Top 5 Amazing Benefits Of Raisins in Hindi ( किशमिश के फायदे )

0
583
Benefits Of Raisins

Benefits Of Raisins:- किशमिश एक ऐसा ड्राई फ्रूट है जो दूसरे ड्राई फ्रूट्स की तुलना में सस्ता होता है और यही इसकी लोकप्रियता का प्रमुख कारण भी है। किशमिश का इस्तेमाल न केवल मीठे व्यंजनों में किया जाता है बल्कि कई जगहों पर तो इसे चाट में भी डालकर सर्व किया जाता है। इसका खट्टा-मीठा स्वाद हर ( Benefits Of Raisins ) डिश को स्पेशल बना देता है लेकिन क्या आपने कभी इसके फायदे जानने की कोशिश की है?

Benefits Of Raisins

किशमिश खाने का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसके नियमित सेवन से शरीर में खून की कमी नहीं होती। ये वजन घटाने में मददगार है, एनर्जी लेवल को बूस्ट करने और विटामिन सी की आवश्यकता को पूरा करने में मददगार है। Benefits Of Raisins

सर्दियों में किशमिश खाना सेहत के लिए बहुत फायदेमंद माना जाता है। इसमें बहुत सारे ऐसे गुण पाए जाते हैं जो सर्दियों में होने वाले वायरल व इन्फेक्शन से बचाव रखती है। बादाम, अखरोट, किशमिश और काजू जैसी ड्राई फ्रूट आइटम अगर मुट्ठी भर खा लें तो दिनभर का पोषण आपको आसानी से मिल जाता है।

किशमिश खाने के भी बहुत सारे फायदे हैं लेकिन इसे खाने का सही तरीका आपको पता होना चाहिए। रात को पानी में किशमिश भिगोकर रख दें और सुबह फूल जाने पर किशमिश का सेवन करें।इसे खाने का यह सबसे अच्छा तरीका है। भीगे हुए किशमिश में आयरन, पोटाशियम, कैल्शियम, मैग्नेशियम और फाइबर भरपूर मात्रा में होता है।Benefits Of Raisins

इसके अलावा इसमें नेचुरल शुगर होती है जो नुकसान नहीं पहुंचाती। हाई ब्लड प्रेशर के लिए यह सबसे (Benefits Of Raisins) अधिक फायदेमंद है। यह ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है। इसमें पाया जाने नाला पोटैशियम तत्व हाइपरटेंशन से बचाव करता है। साथ ही इसे भिगोकर खाने से इसकी तासीर ठंडी हो जाती है। जिन लोगों को गर्मी व मुंह के छालों की प्रॉब्लम रहती है उन्हें भिगोकर ही इसका सेवन करना चाहिए। किशमिश के स्वाद से हर कोई वाकिफ है, लेकिन क्या आप किशमिश के लाभ के बारे में जानते हैं?

आपको जानकर हैरानी होगी कि किशमिश के गुण सिर्फ इसकी मिठास तक सीमित नहीं है, बल्कि शरीर से जुड़ी कई शारीरिक समस्याओं से आराम पाने के लिए सूखी किशमिश के फायदे उठाए जाते हैं। हाजमा ठीक करने से लेकर, यह शरीर में ऊर्जा बढ़ाने तक का काम करती है। दादी के नुस्खे  के इस लेख में विस्तार से जानिए किशमिश खाने के फायदे और नुकसान ( Benefits Of Raisins ) के बारे में। साथ ही इस बात पर भी गौर करना जरूरी है कि किशमिश के गुण लेख में शामिल बीमारियों के प्रभाव को कुछ हद तक कम करने में मदद कर सकते हैं।

किशमिश क्या है

किशमिश, सूखे मेवों की श्रेणी में शामिल है, जिसे अंगूरों को सुखाकर तैयार किया जाता है। इस प्रक्रिया में अंगूरों को लगभग तीन हफ्तों तक धूप में सुखाकर उसका मॉइस्चर निकाला जाता है। भारत में इसे कई नाम से जाना जाता है, जैसे हिन्दी में किशमिश , अंग्रेजी में राइसिन , तेलुगु में एंडुद्राक्षा , तमिल में ऊलर धराक्षी , मलयालम में उनक्कु मुन्थिरिंगा ,

कन्नड में वोनाद्राकशी, गुजराती में लाल द्राक्ष और मराठी में इसे मनुका के नाम से जाना जाता है। सेहत के लिए किशमिश को लाभकारी माना गया है। यह कई जरूरी फाइटोकेमिकल्स से समृद्ध होती है। साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल गतिविधियां भी पाई जाती हैं।

Benefits Of Raisins

किशमिश कितने प्रकार की होती है

1) भूरी किशमिश >>>

यह किशमिश अंगूरों को तीन हफ्तों तक सुखाकर बनाई जाती है। सूखने के बाद इनका रंग भूरा होता है। अलग-अलग जगहों ( Benefits Of Raisins ) पर इसे बनाने के लिए विभिन्न तरह के अंगूरों का इस्तेमाल किया जाता है। इनका रंग, आकार और स्वाद अंगूर के प्रकार पर निर्भर करता है।

