Isabgol Benefits & Isabgol Uses: इसबगोल

0
494
Isabgol Benefits

Isabgol Benefits & Isabgol Uses। Isabgol Benefits। Isabgol Uses।Isabgol। इसबगोल क्या है?

Isabgol Benefits & Isabgol Uses

आज के समय में लोगों के जीवन में कई प्रकार की स्वास्थ्य संबंधित समस्याओं का सामना करना पड़ता है। खराब खानपान देर रात्रि तक सोना, देर से जागने की आदत, दिनभर एक ही जगह पर बैठकर कंप्यूटर का घंटों काम करने आदि स्वास्थ्य के लिए काफी नुकसान दायी होती है। इन सभी आदतों के चलते हमारे पाचन तंत्र पर बहुत ही गहरा असर पड़ता है और इसके कारण कब्ज समेत हमारे शरीर में अन्य कई समस्याएं उत्पन्न होने लगती है। कब्ज की समस्या का निवारण आयुर्वेदिक विशेषज्ञों के द्वारा इसबगोल के जरिए किया जाता है।आज हम आपके साथ हमारे इस लेख के माध्यम से इसबगोल के फायदे इसबगोल क्या है नुकसान तथा आदि के बारे में चर्चा परिचर्चा करेंगे।

Isabgol । इसबगोल

यह एक प्लांटागो ओवाट नामक पौधे के बीज होता है । इस पर कॉल का पौधा देखने में बिल्कुल गेहूं के पौधे की तरह दिखाई देता है । इस पौधे में छोटी-छोटी पत्तियां और फूल होते हैं। इसबगोल के पौधे की टहनियों में जो बीज लगे होते हैं उन पर सफेद रंग के पदार्थ चिपके हुए पाए जाते हैं इस सफेद प्रदार्थ को इसबगोल की भूसी कहते हैं। ईसबगोल की भूसी में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं। इसबगोल की खेती भारत समेत कई अन्य देशों में की जाती है।

इसबगोल एक लैक्सेटिव के रूप में कार्य करता है। इसबगोल में बहुत अधिक मात्रा में फाइबर पाया जाते हैं तथा इसमें कोलेस्ट्रॉल नहीं होता है। इसबगोल का सेवन करने के लिए कोई भी आयु सीमा निर्धारित नहीं है इसे किसी भी उम्र का व्यक्ति सेवन कर सकता है। यह पेचिश, कब्ज, दस्त, मोटापा, डिहाइड्रेशन, डायबिटीज आदि रोगों के लिए लाभकारी माना जाता है।इसबगोल का प्रयोग आयुर्वेदिक तथा एलोपैथिक चिकित्सा पद्धति दोनों में औषधि तथा दवा के रूप में किया जाता है।

Isabgol Benefits & Isabgol Uses

कब्ज में राहत (Isabgol Benefits For Constipation)

लोगों के पेट में अधिकतर समस्याएं कब्ज के कारण होती है।यदि सबसे पहले कब्ज की समस्या का निवारण किया जाए तो हमारे अन्य पेट की अन्य समस्याओं का निवारण अपने आप हो जाता है। इसबगोल में पाए जाने वाले फाइबर लैक्सेटिव के अनुरूप कार्य करते हैं। खाना खाने के 1 घंटे पश्चात इसबगोल को पानी के साथ ले और बाद में एक या दो गिलास पानी और पी लें। इस बगोल हमारी आपकी मांसपेशियों को गतिशीलता प्रदान करता है तथा मल को मुलायम बनाता है जिससे मल त्याग करने में आसानी होती है। इसका कुछ दिन सेवन करने से आप अपने कब्ज की समस्या से निजात पा सकते हैं। 

डायबिटीज के लिए (Isabgol Benefits For diabetes)

इसबगोल में जिलेटिन नामक पदार्थ पाया जाता है जो हमारे शरीर में ग्लूकोस के विघटन और अवशोषण की प्रक्रिया की गति को कम करता है। यह मधुमेह या डायबिटीज को नियंत्रित करने में सहायक होता है। कई शोधों में इस बात को स्पष्टीकरण प्रदान किया गया है कि हमारे भोजन में फाइबर से प्रचुर खाद्य सामग्री का सेवन करने से इंसुलिन तथा ब्लड शुगर लेवल कम होता है । और इससे डायबिटीज को आसानी से नियंत्रित किया जा सकता है।

वजन कम करने के लिए (Isabgol Benefits to lose weight)

आजकल मोटापा हरदी से आदमी की समस्या है और वह अपने मोटापे से निजात पाने के लिए कई प्रयास करते रहते हैं। कई बार ऐसा होता है कि हमारे पेट ठीक से साफ ना होने के कारण वजन बढ़ने जाता है। ऐसे में इसबगोल का सेवन करने से पेट अच्छी तरह से साफ होगा और इससे हमारा वजन भी कम होगा।

बवासीर तथा फिशर के इलाज के लिए (Isabgol Benefits For the treatment of hemorrhoids and fissures)

