Benefits of Vitamin C Tablets-The Best Vitamin C Tablets (विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थ )

0
270

Benefits of Vitamin C Tablets:- पोषक तत्वों से भरपूर होने के कारण विटामिन सी सेहत के लिए फायदेमंद है। लेकिन अधिक मात्रा में विटामिन सी का सेवन करने पर यह शरीर को प्रभावित करता है। यदि आप रोजाना 1000 मिली मात्रा से अधिक विटामिन सी का सेवन करते हैं तो आपको डायरिया, मितली, उल्टी, सीने में जलन, पेट दर्द, सिरदर्द और इंसोम्निया की समस्या हो सकती है। आमतौर पर महिलाओं को नियमित 75 मिलीग्राम और पुरुषों को 90 मिलीग्राम विटामिन सी का सेवन करना चाहिए। हमारे शरीर में विटामिन सी की आपूर्ति कई फलों के माध्‍यम से हो जाती है |

Benefits of Vitamin C Tablets

Table of Contents

अगर आप घुलनशील Vitamin C की बात करें तो इसकी पूर्ति नींबू, संतरे, स्ट्रॉबेरी, कीवी फल, बेल मिर्च, ब्रोकोली, केल और पालक के सेवन से किया जा सकता है. जबकि अगर आप बेहतर तरीके से इनका उपयोग नहीं कर पा रहे हैं तो आप विटामिन सी सेप्‍लीमेंट गोलियों से भी इनकी भरपाई कर सकते हैं. वेबमेड के मुताबिक, शरीर के लिए रोजाना 500 ML विटामिन सी की जरूरत पड़ती है ऐसे में अगर आप फलों आदि के इसकी भरपाई ना कर पाएं तो विटामिन की गोलियों का सेवन करना चाहिए.कोरोना काल में तो विटामिन सी (Vitamin C) की गोली (Tablets) या कैप्सूल (Capsules) लेने की जरूरत को लोगों ने और भी समझा है |

तो आइए जानते हैं कि हम Vitamin C की गोलियों के सेवन से किन बीमारियों को दूर रख सकते हैं| आपने कई बार सुना होगा कि, Vitamin C शरीर के लिए बहुत ही आवश्यक होता है, लेकिन शायद आपको इसकी जानकारी नहीं होगी कि Vitamin C की पर्याप्त मात्रा से शरीर को क्या-क्या फायदे होते हैं। Vitamin C में प्रचुर मात्रा में Antioxidants होते हैं जो आपकी हड्डियों, मांसपेशियों और रक्त वाहिकाओं को दुरुस्त रखता है। इसके अलावा यह शरीर में आयरन के अवशोषण में मदद पहुंचाने और कोलेजन बनाने में भी सहायता करता है। इसके साथ ही Vitamin C के और भी बहुत फायदे हैं।

Vitamin C आपकी इम्युनिटी से लेकर स्किन तक के लिए बहुत फायदेमंद है। विटामिन सी एक महत्वपूर्ण Antioxidants है, जो हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाता है। इसके साथ ही Antioxidants हमारे सेल्स को फ्री रेडिकल्स से बचाते हैं। CDC के अनुसार हाई ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने का भी कारगर तरीका है विटामिन सी का सेवन। Vitamin C ब्लड वेसल्स को रिलैक्स करता है जिससे ब्लड प्रेशर कम होता है और हृदय सम्बंधित रोग भी कम होते हैं। विटामिन सी (Vitamin C) विभिन्न खाद्य स्रोतों से शरीर द्वारा अवशोषित विटामिन है, ज्यादातर खट्टे फल जैसे संतरे, नींबू, कीवी, पपीता आदि और विभिन्न सब्जियों के रूप में अच्छी तरह से है।

