How to Boost Emmune system रोग प्रतिरोधक ( इम्‍यूनिटी ) क्षमता बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थ, घरेलू इलाज, बूस्टर जूस, योग, हर्बल ड्रिंक,

0
32

How to Boost Emmune system,Immunity kaise badhaye, Immunity kaise badhaye in hindi, bacho ki immunity kaise badhaye, baccho ki Immunity kaise badhaye, Immunity kaise badhaye kya khaye, Immunity kaise badhaye gharelu upay

इम्युनिटी लोगों के शरीर में किसी भी तरह की बीमारी से लड़ने का काम करती है। इसलिए इसका मजबूत होना बहुत महत्वपूर्ण है। हालांकि, व्यस्त लाइफस्टाइल और काम के चलते लोगों की इम्युनिटी काफी कमजोर हो जाती है। जिसके कारण उन्हें कोई भी बीमारी आसानी से पकड़ लेती है। ऐसे में रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत रखना आज के समय में काफी चैलेंजिंग हो गया है। इम्यूनिटी बढ़ाने के कई तरीके हैं. इम्यूनिटी के लिए औषधि (Herbs For Immunity) से लेकर इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फूड्स (Immunity Boosting Foods) और ड्रिंक्स का सेवन किया जा रहा है.

करना भी चाहिए क्योंकि यह आज की जरूरत बन गए हैं. हालाकि मजबूत इम्यून सिस्टम (Strong Immune System) की जरूरत पहले भी होती थी, लेकिन आज की परिस्थितियां अलग हैं. संक्रमण काल में लोगों की जरूरतें बदल गई है। घरों में सुबह-सुबह की चाय या कॉफी की जगह अब लोग इम्यूनिटी युक्त पेय पदार्थो का सेवन कर रहे हैं। मौसम में थोडा सा बदलाव होने पर ही कई लोग तुरंत सर्दी-जुकाम और फ्लू की चपेट में आ जाते हैं। क्या आपने कभी सोचा है कि बाकी लोग उसी मौसम में स्वस्थ रहते हैं फिर आपको ही क्यों जुकाम हो जाता है? दरअसल हमारे शरीर में प्राकृतिक रुप से ही रोगों से लड़ने की शक्ति होती है जिसे हम रोग प्रतिरोधक क्षमता या इम्युनिटी कहते हैं।

अगर शरीर की इम्युनिटी मजबूत है तो आप जल्दी बीमार नहीं पड़ेगें। नींबू, तुलसी, अदरक, गिलोई समेत अन्य पदार्थों से बने काढ़ा भले ही जायका खराब करता हो, लेकिन अनिवार्य रूप से यह पेय पदार्थ घर-घर में लोग उपयोग कर रहे हैं। इसके अलावा तरह-तरह की सामग्री इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए घर में पहुंच रहे हैं। हालात यह है की इस समय घरेलू बजट का 75 फीसद राशि इम्यूनिटी बढ़ाने वाले खाद्य पदार्थों की खरीदारी में समाप्त हो जा रही है। इससे घर का बजट बिगड़ जा रहा। कोरोना वायरस के बारे में यह बात तो सभी को पता है कि यह खतरनाक वायरस वैसे लोगों को जल्दी अपनी चपेट में ले लेता है, जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर होती है।

चिकित्सकों और वैज्ञानिकों के मुताबिक, 10 सेकेंड से भी कम समय में यह वायरस अटैक कर सकता है। ऐसे में हमें अपनी इम्यूनिटी यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता का खास ख्याल रखने की जरूरत है। इस कोरोना काल में हमें शरीर की इम्यूनिटी बढ़ाने वाले फूड का सेवन करने की जरूरत है। डॉक्टरों की सलाह है कि जहां तक संभव हो अपनी इम्यूनिटी को मजबूत बनाएं और खुद को इस वायरस से बचा कर रखें। यहां हम आपको बता रहे हैं सुपरफूड के बारे में, जो आपके घर में ही मौजूद है और जिसका सेवन करने से आपकी इम्यूनिटी बढ़ती है।