कब्ज की वजह से बवासीर और फिशर होता है। भोजन ठीक से ना पचने दिमाग में कठिनाई होने की वजह से गुदे के आसपास की नसों में सूजन आ जाती है। और बवासीर की समस्या उत्पन्न हो जाती है।इस समस्या से निजात पाने के लिए आप इसबगोल का सेवन कर सकते हैं। आप इस बगोल का सेवन पानी के साथ कर सकते हैं।

हृदय के लिए (Isabgol Benefits For Heart)

इसबगोल में कोलेस्ट्रॉल बिल्कुल नहीं पाया जाता है तथा यह फाइबर से भरपूर होता है। इसबगोल रक्तचाप को कम करने लिपिड लेवल को बढ़ाने तथा हृदय की मांसपेशियों को मजबूत करने में सहायता करता है । इसीलिए इस बगोल को हृदय के लिए सबसे उपयोगी माना जाता है।

डायरिया के इलाज के लिए (Isabgol Benefits To treat diarrhea)

इसबगोल का प्रयोग कब्ज को दूर करने के अलावा दस्त को रोकने के लिए भी किया जाता है। डायरिया के उपचार के लिए डॉक्टर इस बगोल खाने की सलाह देते हैं। डायरिया की समस्या से निजात पाने के लिए आप इस बगोल को दही के साथ मिलाकर खाइए। दही में प्रोबायोटिक गुण होता है जो डायरिया के संक्रमण को जल्दी ठीक करता है।

एसिडिटी के लिए (Isabgol Benefits For acidity)

एसिडिटी होने पर पेट फूलना खट्टी डकार आना पेट में जलन आदि समस्याएं होती है।इन सभी समस्याओं से निजात पाने के लिए आप इसबगोल की भूसी का सेवन कर सकते हैं ।यह आपके लिए फायदेमंद साबित होगी।

Haarmful Effects of Isabgol

इसबगोल के फायदे भी बहुत ज्यादा है तो नुकसान भी बहुत है। इसबगोल का अधिक सेवन हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकता है। इस बगोल का अधिक मात्रा में सेवन करने से होने वाले प्रमुख नुकसान:

पेट में मरोड़े या सूजन (Abdominal cramps or swelling)

इस भूगोल का सोच कभी-कभी विपरीत असर भी हो जाता है ।जिसकी वजह से हमारे पेट में मरोड़े या सूजन होने लगती है ।ऐसा होने पर आपको इसबगोल का सेवन तुरंत त्याग देना चाहिए। और अपने नजदीकी डॉक्टर से सलाह ले लेनी चाहिए।

दवाइयों के असर पर प्रभाव (Effect on effect of medicines)

कई बार मरीजों में ऐसा देखा जाता है कि उन पर दवाइयों का असर नहीं होता है । इसका प्रमुख कारण यह भी हो सकता है कि यदि वह इसबगोल का सेवन कर रहे हैं तो इसबगोल दवाइयों के असर को कम कर देता है। यह दवा को घुलने से रोकता है। यदि आप पहले से इस बगोल का सेवन कर रहे हैं तो किसी भी रोग का उपचार करवाने से पहले डॉक्टर को इस बारे में जरूर बताएं।

पोषक तत्वों की अवशोषण पर प्रभाव (Effect on absorption of nutrients)

जिंक कॉपर तथा अन्य पोषक तत्व का शरीर में इसबगोल का सेवन करने से अवशोषण घट जाता है। यह सभी पोषक तत्व हमारे स्वास्थ्य के लिए अनिवार्य होते हैं ।अधिक मात्रा में इस बगोल का सेवन करने से हमारे शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो सकती है।इसीलिए इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि आप जरूरत से अधिक इसबगोल का सेवन ना करें।

भूख में कमी (loss of appetite)

भूख में कमी जैसी  समस्याएं इसबगोल का नियमित रूप से सेवन करने से हो सकती है। यह समस्या बहुत से लोगों में आजकल आम होती जा रही है। इसीलिए इसबगोल का सेवन ध्यान पूर्वक करें।

पेट में भारीपन (Abdominal heaviness)

पेट में भारीपन जैसा महसूस होना इसबगोल के दुष्प्रभाव हो सकते हैं ।आपको इस समस्या के लिए ज्यादा चिंता करने की आवश्यकता नहीं है ।क्योंकि पेट में भारीपन होने की समस्या कुछ दिनों में अपने आप ही खत्म हो जाती है।

Important Note

गर्भावस्था के समय महिलाओं को इस बगोल का सेवन करने से पहले अपने डॉक्टर से इस बारे में जानकारी जरूर ले लेनी चाहिए कि वह इसबगोल का सेवन करें या नहीं करे ।

3 साल से कम आयु के बच्चों को इसबगोल ना खिलाए।

कभी भी इसबग़ोल का पाउडर कभी भी सूखा निकलने की कोशिश ना करें क्योंकि ऐसा करने पर यह आपके गले में अटक जाता है ।और आपको तेज खांसी या गले में जलन जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है ।

इसबगोल का सेवन हमेशा दही तथा पानी के साथ ही करें।

For more details regarding the Isabgol: Click Here