यदि आपको Hematochromatosis या लोहे के अधिभार की समस्या है, या अतीत में kidney की पथरी से संबंधित किसी भी तरह की जटिलताएं हैं तो आपको विटामिन सी नहीं लेना चाहिए। विटामिन सी (Vitamin C) सुरक्षित है जब डॉक्टर द्वारा आपके शरीर की आवश्यकता के अनुसार उचित खुराक में लिया जाता है। लेकिन अधिक खुराक, अनुचित प्रशासन या इसके प्रति एलर्जी की प्रवृत्ति आपके शरीर में दुष्प्रभाव पैदा कर सकती है। इसके कुछ साइड इफेक्ट्स हैं- मतली, दस्त, जोड़ों का दर्द, कमजोरी, वजन कम होना, पेट खराब होना, पेट में ऐंठन, दर्दनाक पेशाब, बुखार, कंपकंपी आदि।दादी के नुस्खे  के इस लेख में हम न सिर्फ Vitamin C के फायदे बताएंगे, बल्कि सबसे ज्यादा Vitamin C किसमें होता है, इसकी जानकारी भी देंगे। तो Vitamin C के लाभ और इससे जुड़ी अन्य जानकारियों के लिए लेख को पूरा पढ़ें।

विटामिन सी क्या है?

शरीर के स्वस्थ विकास के लिए विटामिन की आवश्यकता होती है, उन्हीं में से एक है विटामिन सी। यह पानी में घुलनशील विटामिन है, जो शरीर के सामान्य विकास के लिए आवश्यक होता है। इसके अलावा, यह एक प्रकार का एंटीऑक्सीडेंट भी है। यह त्वचा, हड्डियों और कनेक्टिव टिश्यू के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। यह हीलिंग की प्रोसेस यानी घाव भरने की प्रक्रिया को बढ़ाने में मदद करने के साथ ही शरीर में आयरन के अवशोषण में भी मददगार हो सकता है।

बता दें कि एंटीऑक्सीडेंट युक्त खाद्य पदार्थ मुक्त कणों यानी फ्री रेडिकल्स के कारण होने वाले शारीरिक नुकसान को रोकने में सहायक हो सकते हैं । ऐसे में विटामिन सी कई प्रकार की समस्याओं में फायदेमंद माना जाता है। वहीं इसकी कमी के कारण कई बीमारियां भी हो सकती है। आगे हम दोनों के बारे में विस्तार से बता रहे हैं।

Benefits of Vitamin C Tablets

Vitamin C शरीर को कैसे प्रभावित करता है?

पोषक तत्वों से भरपूर होने के कारण विटामिन सी सेहत के लिए फायदेमंद है। लेकिन अधिक मात्रा में विटामिन सी का सेवन करने पर यह शरीर को प्रभावित करता है। यदि आप रोजाना 1000 मिली मात्रा से अधिक विटामिन सी का सेवन करते हैं तो आपको डायरिया, मितली, उल्टी, सीने में जलन, पेट दर्द, सिरदर्द और इंसोम्निया की समस्या हो सकती है। आमतौर पर महिलाओं को नियमित 75 मिलीग्राम और पुरुषों को 90 मिलीग्राम विटामिन सी का सेवन करना चाहिए।

Vitamin C शरीर के लिए क्यों है जरूरी?

विटामिन सी कोलेजन का सिंथेसिस करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। विटामिन सी कनेक्टिव ऊतकों को बेहतर बनाता है और जोड़ों को सपोर्ट प्रदान करता है। इसके साथ ही यह तेजी से घाव भरने में भी मदद करता है। इसके अलावा अन्य कारणों से भी विटामिन सी शरीर के लिए जरूरी है। विटामिन सी की खास बात यह है कि इसे बनाया नहीं जा सकता, बल्कि शरीर के अंदर ही इसका स्वनिर्माण होता है। शरीर में पर्याप्त मात्रा में विटामिन सी की उपलब्धता से आपका शरीर अनेक बीमारियों से सुरक्षित रहता है। यह शरीर को स्वस्थ रखने के साथ-साथ त्वचा में रौनक लाने का काम भी करता है। इसके साथ-साथ विटामिन सी की पर्याप्त मात्रा से निम्न प्रकार के फायदे होते हैंः-

Vitamin C की कमी के लक्षण– Symptoms of Vitamin C Deficiency in Hindi

  • एनीमिया (खून की कमी)।
  • मसूड़ों से खून आना।
  • संक्रमण से लड़ने की क्षमता में कमी।
  • घाव भरने की प्रक्रिया में सामान्य से अधिक समय लगना।
  • रूखे और दोमुंहे बाल।
  • त्वचा के अत्यधिक पतला होने के कारण हल्की खरोंच से भी खून आना या घाव हो जाना।
  • जिंजिवाइटिस (मसूड़ों में सूजन)।
  • नाक से खून आन उपापचय प्रक्रिया धीमी होने के कारण तेजी से वजन बढ़ना।
  • रूखी और पपड़ीदार त्वचा। जोड़ों में दर्द व सूजन।

