Dry Apricot In Hindi- खुबानी का सेवन करने से होने वाले अध्भुत फायदे, जाने

0
400
Dry Apricot In Hindi

Dry Apricot In Hindi:- खुबानी अपने खट्टे मीठे स्वाद के कारण पूरे विश्व में लोकप्रिय है । यह रसदार फल है । खुबानी से कई प्रकार के व्यंजन भी बनाए जाते हैं। खुबानी में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जो हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी गुणकारी और फायदेमंद साबित होते हैं । (Dry Apricot In Hindi) आज हम आपके साथ हमारे इस लेख के माध्यम से खुबानी से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी जैसे खुबानी होता क्या है?, खुबानी के पोषक तत्व, खूबानी के फायदे तथा खुबानी के नुकसान आदि पर चर्चा परिचर्चा करेंगे।

Dry Apricot In Hindi

Table of Contents

खुबानी का वैज्ञानिक  Prunus Armeniaca नाम होता है।यहां एक गुठली दार फल होता है । खुबानी का फल सबसे पहले आर्मेनिया में उगाया गया था। खुबानी, आलू बुखारा तथा आड़ू एक ही वनस्पतिक परिवार की फल होते हैं। खुबानी की खेती उत्तर भारत तथा पाकिस्तान में की जाती है । खुबानी में कई प्रकार के विटामिन तथा पोषक तत्व पाए जाते हैं।

विश्व में सबसे अधिक तुर्की में खुबानी का उत्पादन किया जाता है। अंग्रेजी में खुबानी को एप्रिकॉट कहते है । यह नारंगी रंग का होता है ।खुबानी का पेड़ लंबाई में 8 से 12 मीटर तक होता है।इसका इस्तेमाल विभिन्न प्रकार के सौंदर्य क्रीम्स बनाने में किया जाता है। (Dry Apricot In Hindi) इसके अतिरिक्त खुबानी का इस्तेमाल जूस, जैली, तथा जैम बनाने में किया जाता है।

खुबानी क्या होती है

खुबानी या Apricot एक गुठली वाला फल होता है जिसे Dry Fruit भी कहा जाता हैं। इसको कच्चा और सूखे मेवे की तरह खाया जा सकता है। दरसल, खुबानी का छिलका थोड़ा खुरदुरा और मुलायम होता हैं जिसे पकड़ने पर ही आप उसकी खुरदता महसूस कर सकते हैं। (Dry Apricot In Hindi) खुबानी मीठा फल होता है और इसकी गर्म तासीर होती है।

खुबानी के पौष्टिक तत्व 

खुबानी में ऊर्जा, प्रोटीन, फैट ,कार्बोहाइड्रेट , फाइबर , शुगर , कैल्शियम , आयरन , मैग्नीशियम , फास्फोरस, पोटैशियम , सोडियम, जिंक, कॉपर, मैगनीज , सेलेनियम , विटामिन-सी , थियामिन, राइबोफ्लेविन , (Dry Apricot In Hindi) नियासिन, विटामिन-बी 6, फोलेट, विटामिन-ए, RAE, बीटा कैरोटिन, विटामिन-ए, विटामिन- ई, विटामिन- के, आदि पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते है।

खुबानी खाने का सही तरीका (खुबानी कैसे खाएं)

  • आप सूखी खुबानी या खुबानी के बीजो का सेवन कर सकते है।
  • खुबानी धोकर फल की तरह खा सकते है।
  • आप खुबानी को सलाद की तरह खाये। (Dry Apricot In Hindi)
  • आप खुबानी को दही या दलिया के साथ मिलाकर खाये।
  • आप मिल्क शेक के साथ भी पि सकते है
  • यदि आपको पता न हो तो हम बात दें की खुबानी की तासीर गर्म होती है परन्तु इसे किसी भी मौसम में खाया जा सकता है।
  • इसे दिन में 5 या 6 से ज्यादा न खाये।

Apricots Benefits

पाचन के लिए (khurmani)

खुबानी मे फाइबर प्रचुर मात्रा में पाए जाते है जो पाचन क्रिया को सुचारू रूप से चलाने में सहायता करते है। पाचन संबंधी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आप खुबानी का सेवन कर सकते है । (Dry Apricot In Hindi) खुबानी का सेवन करने से आप कब्ज की समस्या से भी निजात पा सकते हैं।यह आपके स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

