को पीस लें। इससे मुंह पर लेप करें। इससे मुंह पर होने वाले मुंहासे, फोड़े-फुंसी ठीक हो जाते हैं। चमेली के 10-20 फूलों को पीसकर चेहरे पर लेप करने से चेहरे की कान्ति बढ़ती है। चमेली की (Benefits of Jasmine Flowers) जाति के पत्ते, सुपारी और शीतल चीनी के चूर्ण में थोड़ा कपूर मिला लें। इसे जल की भावना देकर 250 मिग्रा की गोली बना लें। 1-1 गोली सुबह और शाम सेवन करें। इससे मुंह के सभी रोगों में लाभ होता है।

5) नपुंसकता के इलाज के लिए ( Benefits of Jasmine for impotence )

चमेली के फूल और पत्ते के रस को तेल में पका लें। इस तेल की मालिश करने से नपुसंकता में लाभ होता है। चमेली की जड़ को पीसकर लिंग (इन्द्रिय) पर लेप करने से संभोग शक्ति की कमी और नपुंसकता में लाभ होता है। चमेली के पत्ते के रस को तेल में पका लें। 10 मिली तेल में 2 ग्राम राई को(Benefits of Jasmine Flowers) पीसकर लिंग (मूत्रेंद्रिय), कमर, और जांघों पर लेप करें। इससे नपुंसकता का इलाज होता है। यह लेप बहुत असरदायक है। इसलिए इसका प्रयोग सावधानीपूर्वक करना चाहिए। चमेली के 5-10 फूलों को पीसकर लिंग (कामेद्रियों) पर लेप करें। इससे संभोग शक्ति बढ़ती है।

6) सिफलिस रोग के लिए ( Benefits of Jasmine for syphilis disease )

चमेली के पत्तों के 20 मिली रस और राल का चूर्ण लें। दोनों को मिलाकर 125 मिग्रा की मात्रा में रोज पीने से सिफलिस (उपदंश) रोग में लाभ होता है। इस दौरान सिर्फ गेहूँ की रोटी, दूध, चावल और घी, शक्कर का ही प्रयोग करना चाहिए। चमेली के पत्तों का काढ़ा बनाकर सिफलिस (उपदंश) वाले घाव को धोएं। इससे लाभ होता है। चमेली के पत्तों से काढ़ा बनाकर सुखा लें। इसे सुखोष्ण काढ़ा से घाव को (Benefits of Jasmine Flowers) धोने से फायदा होता है। त्रिफला के सुखोष्ण काढ़ा से अवगाहन करने से भी लिंग (मूत्रेंद्रिय) का तेज दर्द खत्म होता है।

7) चर्म रोग के इलाज के लिए ( Benefits of Jasmine for skin diseases )

चमेली का तेल चर्म रोगों की एक अचूक और चमत्कारिक दवा है। इसको लगाने से सब प्रकार (Benefits of Jasmine Flowers) के जहरीले घाव, खाज, खुजली इत्यादि रोग बहुत जल्दी ठीक हो जाते हैं। चमेली के 8-10 फूलों को पीसकर लेप करें। इससे चर्मरोग और रक्तविकार के कारण होने वाले त्वचा के रोगों में लाभ होता है। चमेली की जड़ को पीसकर लेप करने से दाद का इलाज होता है।

8) स्किन इंफैक्‍शन में बचाव के लिए ( Benefits of Jasmine for skin infection )

विंटर सीजन में स्किन में सबसे ज्‍यादा ड्राईनेस की समस्‍या आती है, जिससे पिंपल भी हो जाते हैं। इससे राहत पाने के लिए कई महिलाएं बाजार में मौजूद महंगे प्रोडक्‍ट्स का इस्‍तेमाल भी करती हैं मगर इससे उन्‍हें कुछ समय के लिए भले ही राहत मिल जाए मगर लॉन्‍ग टर्म के लिए वह पिपंल से नहीं बच पातीं। इस कंडीशन में अगर आप जैस्मिन (Benefits of Jasmine Flowers) ऑयल का प्रयोग करें तो शायद आपको पिंपल और स्किन इंफैक्‍शन की प्रॉब्‍लम से जल्‍दी और बेहतर तरीके से राहत मिल सकती है। सर्दियों के मौसम में बालों के साथ ही त्‍वचा की देखभाल भी बहुत जरूरी है क्‍योंकि इस मौसम में धूल मिट्टी और कोहरे से त्‍वचा को काफी नुकसान पहुंचता है और इस वजह से कई तरह के स्किन इंफैक्‍शन भी हो जाते हैं मगर थोड़ी केयर की जाए तो इससे बचा जा सकता है।

चमेली के तेल का उपयोग ( How to Use Jasmine oil in Hindi )

चमेली के तेल को त्वचा पर मालिश करने के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता है। हालांकि, चमेली के तेल को सीधे त्वचा पर उपयोग करने से बेहतर है कि इसे किसी अन्य तेल के साथ मिलाकर त्वचा पर उपयोग किया जाए। चमेली के तेल को सिर पर लगाने के लिए इस्तेमाल में ला सकते हैं। वहीं मुंह के संक्रमण से बचाव के लिए चमेली के तेल को कुल्ला करने के लिए माउथवाश की तरह प्रयोग (Benefits of Jasmine Flowers) में ला सकते हैं। वहीं आप चाहें तो रूम डिफ्यूजर में भी इसे इस्तेमाल में ला सकते हैं।

Side Effects of Jasmine in Hindi

  • आरामदायक और उत्तेजक प्रभाव के कारण इसके अधिक उपयोग से बचना चाहिए ।
  • कुछ लोगों में चमेली का तेल त्वचा संबंधित एलर्जी का कारण बन सकता है।

For more details regarding the Jasmine in Hindi: click here