विटामिन सी के स्रोत- Sources of Vitamin C in Hindi

  • विटामिन सी के अच्छे स्रोत हैं खट्टे फआंवला (और पढ़ें – आमला के फायदे)
  • संतरा (और पढ़ें – संतरा खाने के फायदे)
  • अंगूर (और पढ़ें – अंगूर खाने के फायदे)
  • टमाटर (और पढ़ें – टमाटर खाने के फायदे)
  • नींबू (और पढ़ें – नींबू के फायदे)
  • केला (और पढ़ें – केला खाने के फायदे)
  • बेर (और पढ़ें – बेर खाने के फायदे)
  • अमरूद (और पढ़ें – अमरूद खाने के फायदे)
  • सेब (और पढ़ें – सेब खाने के फायदे)
  • कटहल (और पढ़ें – कटहल खाने के फायदे)
  • शलगम (और पढ़ें – शलगम खाने के फायदे)
  • पुदीना (और पढ़ें – पुदीना के फायदे)
  • मूली के पत्ते (और पढ़ें – मूली के पत्ते के फायदे)
  • मुनक्का (और पढ़ें – मुनक्का खाने के फायदे)
  • दूध (और पढ़ें – दूध पीने के फायदे)
  • चुकंदर (और पढ़ें – चुकंदर खाने के फायदे)
  • चौलाई (और पढ़ें – चौलाई के फायदे)
  • बंदगोभी (और पढ़ें – बंद गोभी खाने के फायदे)
  • हरा धनिया (और पढ़ें – धनिये के फायदे)
  • पालक (और पढ़ें – पालक खाने के फायदे)

Vitamin C के फायदे– Vitamin C Benefits In Hindi

1) हड्डियों के लिए

विटामिन सी हड्डियों के लिए भी जरूरी है। दरअसल, कमजोर हड्डियों के कारण कई प्रकार की समस्याएं हो सकती है। जिनमें से एक है ओस्टियोआर्थराइटिस । विटामिन सी के लाभ में ओस्टियोआर्थराइटिस का उपचार भी शामिल है। विशेषज्ञों के मुताबिक विटामिन सी में एंटीऑक्सीडेंट (मुक्त कणों को नष्ट करने वाला) गुण पाया जाता है। इस गुण के कारण विटामिन सी जोड़ों के बीच मौजूद कार्टिलेज (जोड़ों के मध्य पाया जाने वाला उतकों का समूह, जो किसी रबर की तरह काम करता है और जोड़ों पर जोर नहीं आने देता) को नष्ट होने से बचाने में मदद करता है। वहीं इसमें एंटी इन्फ्लेमेटरी (सूजन को कम करने वाला) गुण भी पाया जाता है।

2) एंटीऑसीडेंट प्रभाव

एंटीऑक्सीडेंट एक तरह का पदार्थ होता है, जो सेल डैमेज यानी कोशिकाओं की क्षति को रोकने में मदद कर सकता है। शरीर में एंटीऑक्सीडेंट अहम भूमिका निभाता है। यह शरीर को फ्री रेडिकल्स से बचाने में मदद कर सकता है। फ्री रेडिकल्स यानी मुक्त अणु के कारण होने वाले ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस से कैंसर, हृदय रोग, मधुमेह, अल्जाइमर रोग का जोखिम बढ़ जाता है। वहीं, विटामिन सी एंटीऑक्सीडेंट होता है, जो उपरोक्त समस्याओं से बचाव में फायदेमंद हो सकता है।

3) एलर्जी की समस्या होने पर

एलर्जी की समस्या होने पर विटामिन सी फायदेमंद हो सकता है। दरअसल, एक रिसर्च के अनुसार ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस एलर्जी की समस्या का एक कारण हो सकता है। एलर्जी से संबंधित बीमारियों का संबंध खून में एस्कॉर्बेट की कमी से भी जोड़ा गया है। दरअसल, एलर्जी संबंधी रोग एस्कॉर्बेट के कम प्लाज्मा स्तर से जुड़े होते हैं। एस्कॉर्बेट प्रतिरक्षा प्रणाली की क्षमता को कम किए बिना अत्यधिक सूजन को रोक सकता है। वहीं, शोध में इस बात का भी जिक्र मिलता है कि विटामिन सी के साथ किया गया उपचार एलर्जी से संबंधित लक्षणों को कम कर सकता है।