2) करंट (काली किशमिश) >>>

इस प्रकार की किशमिश को जांटे करंट भी कहा जाता है और इन्हें काले अंगूर से बनाया जाता है। इन्हें भी अंगूर को तीन हफ्तों तक सुखाकर बनाया जाता है। इनका स्वाद अक्सर खट्टा-मीठा और आकर छोटा होता है। अन्य अंगूर की तरह ब्लैक किशमिश खाने का फायदा क्या है, इस बारे में आगे विस्तार से बताया गया है।

3) सुल्ताना (गोल्डन किशमिश) >>>

यह किशमिश सुल्ताना अंगूर (बीज रहित हरे गोल अंगूर) को सुखाकर बनाई जाती है। इस प्रकार की किशमिश को बनाने के लिए सुखाने से पहले अंगूर को एक तरह के तैलीय सलूशन में भिगोया जाता है। इस कारण इस किशमिश का रंग गोल्डन हल्का भूरा होता है। बाकी दो किशमिश की तुलना में इस किशमिश का आकार अक्सर छोटा और स्वाद मीठा होता है।

किशमिश के फायदे – Benefits of Kismish in Hindi

1) बुखार के लिए ( Benefits of Kismish for fever )

शरीर में हुआ किसी प्रकार का संक्रमण बुखार का कारण बन सकता है। बुखार तब आता है जब शरीर उस संक्रमण का ( Benefits Of Raisins ) कारण बने बैक्टीरिया या वायरस को खत्म करने की कोशिश करता है । ऐसे में किशमिश उन बैक्टीरिया को खत्म करने में मदद करता है। माना जाता है कि किशमिश में एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं, जो इन बैक्टीरिया को खत्म करने में सहायता कर सकते हैं। फिलहाल, इस विषय पर अभी और शोध किए जाने की आवश्यकता है।

Benefits Of Raisins

2) बालों के लिए (Benefits of Kismish for Hiar )

बालों को नुकसान पहुंचाने में फ्री रेडिकल्स का बहुत बड़ा हाथ होता है। ये समय से पहले बालों के सफेद होने और झड़ने का कारण बनते है। बालों को इन फ्री रेडिकल्स से बचाने में किशमिश के गुण मदद करते हैं। एक शोध में पाया गया है कि किशमिश में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो फ्री रेडिकल्स के प्रभाव को कम करने में मदद करते हैं । अंत तक पढ़ें

Benefits Of Raisins

3) हृदय के लिए (Benefits of Kismish for Heart )

हृदय रोग से बचने में भी किसमिस खाने के फायदे मिल सकते हैं। दरअसल, एक शोध के अनुसार किशमिश खराब कोलेस्ट्रोल यानी एलडीएल और ट्राइग्लिसराइड (रक्त में मौजूद एक प्रकार का फैट) को कम करती है, जिससे कोलेस्ट्रॉल की वजह से होने वाले हृदय रोग के जोखिम से बचा जाता है । हालांकि, इस प्रक्रिया के पीछे किशमिश के कौन से गुण काम करते हैं, यह शोध का विषय है।

Benefits Of Raisins

4) मुंह और दांतों के लिए ( Benefits of Kismish for Mouth and teeth )

किशमिश मुंह और दांतों के स्वास्थ्य के लिए लाभकारी होती है। दरअसल, संयुक्त राज्य अमेरिका के डिपार्टमेंट ऑफ फूड एंड न्यूट्रिशन द्वारा किए गए अध्ययन से पता चलता है कि किशमिश खाने से कैविटीज से बचाव होता है। शोधकर्ताओं के अनुसार, किशमिश में फाइटोकेमिकल्स, एंटीऑक्सीडेंट और ऑलीनोलिक एसिड मौजूद होते हैं, जो उन बैक्टीरिया को पनपने से ( Benefits Of Raisins ) रोकने में मदद करते हैं, जो डेंटल कैरीज यानी दांत खराब होने का कारण बनते हैं।

इसके अलावा, किशमिश में पाए जाने वाले फाइटोकेमिकल दांतों की बेहतर स्थिति बनाए रखने के लिए मुंह में हानिकारक बैक्टीरिया जैसे म्यूटन्स स्ट्रैपटोकोकस के विकास को भी रोकते हैं, जो कैविटी का कारण बनते हैं ।

Benefits Of Raisins

5) मधुमेह के लिए ( Benefits of Kismish for Diabetes )

कई लोगों का यह मानना है कि डायबिटीज से ग्रसित लोग किशमिश का सेवन नहीं कर सकते, लेकिन ऐसा नहीं है। यह जानकर शायद आपको हैरानी होगी कि सीमित मात्रा में किशमिश का सेवन मधुमेह को नियंत्रित करने में मदद करता है। माना जाता है कि किशमिश का ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है, जिस कारण यह इंसुलिन रिस्पांस को बेहतर करने में मदद करती है।

