Benefits of Taro Root-10 Surprising in Hindi ( अरबी खाने के फायदे )

0
666
benefits of taro root

Benefits of Taro Root:- जमीन के नीचे उगने वाली स्वादिष्ट अरबी कई प्रकार के व्यंजन और स्वादिष्ट पकवान बनाने के काम आती है | क्या आपको पता है | यह स्वादिष्ट सब्जी ना सिर्फ खाने का स्वाद बढ़ाती है बल्कि स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद है पहले यह सब्जी सिर्फ एशिया में मशहूर थी लेकिन इसके स्वाद और स्वास्थ्य के कारण यह धीरे-धीरे पूरे विश्व में फैल गई | दादी के नुस्खे के इस लेख में हम अरबी के बारे में कुछ फायदे जानेंगे |अरबी को कई लोग अरवी भी कहते हैं | यह आसानी से बाजार में मिल जाती है |

Benefits of Taro Root

Table of Contents

इसका स्वाद अन्य सब्जियों से थोड़ा अलग होता है , सामान्य अरबी से 2 तरह के पकवान बनाए जाते हैं| सूखी सब्जी रसदार सब्जी कुछ लोग अरबी के पत्ते कई तरह के व्यंजन बनाते हैं| लोगों को अरबी के बारे में यह जानकारी नहीं है अरबी के सेवन से शरीर को अनेक फायदे मिलते हैं आयुर्वेद में अरबी को बहुत ही गुणकारी बाहर बताया गया है | आइए जानते हैं कि जिस अरवी को आप केवल सब्जी के रूप में उपयोग में लाते हैं, उसे औषधि के रूप में किस तरह उपयोग में लाया जाता है।

अरबी क्या है

अरबी की खेती कुंद , और पत्तों के लिए की जाती है | इसलिए अरबी से बने व्यंजनों में वात के शमन के लिए अजवायन को डाला जाता है। यह वातकारक होते हुए भी हृदय रोगों में फायदेमंद होता है। इसके सेवन से शरीर को पौष्टिक तत्व मिलता है। अरबी को तेल में पकाकर खाने से इसका स्वाद बहुत ही उत्तम हो जाता है।

Benefits of Taro Root

अन्य भाषाओं में अरबी के नाम

  • Name of Arbi in Hindi – अरुई, घुइयां, कच्चु, अरवी, घूय्या
  • Name of Arbi in English (arbi in english) – इजिप्टियन ऐरम (Egyptian arum), क्रैच कोको (Scratch Coco), टैरो रूट (Taro root), एड्डोस (Eddoes), एलिफैन्टस् इयर (Elephant’s ear) कोको यैम (Coco yam), टैरो (Taro)
  • Name of Arbi in Sanskrit – कच्चू, आलुकी
  • Name of Arbi in Oriya – सारु (Saru)
  • Name of Arbi in Konkani – ऐल्लम (Allum)
  • Name of Arbi in Kannada – केसवे (Kesave)
  • Name of Arbi in Gujarati – अलवी (Alvi)
  • Name of Arbi in Tamil – शिमेंथम (Shementhum), शमाकीलंगू (Shamakkilangu), सेपनकीझंगु (Sepankizhangu)
  • Name of Arbi in Telugu – चम्मडुम्पा (Chamadumpa)
  • Name of Arbi in Bengali – काचू (Kachu), अशुकुचू (Ashukuchu)
  • Name of Arbi in Nepali – कर्कलो (Karkalo); पंजाबी-अलू (Alu), गाग्ली (Gagli), अट्टवाचा कान्दा (Atthavacha kanda), अलू (Alu)
  • Name of Arbi in Malayalam – चेम्पकीझन्ना (Chempakizhanna)
  • Name of Arbi in Arabic – कल्कस (Kalkas), गुल्गस (Gullgas)

अरबी के फायदे:

अरबी कैंसर ,आंखों की बीमारी , ह्रदय रोग व डायबिटीज जैसे कई बीमारियों मैं औषधि के रूप में काम करती है आइए जानते हैं अरबी किस प्रकार से हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होती है |

1) कैंसर के लिए लाभकारी (Benefits of Taro Root for Cancer)

अरबी को पॉलीफेनॉल्स का अच्छा स्रोत माना जाता है | पॉलीफेनॉल्स मैं कैंसर के जोखिम को कम करने की क्षमता शामिल है . पॉलीफेनॉल्स कैंसर सेल को बढ़ने से रोकते हैं। साथ ही ट्यूमरजेनिक कोशिकाओं को भी कम करने में मदद करते हैं। ये ट्यूमरजेनिक कोशिकाएं ही होती हैं, जो ट्यूमर को बढ़ाकर कैंसर का कारण बनती हैं |