इम्युनिटी कैसे बनती है

आयुर्वेद में अग्नि अर्थात पाचक अग्नि को सबसे महत्वपूर्ण माना गया है। हमारे द्वारा खाया गया भोजन इस पाचक अग्नि द्वारा ही अलग अलग धातु में परिवर्तित होता है। आयुर्वेद में सात धातुएं इस क्रम में बताई गयी हैं : प्लाज्मा, रक्त, मांसपेशियां, वसा, हड्डी, बोनमैरो और शुक्र (प्रजनन संबंधित तरल पदार्थ)। रोग प्रतिरोधक शक्ति हमारे शरीर को ऐसा सुरक्षा कवच प्रदान करती है, जिससे शरीर जल्दी किसी साधारण बीमारी की चपेट में नहीं आता। इम्यून सिस्टम के कमजोर हो जाने पर अक्सर सर्दी-जुकाम और बुखार जैसी समस्या बनी रहती है। एक मजबूत रोग प्रतिरोधक शक्ति विभिन्न रोगाणुओं और संक्रामक बीमारियों से हमें बचा सकती है।

इम्युनिटी या रोग प्रतिरोधक क्षमता रोगों से लड़ने की शक्ति देती है लेकिन इसके लिए आपका खानपान एकदम सही होना चाहिए. तभी आप रोगों से दूर रह सकते हैं। आयुर्वेद में खाना कैसे खाएं, कब और कितनी मात्रा में खाएं, इन सबके बारे में कुछ नियम बताए गये हैं। उन नियमों का पालन करने से शरीर की इम्युनिटी मजबूत होती है और शरीर सेहतमंद रहता है। आइये उन नियमों के बारे में जानते हैं.

अब यह जानना जरूरी है कि आखिर इम्युनिटी को बढ़ाया कैसे जाए?

आपके खानपान से ही इम्युनिटी निर्धारित होती है। भोजन हमारे स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण तो है लेकिन इसके साथ-साथ यह जानना भी ज़रूरी है कि भोजन किस प्रकार और किन परिस्थियों में किया जाए। अगर आपको भोजन के अलग अलग प्रकार और उनकी उपयोगिता पता हो तो आप अपने खानपान को और बेहतर बना सकते हैं। इस लेख में हम आपको आयुर्वेद में बताए गए भोजन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों और इम्युनिटी के बारे में विस्तार से बता रहे हैं। आइये सबसे पहले इम्युनिटी के बारे में जानते हैं।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के जूस :

1) टमाटर

How to Boost Emmune system

टमाटर का उपयोग भी इम्यूनिटी बूस्ट जूस के तौर पर कर सकते हैं। इससे जुड़े शोध में जिक्र मिलता है कि टमाटर का जूस रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद कर सकता है। वहीं, शोध में आगे जिक्र मिलता है कि शरीर में लाइकोपीन और बीटा कैरोटीन जैसे कैरोटीनॉयड की कमी कोल्ड और फ्लू का कारण बन सकती है और टमाटर का जूस शरीर में इन कैरोटीनॉयड की पूर्ति का काम कर सकता है।

2) स्ट्रॉबेरी और कीवी

How to Boost Emmune system

इम्यूनिटी बूस्ट करने के लिए जूस की बात की जाए, तो इस लिस्ट में स्ट्रॉबेरी और कीवी के रस का नाम भी शामिल किया जा सकता है। एक मेडिकल रिसर्च के अनुसार, स्ट्रॉबेरी में पॉलीफेनोल जैसे एंटीऑक्सीडेंट होते हैं, जो कोशिकाओं की क्षति को कम कर प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार कर सकते हैं। इसके अलावा, इसमें विटामिन-सी भी पाया जाता है, जो इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में मदद कर सकता है। वहीं, कीवी फल के पोषक तत्व में विटामिन-सी, पॉलीफेनोल, कैरोटिनॉइड और फाइबर भी शामिल हैं। ये सभी तत्व शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार करने का काम कर सकते हैं।

3) हरा सेब

ग्रीन एप्पल और केल शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में किस तरह मदद कर सकते हैं, इस बारे में हम लेख में पहले ही जानकारी दे चुके हैं। वहीं, सलाद पत्ते के फायदे भी इम्यून सिस्टम को मजबूत करने में मदद कर सकते हैं। दरअसल, एक शोध में सलाद पत्ते को विटामिन-सी से समृद्ध खाद्य पदार्थों में शामिल किया है और हम ऊपर बता चुके हैं कि विटामिन-सी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक हो सकता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के खाद्य पदार्थ :