4) वजन घटाने में मददगार

विशेषज्ञों के मुताबिक विटामिन सी के सेवन से शरीर में जमी चर्बी को कम करने में मदद मिलती है। बशर्ते व्यक्ति द्वारा संतुलित आहार के साथ नियमित व्यायाम पर भी ध्यान दिया जाए। इससे जुड़ी अन्य जानकारी में भी विटामिन सी को वजन कम करने और मोटापे से बचाव के लिए उपयोगी बताया गया है। इस तथ्य को देखते हुए यह कहा जा सकता है कि वजन घटाने की इच्छा रखने वाले लोगों के लिए विटामिन सी का सेवन उनके प्रयास के प्रभाव को तेज करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

5) Vitamin C Benefits For dark circle

डार्क सर्कल यानी आंखों के नीचे के काले घेरों को दूर करने में भी विटामिन सी को फायदेमंद माना जाता है। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार, विटामिन सी कोलेजन उत्पादन को बढ़ावा देने और रक्त के ठहराव के निशान को कम करके आंखों के नीचे के काले घेरों में सुधार कर सकता है। हम ऊपर यह भी बता ही चुके हैं कि यह त्वचा की रंगत को निखारता है, जिससे काले घेरे भी कम हो सकते हैं।

विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थ– Vitamin C Rich Foods in Hindi

1) पीली शिमला मिर्च (Sweet Yellow Pepper)

vitamin C के स्रोत के रूप में पीली शिमला मिर्च का सेवन किया जा सकता है। ये शिमला मिर्च कोलेस्ट्रॉल फ्री होने के साथ-साथ सोडियम और कैलोरी में भी कम होती हैं। यही नहीं, विटामिन-सी के साथ ही इसमें विटामिन-ए की भी अच्छी मात्रा पाई जाती है। वहीं, इसका सेवन गठिया, मधुमेह और हृदय रोगों में लाभकारी साबित हो सकता है।

2) कीवी (Kiwi)

विटामिन सी के स्रोत वाले कीवी में कई प्रकार के पोषक तत्व होते हैं, जो शरीर को बीमारियों से दूर रख सकते हैं। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित एक शोध के अनुसार, इसमें Vitamin C भरपूर मात्रा में पाया जाता है। साथ ही इसमें Antioxidants (मुक्त कणों को दूर रखने वाला), Anti-Inflammatory (सूजन कम करने वाला), Anti-Hypertensive (रक्तचाप नियंत्रित करने वाला) और Antithrombotic (खून के थक्को को बनने से रोकने वाला) जैसे प्रभाव भी पाए जाते हैं |

3) नींबू (Lemon)

नींबू Vitamin C का सबसे अच्छा स्रोत माना जाता है। इसके जूस का सेवन शरीर में विटामिन-सी की पूर्ति कर स्कर्वी (विटामिन-सी की कमी से होने वाली समस्या) में लाभकारी हो सकता है। इसके अलावा, नींबू का उपयोग उच्च रक्तचाप और कॉमन कोल्ड में लाभकारी हो सकता है। वहीं, इसका अर्क एंटीऑक्सीडेंट, एंटी इंफ्लेमेटरी, एंटी बैक्टीरियल व एंटी वायरल प्रभाव प्रदर्शित कर सकता है।

4) पपीता (Papayas)

विटामिन सी के स्रोत वाले पपीता के फायदे कई हैं। पपीता Folate, Including vitamins A, C, E and B Complex, Magnesium, Potassium और फाइबर जैसे पोषक तत्वों से समृद्ध होता है। वहीं, इसमें एंटीमाइक्रोबियल (बैक्टीरिया को नष्ट करने वाला), Antiparasitic (परजीवियों को खत्म करने वाला), Antitumor (ट्यूमर के विकास को रोकने वाला), Anti-Inflammatory (सूजन को कम करने वाला) और Antioxidants (मुक्त कणों से बचाने वाला) जैसे गुण भी पाए जाते हैं।

5) अनानास (Pineapple)