आंखों के लिए (Apricot Meaning In Hindi)

खुबानी में बीटा कैरोटीन नामक तत्व प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जिससे बढ़ती हुई उम्र के कारण आंखें कमजोर होने और आंखों की बीमारी, आंखों से दिखाई कम देना आदि समस्याओं से छुटकारा दिलाने में सहायक होते हैं। (Dry Apricot In Hindi) इन सभी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आपको पानी का इस्तेमाल कर सकते हैं, क्योंकि इसमें beta-carotene प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होता है। आंखों से जुड़ी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए खुबानी काफी फायदेमंद साबित हो सकती है।

वजन कम करने के लिए

खुबानी में मौजूद फाइबर सेटाइटी (Satiety) हार्मोन को सीक्रेट करता है, जिससे पेट को तृप्ति का एहसास होता है। और ऐसा होने पर बार-बार खाने का मन नहीं करता है और वजन बढ़ने की आशंका कम हो जाती है ।(Dry Apricot In Hindi) मोटापे की समस्या से छुटकारा पाने के लिए खुबानी काफी फायदेमंद साबित हो सकती है । मोटापे की समस्या के कारण होने वाले अन्य समस्याओं से निजात पाने के लिए आप खुबानी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

हृदय रोग (Apricot meaning  in Hindi)

खुबानी में फेनोलिक नामक फाइटोकेमिकल्स होता हैं जो हृदय संबंधित समस्या से निजात दिलाने में सहायक होते हैं। इसके अतिरिक्त खुबानी में मौजूद फेनोलिक कंपाउंड एंटीऑक्सीडेंट के अनुरूप कार्य करता है, जो ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करके काॅर्डियो प्रोटेक्टिव औषधीय गुण दर्शाता है। खूबानी का सेवन करने से आप हृदय संबंधित समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।

गर्भावस्था में फायदा

गर्भवती महिलाओं और शिशुओं को स्तनपान कराने वाली माताओं को प्रचुर पोषक तत्वों वाले भोजन की आवश्यकता होती है। जिससे महिला और शिशु दोनों का स्वास्थ बना रहे। भोजन में खुबानी को सम्मलित करना बहुत ही फायदेमंद माना गया है। खुबानी में Potassium Calcium Phosphorus Iron इत्यादि पोषक तत्वों के अतिरिक्त Vitamins भरपूर होता है। ये प्रतिदिन चार खुबानी खा सकती हैं। परन्तु आप फिर भी डॉक्टर से सलाह लेकर ही खुबानी का सेवन करें।

Dry Apricot In Hindi

एनीमिया के लिए

खुबानी में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो एनीमिया को समय से निजात दिलाने में सहायक होता है। इसके अतिरिक्त , खुबानी में फाेलेट भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते है । एनीमिया की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप खुबानी का इस्तेमाल कर सकते है। यह आपके स्वास्थ्य के लिए काफी गुणकारी साबित हो सकती हैं।

मधुमेह के लिए (खुबानी फल के फायदे)

खुबानी में क्लोरोजेनिक एसिड होता है, जो रक्त में ग्लूकोज के अवशोषण को नियंत्रित करने में सहायक होता है। हमारे रक्त में ग्लूकोज की अधिकता होने पर मधुमेह की समस्या सामने आ सकती है। इसके अतिरिक्त, खुबानी को लो-ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले फलों में चुना जाता है, (Dry Apricot In Hindi) जो रक्त शर्करा को नियंत्रित करने में सहायक होते है।मधुमहे की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप खुबानी का इस्तेमाल कर सकते है।

कान दर्द के लिए- 

खुबानी में एनाल्जेसिक यानी दर्द निवारक औषधीय गुण पाया जाता है, जो दर्द को कम करने में सहायक होता है। खुबानी का सेवन करने से कान दर्द के अलावा अन्य दर्द से भी छुटकारा पाया जा सकता है । अच्छी सेहत के साथ दर्द की समस्या के लिए भी खुबानी का सेवन किया जा सकता है।

सूजन के लिए

खुबानी में एंटी-इंफ्लेमेटरी औषधीय गुण मौजूद होता है, जो सूजन को कम करने में सहायक होता है। खुबानी के अलावा, उसके बीज के अंदर का खाद्य हिस्सा (Kernel) पेट की सूजन (Colon Inflammation) को कम करने में सहायक होता है । सूजन से जुड़ी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आप खुबानी का इस्तेमाल कर सकते है।