1) शकरकंद

How to Boost Emmune system

यह जानकर शायद हैरानी होगी कि शकरकंद का सेवन रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने में मदद कर सकता है। जी हां, शकरकंद विटामिन-ए का एक समृद्ध स्रोत होता है। विटामिन-ए एक एंटीइन्फ्लामेट्री विटामिन होता है, जो इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाए रखने में मदद करता है। यह थाइमस ग्लैंड की कार्यप्रणाली को बेहतर बनाने में भी मदद कर सकता है। इसके अलावा, विटामिन-ए एंटीऑक्सीडेंट भी होता है और ऑक्सीडेटिव तनाव के कारण बढ़ने वाली समस्या जैसे एड्स का जोखिम कम करने में मदद कर सकता है। साथ ही, विटामिन-ए टीबी के जोखिम से बचाने में भी मददगार हो सकता है।

2) आंवले की चटनी

आंवला में विटामिन सी की मात्रा भरपूर होती है. सुबह सुबह आंवला नींबू की चटनी खाएं. यह आपके परिवार की इम्‍यूनिटी को बूस्‍ट करेगा. आंवला ऐसे भी खाया जा सकता है. कई लोग इसे शहद के साथ भी खाते हैं. आंवला कैंडी भी बच्‍चों के लिए एक अच्‍छी इम्‍यूनिटी बूस्‍टर का काम करती है

3) गिलोय

इस दौर में गिलोय की काफी चर्चा हुई है. खासकर इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए गिलोय कारगर औषधियों में मानी गई है. गिलोय का सेवन कर भी इम्यूनिटी को बढ़ावा मिल सकता है. इस आयुर्वेदिक औषधि का सेवन कई तरीके से किया जा सकता है. गिलोय आपको कैप्सूल के रूप में या फिर हरी पत्तियों के रूप में भी बड़ी आसानी से मिल जाएगी. गिलोय की पत्तियों का जूस के रूप में भी सेवन किया जा सकता है.

4) तुलसी

तुलसी भारतीय घरों में आसानी से मिल जाती है. तुलसी के पत्तों में भी एंटी ऑक्सीडेंट्स भरपूर मात्रा में होते हैं. तुलसी की पत्तियों का सेवन कर इम्यून सिस्टम को मजबूत किया जा सकता है. तुलसी की पत्तियों का सेवन अगर शहद के साथ किया जाए तो यह इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में काफी लाभकारी साबित हो सकती हैं. ऐसे में अगर आप इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए इस उपाय को आजमाएंगे तो आपको जरूर फायदा हो सकता है.

5) अदरक

हमारे किचन में अदरक न सिर्फ स्वाद बढ़ाता है, बल्कि स्वास्थ्य को कई तरह के फायदे भी दे सकता है. सर्दी, खांसी और जुकाम से लेकर यह इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए काफी लाभदायक माना जाता है. अदरक में कई तरह के गुण होते हैं जो इम्यून सिस्टम को बूस्ट कर सकते हैं. अदरक में एंटी बैक्टीरियल, एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट होते हैं जो इम्यून सेल्स बढ़ावा देते हैं. इसका सेवन आप चाय या पानी घोलकर शहद के साथ कर सकते है.

6) अश्वगंधा

अश्वगंधा का नाम आपने कई बार सुना होगा. आयुर्वेद में अश्वगंधा का इस्तेमाल कई रोगों से छुटकारा पाने में किया जाता है. इम्यूनिटी बढ़ने के लिए अश्वगंधा का सेवन आप दूध के साथ कर सकते हैं. अश्वगंधा का सेवन करने से इम्यून सिस्टम को मजबूत बनाया जा सकता है. अश्वगंधा वाला दूध रात को सोने से पहले पीने से अच्छी नींद लेने में भी मदद कर सकता है.

7) लेमन ग्रास

लेमन ग्रास के औषधीय पौधे के बारे में आपने शायद ही पहले कभी सुना होगा. इस पौधे का तेल इम्यून सिस्टम के लिए काफी फायदेमंद माना जाता है. वायरल फीवर (मौसमी बुखार) और खांसी, सर्दी, जुकाम में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है. पेट, आतों और यूरीनरी ट्रैक्ट में इंफेक्शन से यह तुरंत राहत दिलाता है.