अनानास स्वादिष्ट होने के साथ-साथ गुणकारी भी होता है। विटामिन सी के स्रोत के रूप में इसका सेवन किया जा सकता है। यह शरीर में ऊतकों की वृद्धि और मरम्मत का काम कर सकता है। वहीं, इसमें मौजूद मैंगनीज मस्तिष्क के नियंत्रण में सहायक हो सकता है। अनानास फाइबर से भी समृद्ध होता है, जो पाचन क्रिया को स्वस्थ रख सकता है।

 

FISH OIL BENEFITS IN HINDI ( मछली के तेल के फायदे और फिश ऑयल कैसे यूज़ करें? )

Vitamin C की गोली खाने से क्या होता है?

Blood Pressure Control करे: Vitamin C रक्त वाहिकाओं को राहत देता है और हृदय में रक्त की आपूर्ति करता है। इससे ब्लड प्रेशर का स्तर कम होता है। Vitamin C का सेवन करने से वयस्कों में Systolic Blood Pressure कम होता है। इससे स्ट्रोक या हृदय से जुड़ी अन्य समस्याओं का खतरा कम होता है।

Vitamin C की टेबलेट कब लेनी चाहिए?

विटामिन सी की एक गोली सुबह और एक शाम को सभी को खानी चाहिए है। विटामिन सी का स्टोर शरीर में नहीं होता है। ये रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का काम करती है।

Vitamin C की टेबलेट का क्या नाम है?

बाजार में ब्रांडेड कंपनियों की दो नाम से विटामिन सी की गोलियां आती हैं। एक सैलिन तो दूसरी लिमसी। एक गोली एक रुपये से लेकर डेढ़ रुपये तक है। कोविड के सरकारी अस्पतालों से डिमांड आने पर विटामिन सी की टेबलेट दी जा रही हैं।

Vitamin C के कमी से कौन सा रोग होता है?

स्कर्वी रोग– विटामिन C की कमी से कई लोगों को स्कर्वी रोग भी हो जाता है. इसकी वजह से मरीजों में कमजोरी, थकावट, दांतों का ढीला होना, कमजोर नाखून, जोड़ों में दर्द और बाल झड़ने जैसी समस्याएं होने लगती हैं. शरीर में विटामिन C की मात्रा बढ़ते ही इन लक्षणों में कमी आने लगती है |

Vitamin C में कौन कौन से फल आते हैं?

खट्टे रसदार फल जैसे आंवला, नारंगी, नींबू, संतरा, अंगूर, टमाटर, आदि एवं अमरूद, सेब, केला, बेर, बिल्व, कटहल, शलगम, पुदीना, मूली के पत्ते, मुनक्का, दूध, चुकंदर, चौलाई, बंदगोभी, हरा धनिया और पालक विटामिन सी के अच्छे स्रोत हैं। इसके अलावा दालें भी विटामिन सी का स्रोत होती हैं

Multivitamin कब लेनी चाहिए?

रात को खाने के साथ आयरन, विटामिन सी व सोने से पहले फाइबर सप्लीमेंट लें सकते हैं। मल्टीविटामिन और विटामिन (ए, डी, ई और के) को भोजन के साथ ही लें। खाने के संग या बाद में? अधिकांश सप्लीमेंट भोजन के साथ लेने की सलाह दी जाती है जिससे वे पाचन को सक्रिय कर अवशोषण को सुधार सकें।

Vitamin E capsules कब खाने चाहिए?

विटामिनई के कैप्सूल को रोजाना रात में सोने से पहले बादाम या नारियल के तेल में मिक्स करके चेहरे पर लगाएं. इसका इस्तेमाल मॉश्चराइजर, लोशन या स्क्रब में मिलाकर सीधे चेहरे और गर्दन पर किया जा सकता है. आंखों के नीचे पड़ रहे काले घेरे या फिर थकी हुई आंखों के लिए इसका इस्तेमाल अच्छा माना जाता है.

विटामिन d3 की कमी से कौन सा रोग होता है?

जबाव: यदि आपके शरीर को पर्याप्त विटामिन डी नहीं मिलता है, तो आपको हड्डियों की असामान्यताएं जैसे कि नरम हड्डियां (ऑस्टियोमलेशिया) या नाजुक हड्डियां (ऑस्टियोपोरोसिस) विकसित होने का खतरा होता है |

विटामिन b7 की कमी से कौन सा रोग होता है?