रक्तचाप के लिए

खुबानी में पोटेशियम, मैग्नीशियम और फाइबर जैसे पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, (Dry Apricot In Hindi) जो रक्तचाप नियंत्रण में सहायक होते हैं। रक्तचाप की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप खुबानी का सेवन कर सकते है ।

Dry Apricot In Hindi

लीवर के लिए

खुबानी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स औषधीय गुण पाया जाता है, जो ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम करके लीवर की रक्षा करने मे सहायक है। इसके अतिरिक्त खुबानी में हेपाटोप्रोटेक्टिव गुण होता है, जो लीवर को डैमेज होने से बचाता है। लीवर से जुडी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आप खुबानी का इस्तेमाल कर सकते है।

अस्थमा के लिए

खुबानी में लाइकोपीन कैरोटीनॉयड कंपाउंड होता है, जो एंटीऑक्सीडेंट औषधीय गुण प्रदर्शित करता है। खुबानी का सेवन करने से अस्थमा की समस्या को काफी हद तक नियंत्रित किया जा सकता है। (Dry Apricot In Hindi) खुबानी का सेवन करना आपके स्वास्थ्य के लिए काफी फायदे मंद साबित हो सकता है।

बुखार के लिए

खुबानी में एंटीपायरेटिक (Antipyretic) गुण पाया जाता है, जो बुखार, खांसी, जुखाम आदि समस्याओं से निजात दिलाने में सहायक होते है। यह आपके स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है।

हड्डियों के लिए

खुबानी में कैल्शियम, पोटेशियम और मैग्नीशियम प्रचुर मात्रा में पाए जाते है, जो हड्डियों को स्वस्थ रखने में सहायक होते हैं। (Dry Apricot In Hindi) यह हड्डियों को मजबूत बनाता हैं। हड्डियों से जुड़ी समस्या से छूटकारा पाने के लिए खुबानी का सेवन कर सकते है।

अल्सर के लिए (Khubani Ke Fayde)

कर्नेल अर्क में एंटी-अल्सरेटिव और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं, जो अल्सर और उसकी वजह से होने वाली सूजन को कम करने में सहायक होते हैं । इसके अतिरिक्त खूबानी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट अल्सर की समस्या से निजात दिलाने में सहायक होते है।

त्वचा और बालों के लिए

खुबानी में एंटी-एजिंग औषधीय गुण पाया जाता है, जो त्वचा को समय से पहले बूढ़ा होने से रोकने में सहायता करता हैं। खुबानी का इस्तेमाल करने से बढ़ती उम्र के लक्षण जैसे फाइन लाइन्स और झुर्रियां को कम किया जा सकता है। (Dry Apricot In Hindi) इसके अतिरिक्त, खुबानी में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट स्किन इंफ्लेमेशन यानी सूजन को कम करने में सहायक होता है। यह हमारे बालों के लिए भी काफी गुणकारी होता है। बालों से जुडी स्मास्यप से छुटकारा पाने के लिए आप खुबानी का इस्तेमाल कर सकते है।

Dry Apricot In Hindi

कैंसर के लिए

खुबानी के कर्नल (Kernel) में एमिगडलिन (Amygdalin) तत्व पाया जाता है, जो इंटेस्टाइन कैंसर (Colon Cancer) को बढ़ने से रोकने में सहायता करता हैं। खुबानी को प्राकृतिक एंटी-कैंसर एजेंट माना जाता है कैंसर एक गंभीर बीमारी है। ऐसी समस्या होने पर आप डॉक्टर से अपना इलाज जरूर करवाएं।

Names Of Apricot In Other Languages

  • खुबानी in Sanskrit-उरुमाण
  • खुबानी in Hindi-जरदालू, खुबानी, चिलू
  • खुबानी in Urdu-खुबानी (Khubani)
  • खुबानी in Kashmiri-गरडालू (Gardalu), जर्दालु (Jardalu), चेरकिश (Cherkish)
  • खुबानी in Nepali-खुर्पानी (Khurpani)
  • खुबानी in Panjabi-हरी (Hari), सरी (Sari), चुली (Chuli)
  • खुबानी in English-कौमन एप्रीकोट (Common apricot)
  • खुबानी in Arbi-बिनकफक (Binkuk), किशानिश (Kishanish)
  • खुबानी in Persian-मिश-मिश (Mish-Mish), जरदालु (Zardalu)