8) योगा और प्राणायाम

इसके साथ ही योगा, ध्यान और प्राणायाम का भी सहारा लिया जा सकता है. बदली परिस्थितियों में आप यही छोटे-छोटे नुस्खे आजमाकर स्वस्थ रह सकते हैं, क्योंकि अभी अस्पताल और चिकित्सक कोरोना के मरीजों की जांच और देखरेख में व्यस्त हैं. इसलिए अस्पतालों में अनावश्यक दबाव बढ़ाने से बचें और सुरक्षित रहें.

9) हल्‍दी दूध

हर रात यदि हम गरम दूध में एक चम्‍मच हल्दी और शहद मिलाकर पिएं तो यह हमारी सेहत को दुरुस्‍त रखती है. भारतीय आयुर्वेद विज्ञान में हल्‍दी का बहुत ही महत्‍वपूर्ण स्‍थान है. इम्‍यून सिस्‍टम को मजबूत करने में इसका प्रयोग किया जाता है.

10) जड़ी-बूटियां, मसाले और काढ़ा:

दालचीनी, जीरा, हल्दी और किचन में मौजूद बाकी मसाले हमेशा से अपनी बहुमुखी प्रतिभा के लिए जाने जाते हैं. स्वाद बढ़ाने के अलावा, ये जड़ी-बूटियां और मसाले सदियों से पारंपरिक चिकित्सा पद्धतियों में हैं. और फिलहाल चल रही महामारी के बीच, हमने इन सारे मसाले और जड़ी-बूटियों को वापस प्रचलन में आते देखा है – कभी काढ़े, कभी हर्बल-टी तो कभी चूरन के रूप में. ये तमाम जड़ी-बूटियों और मसालें एंटीऑक्सिडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर होते हैं जो इम्यूनिटी को बूस्ट करने में मदद कर सकते हैं .

इम्युनिटी बढ़ाने में रामबाण माने जाते हैं ये 4 ड्राय फ्रूट्स, सर्दियों में खाना होगा फायदेमंद

1) बादाम:

विटामिन-डी की कमी से भी इम्युनिटी कमजोर हो जाती है। खबरों के अनुसार शहर में रहने वाले 80 से 90 प्रतिशत लोगों में इस विटामिन की कमी होती है। बादाम में विटामिन डी भरपूर मात्रा में मौजूद होता है। न केवल इम्युनिटी बढ़ाने में बल्कि इसके सेवन से हड्डियां भी मजबूत होती हैं। विटामिन-डी की कमी से भी इम्युनिटी कमजोर हो जाती है। खबरों के अनुसार शहर में रहने वाले 80 से 90 प्रतिशत लोगों में इस विटामिन की कमी होती है। बादाम में विटामिन डी भरपूर मात्रा में मौजूद होता है। इसमें विटामिन-ई भी प्रचुर मात्रा में मौजूद होता है जो रोगों से लड़ने में सहायक भूमिका निभाता है। ये वायरस और बैक्टीरिया के प्रभावों को कम करता है।

2) काजू:

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए पर्याप्त नींद लेना जरूरी है। वहीं, कोरोना के कारण स्ट्रेस की अधिकता से नींद भी प्रभावित हुई है। नींद की कमी और ज्यादा तनाव लेने से इम्युनिटी कमजोर हो जाती है। ऐसे में काजू का सेवन फायदेमंद होता है। माना जाता है कि चिंता, तनाव, बेचैनी और अवसाद को दूर रखने में काजू कारगर है। इतना ही नहीं, जिन लोगों को कम नींद आती है, उन्हें भी डॉक्टर्स काजू खाने की सलाह देते हैं। काजू में विटामिन ई और बी6 भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाने में मददगार होता है। अलग-अलग प्रकार के डिशेज बनाने में काजू का इस्तेमाल भी किया जाता है जो खाने को और भी स्वादिष्ट व लजीज बनाता है।