डिप्रेशन के लिए- शरीर में विटामिन बी7 की कमी होने पर मानसिक तनाव हो सकता है साथ ही व्यक्ति डिप्रेशन में भी जा सकता है. हृदय रोग के लिए- विटामिन बी 7 लेने से आपका हृदय कई बीमारियों से मुक्त रहता है. इससे सूजन, एथेरोस्क्लेरोसिस, हार्ट अटैक और स्ट्रोक जैसे रोग की संभावनाएं कम हो जाती है.

Calcium की कमी से कौन कौन से रोग होते हैं?

कैल्शियम की कमी होने के कारण होने वाले रोग
सूखा रोग
ऑस्टियोपोरोसिस ऑस्टियोपोरोसिस का अर्थ होता है हड्डियों का कमजोर होना। …
मोतियाबिंद …
मोनोपॉज की समस्या …
हाइपरटेंशन, शुगर और हार्ट पेशेंट को है कोरोना से ज्यादा खतरा, स्वामी रामदेव के बताए उपाय से दूर भागेगा कोविड-19.
हार्ट के लिए हो सकता है खतरनाक …
ब्लड प्रेशर …
एप्रिकॉट

लोहा की कमी से कौन सा रोग होता है?

लाल रक्त कोशिकाओं में युक्त हीमोग्लोबिन पूरे शरीर में ऑक्सीजन लेकर जाता है। आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया (या आयरन की कमी वाला एनीमिया) एनीमिया (लाल रक्त कोशिका या हीमोग्लोबिन का कम स्तर) का सबसे सामान्य प्रकार है।

शरीर में विटामिन डी के अभाव के कारण कौन सा रोग होता है?

विटामिन डी की कमी से हार्ट अटैक तक आ सकता है. शरीर में विटामिन डी की कमी आपके बच्‍चों के लिए खतरनाक साबित हो सकती है. बच्‍चों में लंबे समय तक विटामिन डी की कमी बने रहना एनीमिया रोग का कारण हो सकता है.

विटामिन सी सीरम कब लगाना चाहिए?

30 की उम्र के बाद चेहरे को बनाए रखना है जवान, तो ऐसे लगाएं Vitamin C Serum.

विटामिन सी की पूर्ति के लिए क्या खाना चाहिए?

यह भी पढ़ें – महिलाओं के लिए जरूरी है इन विटामिनों का सेवन.
पालक और हरी सब्जियों का सेवन करें- विटामिन सी के लिए पालक और अन्य हरी सब्जियों का सेवन करना चाहिए। …
संतरे का सेवन करें- विटामिन सी की पूर्ति के लिए सबसे बेहतरीन उपाय संतरा है। …
नट्स का सेवन करें- …
एवोकैडो का सेवन करें- …
ब्लू बैरीज का सेवन करें-

सबसे ज्यादा विटामिन वाला फल कौन सा है?

चकोतरा- चकोतरा को खट्टे फलों में सबसे ज्यादा सेहतमंद माना जाता है. ये विटामिन और मिनरल्स का सबसे अच्छा स्त्रोत है.

मल्टीविटामिन कितने दिन तक खाना चाहिए?

उन्‍होंने बताया कि‍ मल्‍टी विटामिन सिर्फ एक माह तक अध‍िकतम खानी चाहिए. वरना ये शरीर के विभिन्‍न अंगों के लिए नुकसानदेह है. इसके अलावा जो लोग इम्‍यूनिटी बढ़ाने के चक्‍कर में जरूरत से ज्‍यादा च्‍यवनप्राश खा रहे हैं, उनमें शुगर और हार्ट की बीमारियां बढ़ रही हैं.

विटामिन सी के कमी से क्या होता है?

स्कर्वी रोग- विटामिन C की कमी से कई लोगों को स्कर्वी रोग भी हो जाता है. इसकी वजह से मरीजों में कमजोरी, थकावट, दांतों का ढीला होना, कमजोर नाखून, जोड़ों में दर्द और बाल झड़ने जैसी समस्याएं होने लगती हैं. शरीर में विटामिन C की मात्रा बढ़ते ही इन लक्षणों में कमी आने लगती है.

विटामिन सी की कौन सी टेबलेट आती है?