इससे मधुमेह नियंत्रित करने में सहायता मिलती है । ग्लाइसेमिक इंडेक्स एक मापक होता है, जो यह बताता है कि ( Benefits Of Raisins ) खाद्य पदार्थ (कार्बोहाइड्रेट युक्त) कितनी तेजी से ब्लड शुगर (ग्लूकोज) को बढ़ा रहा है। कम ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थ ब्लड शुगर को नियंत्रित करने में मदद करते हैं । ध्यान रखें कि मधुमेह के लिए किशमिश का उपयोग करने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर लें। इसकी मात्रा डॉक्टर द्वारा सुझाई गई दवा, डाइट व एक्सरसाइज के अनुसार होनी चाहिए।

Benefits Of Raisins

किशमिश के उपयोग:- Uses of Kismish in Hindi

1) किशमिश को पीनट बटर व फ्रूट सलाद के साथ मिलाकर खा सकते हैं।

2) किशमिश के साथ ब्रोकली और गाजर (या मौसम के अनुसार कोई भी सब्जी) को मिलाकर सलाद की तरह खाया जा सकता है।

3) नाश्ते में ओट्स में चीनी की जगह किशमिश का इस्तेमाल कर सकते हैं।

4) इसका इस्तेमाल मफिन और पैनकेक में मिठास के लिए कर सकते हैं।

5) किशमिश को सीधे ही खा सकते हैं।

सेवन की मात्रा :- ड्राई फ्रूट्स हर उम्र के लोगों के लिए फायदेमंद होते हैं। एक दिन में 50-100 ग्राम किशमिश खाई जा सकती है । मधुमेह से पीड़ित लोगों के लिए इसकी मात्रा उनके डाइट और दवाइयों के अनुसार हो सकती है,

किशमिश को लंबे समय तक सुरक्षित कैसे रखें

किशमिश को लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए उसे एक हवाबंद डिब्बे में फ्रिज में रखा जाता है। इस तरह से किशमिश ( Benefits Of Raisins ) को लगभग एक साल तक सुरक्षित रखा जा सकता है। इसे रखते समय इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि डिब्बे में नमी न हो। नमी रह जाने से किशमिश के सड़ने के आशंका बढ़ जाती है।

Side Effects of Kismish in Hindi

  • शरीर का वजन बढ़ना
  • एलर्जी
  • डायरिया और गैस
  • टाइप-2 डायबिटीज का खतरा

For more details regarding the Benefits of Kismish in Hindi: click here

किशमिश क्या है?

किशमिश, सूखे मेवों की श्रेणी में शामिल है, जिसे अंगूरों को सुखाकर तैयार किया जाता है। इस प्रक्रिया में अंगूरों को लगभग तीन हफ्तों तक धूप में सुखाकर उसका मॉइस्चर निकाला जाता है। भारत में इसे कई नाम से जाना जाता है, जैसे हिन्दी में किशमिश , अंग्रेजी में राइसिन , तेलुगु में एंडुद्राक्षा , तमिल में ऊलर धराक्षी , मलयालम में उनक्कु मुन्थिरिंगा ,
कन्नड में वोनाद्राकशी, गुजराती में लाल द्राक्ष और मराठी में इसे मनुका के नाम से जाना जाता है। सेहत के लिए किशमिश को लाभकारी माना गया है। यह कई जरूरी फाइटोकेमिकल्स से समृद्ध होती है। साथ ही इसमें एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल गतिविधियां भी पाई जाती हैं।

बालों के लिए किशमिश के फायदे बताईये?

बालों को नुकसान पहुंचाने में फ्री रेडिकल्स का बहुत बड़ा हाथ होता है। ये समय से पहले बालों के सफेद होने और झड़ने का कारण बनते है। बालों को इन फ्री रेडिकल्स से बचाने में किशमिश के गुण मदद करते हैं। एक शोध में पाया गया है कि किशमिश में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं, जो फ्री रेडिकल्स के प्रभाव को कम करने में मदद करते हैं । अंत तक पढ़ें

हृदय के लिए किशमिश के उपयोग बताईये?

हृदय रोग से बचने में भी किसमिस खाने के फायदे मिल सकते हैं। दरअसल, एक शोध के अनुसार किशमिश खराब कोलेस्ट्रोल यानी एलडीएल और ट्राइग्लिसराइड (रक्त में मौजूद एक प्रकार का फैट) को कम करती है, जिससे कोलेस्ट्रॉल की वजह से होने वाले हृदय रोग के जोखिम से बचा जाता है । हालांकि, इस प्रक्रिया के पीछे किशमिश के कौन से गुण काम करते हैं, यह शोध का विषय है।

किशमिश से होने वाले Side Effects बताईये?

शरीर का वजन बढ़ना
एलर्जी
डायरिया और गैस
टाइप-2 डायबिटीज का खतरा