2) पाचन तंत्र के लिए (Benefits of Taro Root for Digestive System)

अरबी खाने के लाभ ये हैं| कि इसमें फाइबर भरपूर मात्रा में होता है, जिस कारण यह हमारे पाचन तंत्र के लिए उत्तम आहार है। फाइबर की मदद से पाचन तंत्र बेहतर तरीके से काम करता है, जिस कारण भोजन को पचाने में मदद मिलती है। इसके अलावा, यह गैस, ऐंठन, कब्ज और दस्त जैसी बीमारी को भी रोकने में मदद करता है|

3) रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए (Benefits of Taro Root for Immunity)

रोग प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए विटामिन-ई और विटामिन-सी जरूरी पोषक तत्व हैं । वहीं, अरबी में विटामिन-ई और सी दोनों ही अच्छी मात्रा में पाए जाते हैं। इसलिए, अरबी को आहार में शामिल करने से हमें विटामिन-ई और विटामिन-सी दोनों ही प्राप्त होंगे, जिससे  रोग प्रतिरोधक क्षमता को बेहतर किया जाता है|

4) आंखों के लिए (Benefits of Taro Root for Eyes)

अरबी में Antioxidant and Anti-Inflammatory गुण भी पाए जाते हैं , जो बढ़ती उम्र में आंखों के स्वास्थ्य के लिए जरूरी होते हैं । साथ ही इसमें विटामिन-ए, सी व जिंक जैसे जरूरी तत्व भी पाए जाते हैं ), जो आंखों की रोशनी को बढ़ाकर इससे होने वाली बीमारियों को दूर करने में सहायक होते हैं .

5) थकान को कम करने के लिए (Benefits of Taro Root for Fatigue)

अरबी में पाया जाने वाला फाइबर खाने को पचाने की प्रक्रिया को कम करता है और शरीर को लंबे समय तक चुस्त बनाए रखने के लिए ऊर्जा देने में मदद करता है। इससे  थकान कम होती है । इस लिहाज से यह एथलीटों के लिए अच्छा खाद्य पदार्थ साबित हो सकता है।

6) डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए (Benefits of Taro Root for Diabetes )

डायबिटीज के रोगियों में इंसुलिन को नियंत्रित करने में डायटरी फाइबर महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वहीं, अरबी में फाइबर और रेजिस्टेंस स्टार्च होता है , जो टाइप-2 मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद होता है। प्रतिदिन अरबी के सेवन से पर्याप्त फाइबर प्राप्त होता है, जो  मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए बेहतर तरीका साबित होता है |

7) एंटीऑक्सीडेंट के लिए (Benefits of Taro Root for Antioxidant )

अरबी एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर है। अरबी में पाए जाने वाले विटामिन-ए, विटामिन-सी और अन्य तत्व हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करते हैं। साथ ही हमारे शरीर से खतरनाक फ्री रेडिकल्स को खत्म करने में मदद करते हैं। शरीर में फ्री रेडिकल्स बनने के कारण विभिन्न प्रकार की बीमारियों का सामना करना पड़ता है।

8) बालों के लिए (Benefits of Taro Root for Hairs )

बालों का झड़ना एक आम परेशानी है, जिससे कई लोग परेशान रहते हैं। महिला हो या पुरुष, सभी बालों को झड़ने से रोकने के लिए अलग-अलग तरह के उपाय करते हैं, लेकिन कई बार उपाय से पूरी तरह फायदा नहीं मिलता है। आयुर्वेद के अनुसार, अरबी के गुण से बालों का झड़ना रुकता है। अगर आपके बाल गिर रहे हों तो अरवी के कंद का रस निकालकर सिर पर मालिश करें। इससे बालों का गिरना बंद हो जाता है .

9) त्वचा के लिए (Benefits of Taro Root for Skin)

अरबी के सेवन से कील-मुंहासे जैसे कुछ त्वचा संबंधी रोगों में भी लाभ मिलता है। इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाया जाता है जो त्वचा को किसी भी प्रकार के सूजन से बचाकर रखता है। इसमें मौजूद शीतल गुण त्वचा को हर प्रकार के संक्रमण यानि इन्फेक्शन या इन्फ्लमेशन में ठंडक प्रदान करती है और त्वचा को स्वस्थ बनाये रखती है। 

10) वजन कम करने के लिए (Benefits of Taro Root for weight loss )

अरबी में फाइबर की मात्रा अधिक होने के कारण यह पाचन में मदद करता है। जिससे शरीर में फैट जमा होने की संभावनाए ना के बराबर हो जाती है। इससे ये वजन को नियंत्रित रखने में भी मदद करती है। इसमें गुरु गुण होने के कारण यह देर से पचती है और इसी वजह से अधिक भूख नहीं लगती जिससे वजन को नियंत्रित रखने में आसानी होती है।   