Eucee विटामिन C चबाने योग्य टैबलेट 500 mg-इम्यूनिटी-एंटी-ऑक्सीडेंट-स्किनकेयर (120 टैबलेट) , 1 : Amazon.in: स्वास्थ्य और व्यक्तिगत देखभाल

विटामिन सी टेबलेट खाने से क्या होता है?

यह विटामिन इम्यूनिटी पावर को बढ़ाने के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है. विटामिन सी आपके शरीर की प्रतिरक्षा शक्ति को मजबूत बनाती है जिसके कारण शरीर संक्रमण मुक्त रहता है. कमजोर इम्यून सिस्टम वाले लोगों के लिए विटामिन सी का सेवन जरूर करना चाहिए. मजबूत इम्यून सिस्टम के लिए काफी ज्यादा जरूरी माना जाता है.

विटामिन सी के कैप्सूल से क्या होता है?

क्या विटामिन सी की गोली या कैप्सूल आपके लिए फायदेमंद हो सकते हैं? आइए पता करते हैं
ह्रदय रोग के जोखिम को कम करे …
हाई ब्लड प्रेशर को कम करे …
आयरन को अवशेषित करने में मदद करे …
इम्युनिटी बूस्टर भी हैं विटामिन C की गोलियां …
त्वचा, नाखून और बालों के लिए भी फायदेमंद हैं विटामिन-C कैप्सूल

विटामिन डी के कमी से कौन सा रोग होता है?

सवाल: विटामिन डी की कमी से क्या क्या रोग होता है? जबाव: यदि आपके शरीर को पर्याप्त विटामिन डी नहीं मिलता है, तो आपको हड्डियों की असामान्यताएं जैसे कि नरम हड्डियां (ऑस्टियोमलेशिया) या नाजुक हड्डियां (ऑस्टियोपोरोसिस) विकसित होने का खतरा होता है.

विटामिन सी की गोली दिन में कितनी बार लेनी चाहिए?

-विशेषज्ञ स्वस्थ वयस्कों को 65 से 90 मिलीग्राम विटामिनसी रोजाना लेने की सलाह देते हैं। -06 से आठ ग्राम खुराक लेने पर सर्दी-जुकाम के लक्षणों से दो से तीन दिन में राहत मिलती है।

विटामिन डी की गोली खाने से क्या फायदा?

विटामिन डी हड्डियों, दांतों और मांसपेशियों को मज़बूत करता है और स्वस्थ रखता है. लेकिन अब वैज्ञानिकों को लगता है कि ये शरीर की प्रतिरोधक प्रणाली को भी मज़बूत करता है और इसी वजह से ये कोविड-19 जैसे वायरस से लड़ने में भी कारगर साबित हो सकता है.

विटामिन सी कब लेना चाहिए?

18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग को प्रतिदिन अपने भोजन में 90 मिलीग्राम से 2000 मिलीग्राम तक विटामिन सी लेना चाहिएविटामिन सी, श्वेता रक्त कोशिकाओं के अलावा ‘फैगोसाइट’ नाम की प्रतिरोधक कोशिकाओं का विकास सुनिश्चित करता है. ये कोशिकाएं खून में मौजूद विषाणुओं को सोखकर संक्रामक रोगों से निजात दिलाती हैं.

विटामिन A की कमी से क्या होता है?

विटामिन-ए की कमी से आंखों में रतौंधी (रात में दिखाई देने में मुश्किल), आंख के सफेद हिस्से में धब्बे तथा कॉर्निया सूखना शुरू हो जाता है. इसके बाद कॉर्निया में घाव हो जाते हैं और यह अपारदर्शी हो जाता है. ठीक इलाज के अभाव में इससे स्थाई अंधापन भी हो सकता है, जोकि सहसा दोनों आंखों में होता है.

विटामिन d3 की कमी से क्या होता है?

विटामिन डी 3 को कोलेकल्सीफेरोल के नाम से जाना जाता है। यदि शरीर में विटामिन डी 3 की कमी होने लगती है तो हड्डियो में कमजोरी आने लगती है साथ ही स्वास्थ्य में कई तरह समस्या उत्पन्न होने लगती है। विटामिन डी 3 की कमी से बचने के लिए अपने डाइट में विटामिन डी 3 को शामिल करना चाहिए।