Side Effects of Apricot in Hindi (खुबानी के फायदे और नुकसान)

  •  खुबानी का सेवन बच्चों को नही करना चाहिए।खुबानी के सेवन से बच्चों को विषाक्तता हाे सकती है।
  • सूखी खुबानी को अच्छे से चबाकर सेवन करना चाहिए।यह गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्या का कारण बन सकती है।
  • खुबानी के बीज के अंदर गिरी का सेवन हृदय संबंधित समस्या का कारण हो सकती है। इसलिए खुबानी का सेवन सीमित मात्रा में ही करे।
  • कुछ लोगो में खुबानी का इस्तेमाल करने से एलर्जी के लक्षण दिखाई दे सकते है।

सूजन मिटाने के लिए कैसे उपयोगी है ?

खुबानी में एंटी-इंफ्लेमेटरी औषधीय गुण मौजूद होता है, जो सूजन को कम करने में सहायक होता है। खुबानी के अलावा, उसके बीज के अंदर का खाद्य हिस्सा (Kernel) पेट की सूजन (Colon Inflammation) को कम करने में सहायक होता है । सूजन से जुड़ी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आप खुबानी का इस्तेमाल कर सकते है।

खुबानी खाने से क्या फायदा?

खुबानी Fiber का भी अच्छा स्रोत है। यह मधुमेह में भी फायदा करता है। यह भारत के पहाड़ी क्षेत्रों जैसे कश्मीर, हिमाचल प्रदेश इत्यादि में उगाया जाता है। इसके इतने सारे फायदे हैं कि यदि आप इसे अपनी Daily Diet में शामिल कर लेते हैं तो आंखों की रोशनी बढ़ने से लेकर कैंसर जैसी बीमारियां तक दूर हो सकती हैं।

खुबानी की तासीर क्या है?

खुबानी (apricot) दिखने में आड़ू या प्लम जैसा होता है जिसका छिलका थोड़ा खुरदुरा और मुलायम होता है। आयुर्वेद में कहा गया है कि खुबानी गर्म तासीर का फल है। खुबानी की त्वचा मुलायम और गूदा मुलायम होता है और स्वाद स्वाभाविक रूप से मीठा होता है।

सूखे खुबानी कैसे खाएं?

मात्रा : सामान्य तौर पर आप इसका सेवन सीमित मात्रा में कर सकते हैं। कभी-कभी एक चौथाई कप मतलब की लगभग 30 ग्राम या 4 सूखी खुबानी का सेवन किया जा सकता है। हालांकि, इसकी मात्रा व्यक्ति की उम्र और स्वास्थ्य स्थिति के अनुसार कम या ज्यादा हो सकती है।

खुबानी का दूसरा नाम क्या है?

इसका पेड़ काबुल की पहाड़ियों पर होता है। वही से यह मेवा भारत में आता है। इसे जरदालु भी कहते हैं ।

खुबानी क्या होती है?

खुबानी या Apricot एक गुठली वाला फल होता है जिसे Dry Fruit भी कहा जाता हैं। इसको कच्चा और सूखे मेवे की तरह खाया जा सकता है। दरसल में खुबानी का छिलका थोड़ा खुरदुरा और मुलायम होता हैं जिसे पकड़ने पर ही आप उसकी खुरदता महसूस कर सकते हैं। (Dry Apricot In Hindi) खुबानी मीठा फल होता है।और इसकी गर्म तासीर होती है।

खुबानी के पौष्टिक तत्व बताये?

खुबानी में ऊर्जा, प्रोटीन, फैट ,कार्बोहाइड्रेट , फाइबर , शुगर , कैल्शियम , आयरन , मैग्नीशियम , फास्फोरस, पोटैशियम , सोडियम, जिंक, कॉपर, मैगनीज , सेलेनियम , विटामिन-सी , थियामिन, राइबोफ्लेविन , (Dry Apricot In Hindi) नियासिन, विटामिन-बी 6, फोलेट, विटामिन-ए, RAE, बीटा कैरोटिन, विटामिन-ए, विटामिन- ई, विटामिन- के, आदि पोषक तत्व प्रचुर मात्रा में पाए जाते है।