3) खजूर

विंटर फूड्स में सबसे अहम नाम खजूर का होता है। चिकित्सक उन लोगों को अपनी डाइट में खजूर खाने की सलाह देते हैं, जिनकी रोग प्रतिरोधक क्षमता कमजोर है। पोषक तत्वों से भरपूर खजूर के सेवन से इम्युनिटी बूस्ट करने में मदद मिलती है। यही कारण है कि विशेषज्ञ नियमित रूप से रोजाना खजूर खाने को बोलते हैं। इसे कई अलग-अलग स्वीट डिशेज बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। इसमें भारी मात्रा में प्रोटीन, विटामिन,मिनरल्स और नेचुरल शुगर पाया जाता है जो कब्ज से लेकर एनीमिया जैसी बीमारी से छुटकारा दिलाने में मदद करता है।

4) अंजीर

अंजीर एक ऐसा फल है जो बहुत सारे पोषक तत्वों से भरा होता है साथ ही इसके स्वास्थ्य से जुड़े कई फायदे होते हैं। अंजीर खाने से पाचन तंत्र सही रहता है। इसके अलावा सर्दी जुकाम, अस्थमा व डायबिटीज में भी राहत मिलती है। इसमें विटामिन A, विटामिन B1, विटामिन B2, फोस्फोरस, आयरन, क्लोरिन, कैल्शियम, मैगनीस, फाइबर, सोडियम, पोटेशियम व गोंद भी पाया जाता है। अंजीर का रंग जितना गहरा होता है वह उतना ही फायदेमंद होता है।

Top 5 काजू के फायदे in Hindi ( उपयोग और नुकसान )

बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता कैसे बढ़ाए?

बच्‍चों की इम्‍यूनिटी बढ़ाने के लिए क्‍या खिलाएं
​पत्तेदार सब्जियां पत्तागोभी, फूलगोभी, पालक, ब्रोकली, पार्सले, केल जैसी हरी पत्तेदार सब्जियां संक्रमण से लड़ने और बचाने में मदद करती है। …
​सियान पैपर …
कद्दू …
​खट्टे फल …
​खुबानी …
दालें …
​मटर …
​सूखे मेवे और बीज

इम्युनिटी कैसे बढ़ाये घरेलू उपाय?

कोरोनावायरस बचने के लिए करें रोग-प्रतिरोधक क्षमता मजबूत, इन पांच उपायों से बढ़ाएं इम्युनिटी पावर
जल्दी उठिए, पर पर्याप्त नींद के बाद …
धूप खाएं, कसरत या योग भी करें …
सुबह का नाश्ता जरूर लें …
लहसुन, अदरक, खट्‌टे फल खाइए …
ज्यादा से ज्यादा पानी पीजिए

इम्यूनिटी सिस्टम बढ़ाने के लिए क्या क्या खाना चाहिए?

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए खाने में दूध, दही, दालें, बीन्स, पनीर सत्तू , संतरे, आवंले, हरी मिर्ची, और फल को शामिल करें। कोरोना से बचाव के लिए हम सबसे पहले सुबह उठते ही गर्म पानी में नींबू का रस, हल्दी, चिया के बीच, दालचीनी मिलाकर पीएं। हल्दी और दालचीनी इंफेक्शन से लड़ने में शरीर की मदद करती हैं।

इम्युनिटी सिस्टम कैसे मजबूत करे?

विटामिन-सी साइट्रस फलों में अधिक पाया जाता है। इसके लिए रोजाना अपनी डाइट में नींबू संतरे अंगूर स्ट्राबेरी पालक केल ब्रोकली आदि फलों और सब्जियों को जरूर शामिल करें

इम्यून कैसे बढ़ाये?

जाड़े के दिनों में दिन में एक-दो लहसुन सेवन करना चाहिए। – दिन में तीन-चार बार ग्रीन-टी पीने से रोगप्रतिरोधक क्षमता में इजाफा होता है। – सर्दी के मौसम के सभी खट्टे फल इम्यूनिटी बढ़ाने का काम करते हैं। – सर्दियों में सब्जियों का सूप पीना इम्यूनिटी तो बढ़ाता ही है, सर्दी-जुकाम में भी फायदा करता है।

यूनिटी पावर क्या है?