अरबी का उपयोग

अरबी के उपयोग के पहले यह जान लेना चाहिए कि कच्ची अरबी विषैली हो सकती है। इसलिए, खाने से पहले इसे अच्छी तरह से पका लेना चाहिए। पकने पर इसका स्वाद अखरोट जैसा हो जाता है। हम इसका उपयोग पका कर, भून कर, उबालकर या स्टीम करके कर सकते हैं। यहां हम अरबी को उपयोग करने के कुछ तरीके बता रहे हैं।

Benefits of Taro Root

अरबी फ्राई

सामग्री

1) 500 ग्राम अरबी

2) दो चम्मच तेल

3) नमक (स्वादानुसार)

कैसे बनाएं

1) सबसे पहले इसे साफ कर लें और छिलके को उतार दें।

2) फिर इसे पतले और लंबे टुकड़ों में काट लें।

3) एक फ्राई पैन में दो चम्मच तेल डालकर उसे अच्छी तरह गर्म कर लें।

4) इसके बाद अरबी के टुकड़ों को तब तक तलें, जब तक कि वो हल्के भूरे रंग के न हो जाएं।

5) फिर अतिरिक्त तेल को टिशू पेपर के ऊपर रखकर निकाल लें।

6) आपकी अरबी फ्राई तैयार है। अब इस पर नमक छिड़क कर सर्व करें।

अरबी की चिप्स

सामग्री

1) 500 ग्राम अरबी

2) दो बड़े चम्मच जैतून का तेल

3) नमक (स्वादानुसार)

किस तरह से पकाया जाता है:

1) सबसे पहेल अरबी को छिल लें।

2) फिर इसे पतले स्लाइस में लंबाई में काट लें।

3) जैतून के तेल के साथ प्रत्येक स्लाइस को हल्के से कोट करें।

4) कोट किए हुए चिप्स को बेकिंग शीट पर रखें।

5) बेकिंग शीट को 400°F (204°C) पर ओवन में 20 मिनट के लिए रखें।

6) इसके बाद चिप्स पर नमक डालकर इसे सर्व करें |

Benefits of Taro Root

इस लेख के माध्यम से अब आप अरबी के फायदे, उपयोग और नुकसान के बारे में जान चुके होंगे। साथ ही जाना कि अरबी का उपयोग करते समय हमें क्या-क्या सावधानियां बरतनी चाहिए। अरबी के इन औषधीय गुणों को जानकर आप इसे अपनी रोजमर्रा की जीवनशैली में जरूर शामिल करें। उम्मीद है कि अरबी पर लिखा यह लेख आपके लिए लाभकारी सिद्ध होगा।

Side effects of Taro Root in Hindi

अरबी में ऑक्सालिक एसिड होता है . पत्तियों और जड़ों में मौजूद यह एसिड त्वचा और मुंह में जलन पैदा कर सकता हैं।

ऑक्सालेट और फास्फोरस की मात्रा बढ़ने के कारण किडनी में पथरी की समस्या हो सकता है

अरबी के पत्ते, और कंद में कैल्शियम ऑक्जलेट होता है, जिसके सेवन से गले, तथा मुंह में सुई चुभने जैसी खुजली हो सकती है। 

For more details regarding the Taro Root in Hindi:- click here

अरबी क्या है?

अरबी की खेती कुंद , और पत्तों के लिए की जाती है | इसलिए अरबी से बने व्यंजनों में वात के शमन के लिए अजवायन को डाला जाता है। यह वातकारक होते हुए भी हृदय रोगों में फायदेमंद होता है। इसके सेवन से शरीर को पौष्टिक तत्व मिलता है। अरबी को तेल में पकाकर खाने से इसका स्वाद बहुत ही उत्तम हो जाता है।

अरबी के फायदे बताईये?

अरबी कैंसर ,आंखों की बीमारी , ह्रदय रोग व डायबिटीज जैसे कई बीमारियों मैं औषधि के रूप में काम करती है आइए जानते हैं अरबी किस प्रकार से हमारे स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होती है |

डायबिटीज को नियंत्रित करने के लिए अरबी कैसे फायदेमंद होगी?

डायबिटीज के रोगियों में इंसुलिन को नियंत्रित करने में डायटरी फाइबर महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। वहीं, अरबी में फाइबर और रेजिस्टेंस स्टार्च होता है , जो टाइप-2 मधुमेह रोगियों के लिए फायदेमंद होता है। प्रतिदिन अरबी के सेवन से पर्याप्त फाइबर प्राप्त होता है, जो  मधुमेह को नियंत्रित करने के लिए बेहतर तरीका साबित होता है |