बदलते मौसम में मौसमी बीमारियां उन लोगों को ज्यादा तंग करती हैं, जिनकी जीवनी शक्ति (इम्यूनिटी) कमजोर हो गई है। ऐसे लोगों को चाहिए कि वे अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) को बेहतर बनाएं। रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित होगी, तो कई बड़ी बीमारियों और इंफेक्शंस से भी शरीर खुद-ब-खुद अपना बचाव कर लेगा।

इम्यूनिटी का हिंदी में अर्थ क्या होता है?

इम्युनिटी को हिंदी में रोग प्रतिरोधक क्षमता कहा जाता है। यह शरीर को जीवाणु और वायरल संक्रमण से बचाने में मदद करती है।

इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए कौन सा योग करना चाहिए?

त्रिकोणासन (Triangle Pose) त्रिकोणासन का नियमित अभ्यास करने से इम्यून सिस्टम को मजबूत कर सकते हैं. …
पादंगुष्ठासन (Big Toe Pose) इम्यून सिस्टम के लिए एक और आसन को फायदेमंद माना जाता है वह है पादंगुष्ठासन. …
भुजंगासन (Cobra Pose) …
ताड़ासन (Mountain Pose)

इनमें से कौन हमारे शरीर के लिए इम्यूनिटी बूस्टर हैं?

किचन में जरूर रखें ये पांच इम्युनिटी बूस्टर और एंटी बैक्टीरियल फूड्स, कोरोना महामारी से बचाव में कारगर
अदरक अदरक में मौजूद थर्मोजेनिक इफेक्ट हमारे शरीर को कड़कड़ाती ठंड में गर्म रखता है, वहीं यह बीमारियों से बचाकर हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है.
पालक …
हल्दी …
नींबू …
शकरकंदी

प्रतिरक्षा प्रणाली क्या होता है?

प्रतिरक्षा प्रणाली क्या है? प्रतिरक्षा प्रणाली, संक्रमण से शरीर की रक्षा करती है। विशेष कोशिकाओं, ऊतकों और अंगों का एक नेटवर्क जो शरीर को “नुकसान पहुंचाने वालों” की एक किस्म या रोगाणुओं से बचाने के लिए एक साथ काम करता है। इन रोगाणुओं या कीटाणुओं में जीवाणु, परजीवी, विषाणु और फफूंदी शामिल हैं।

प्रतिरक्षा मजबूत करने के लिए क्या खाये?

तीन मुख्य पोषक तत्व जो इम्यूनिटी को बढ़ावा दे सकते हैं, जस्ता, विटामिन डी और विटामिन सी.
जिंक: आपको जिंक युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जैसे कि सीप, शंख, पनीर, फलियां जैसे कि छोले, दाल और बीन्स. …
विटामिन डी: यह विरोधी भड़काऊ गुण है और एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली के निर्माण के लिए महत्वपूर्ण है.

रोग प्रतिरोधक शक्ति कितने प्रकार के होते हैं?

दो तरह की होती है रोग प्रतिरोधक क्षमता

इम्युनिटी यानी हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता आमतौर पर दो तरह की होती है। पहली इनेट और दूसरी अडेप्टिव। इनेट म्युनिटी किसी वायरस के अटैक के कुछ ही घंटों में ही रिऐक्ट करती है। यह एक तरह के बैरियर का काम करती है, जो किसी भी पैथोजेन को हमारे शरीर में फैलने से रोकती है।

भस्त्रिका प्राणायाम कैसे होता है?

भस्त्रिका प्राणायाम करते वक्त धौंकनी की तरह आपको अपनी छाती को फुलाना और पिचकाना है। इस प्राणायाम का अभ्यास तीन अलग सांस दरों से किया जा सकता है। पहला धीमी जिसमें आप 2 सेकंड में 1 सांस लेंगे, दूसरा मध्यम जिसमें आप 1 सेकंड में 1 सांस लेंगे और तीसरा तेज जिसमें आप 1 सेकंड में 2 सांस लेंगे।

कौन सा पोषक तत्व हमारे शरीर को संक्रमण से लड़ने में मदद करता है?

विटामिन ए: प्रतिरक्षा प्रणाली को विनियमित करने और मुंह, पेट, आंतों और श्वसन प्रणाली को स्वस्थ रखने में त्वचा और ऊतकों को स्वस्थ रखते हुए संक्रमण से बचाने में मदद करता है।