Benefits of Jeera: जीरा के फायदे और नुकसान

0
542
Benefits of Jeera

Jeera:- आप सभी ने जीरा के बारे में तो सुना ही होगा जीरा मसालों की में प्रयोग किया जाता है ।जीरा केवल भोजन की स्वाद बढ़ाने के लिए ही नहीं बल्कि हमारे स्वास्थ्य के लिए भी काफी गुणकारी होता है ।जीरा में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं ।हम जीरा का इस्तेमाल बीजों के रूप में तथा पाउडर के रूप में दोनों  तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं। आज हम आपके साथ हमारी इसलिए के माध्यम से जीरा से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी जैसे जीरा क्या होता है?, जीरा के फायदे, जीरा के नुकसान, जीरा में उपलब्ध पोषक तत्व आदि पर चर्चा परिचर्चा करेंगे ।

Jeera

CLICK HERE:- How to Make Pasta in Hindi ( झटपट बनने वाला पास्ता...

Jeera (Cumin Seeds in Hindi)

जीरा का वैज्ञानिक नाम क्यूमिनम सायमिनम है। जीरा एपियेशी परिवार का एक पुष्पीय पौधा होता है । जीरा को अंग्रेजी में cumin कहा जाता है।जीरा दो प्रकार का होता काला जीरा और सफेद हीरा सफेद जीरा का इस्तेमाल अधिकतर गरम मसाला बनाने के लिए किया जाता है ।यह खाने की सुगंध और स्वाद दोनों को बढ़ाता है। काले जीरे का इस्तेमाल गरम मसाले में किया जाता है । काले जीरे की खुशबू सफेद जीरे की खुशबू की तुलना में थोड़ी कम होती है । यह हमारे शरीर में पाचन तंत्र को सक्रिय करने में सहायक होता है ।

जीरा एक वार्षिक जड़ी-बूटी होता है। जीरे का पौधा एक से डेढ़ फुट लंबा होता है। जीरे के पौधे का तना मुलायम होता है, और शाखा से जुड़ा हुआ होता है ।जीरे की पत्तियां लंबी और फूल सफेद लाल रंग के होते हैं ।जीरे की शाखाओं पर एक झुंड खेलता है। जीरे के बीज आकार में लंबे और अंडाकार होते हैं, और इसकी सतह पर हल्की हल्की लकीरें पाई जाती हैं ।जीरा का उत्पादन मिस्र में किया गया था, उसके पश्चात चीन, मोरेको और भारत में भी जीरा उगाया जाता है।

Benefits of Jeera

Nutrients of Jeera(Cumin Seeds in Hindi)

जीरे में कई पोषक तत्व पाए जाते जाते हैं जैसे प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, शुगर, फैट उर्जा, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम, फॉस्फोरस पोटेशियम, सोडियम, जिंक, कॉपर, मैंगनीज, सेलेनियम, विटामिन सी, थियामिन राइबोफ्लेविन, नियासिन, विटामिन बी6, फोलेट, कोलीन, विटामिन ए, विटामिन ई, विटामिन के,  टोटल सिचुएटेड फैटी एसिड, टोटल पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड आदि प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं । इसके अतिरिक्त जीरा में एंटी फंगल, एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटी डायबिटिक, एनाल्जेसिक, एंटीऑक्सीडेंट, और एंटी बैक्टिरियल औषधीय गुण पाए जाते हैं ।

Benefits of Jeera(Cumin Seeds in Hindi)

पाचन के लिए (Jeera For Digestion)

जीरा में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो पाचन तंत्र को स्वस्थ बनाने में सहायक होते हैं ।जीरा का सेवन करने से आप पाचन संबंधित रोग जैसे डायरिया, गैस, पेट फूलने जैसी गंभीर समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।  जीरा का सेवन छाछ में मिलाकर पी सकते हैं। या फिर एक कप पानी को उबालकर उसमें एक चुटकी पिसा हुआ जीरा, अदरक पाउडर और आधा चम्मच सौंफ और नमक डालें, 5 मिनट तक इसे उबालकर छानकर ठंडा होने के बाद पी ले।

सर्दी और बुखार  के लिए Jeera For cold and fever 

जीरा में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो सर्दी जुखाम जैसी समस्याओं से राहत दिलाने में सहायक होते हैं। जीरा में एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटी बैक्टीरियल, एंटी फंगल गुण पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर को ठंड से बचाने में सहायक होते हैं ।और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर संक्रमण से लड़ने में सहायता करते हैं ।आप जीरा को पानी और अदरक डालकर पीने से ठंड से राहत मिलती है। और गले की खराश की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। सर्दी में बार बार छींक आने और नाक में भारीपन महसूस होने पर आप एक मुट्ठी जीरा को भूनकर कपड़े में बांधकर थोड़ी थोड़ी देर में सूंघने से आप छींक आने की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए Jeera (Cumin Seeds in Hindi) For immunity

जीरा में इम्यूनोमोड्यूलेटरी औषधीय गुण पाया जाता है, जो प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक होता है ।जीरा में आयरन भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो ऑक्सीजन को शरीर की कोशिकाओं तक पहुंचाने के साथ-साथ इम्यून सिस्टम को भी स्वस्थ रखने में सहायक होता है ।जीरा का सेवन करने से आपके स्वास्थ्य की रोग प्रतिरोधक क्षमता के स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होता है।

वजन कम करने के लिए Jeera (Cumin Seeds in Hindi) to lose weight

जीरा में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर में कार्बोहाइड्रेट और फैट के पाचन में सहायक होते हैं। इससे मेटाबॉलिज्म भी बढ़ता है। और वजन को नियंत्रित किया जा सकता है। सुबह व्यायाम से पहले जीरा पानी का सेवन करने से एसिडिटी की समस्या को कम किया जा सकता है। और इसे हमारा शरीर हाइड्रेटेड रहता है । अब वजन को नियंत्रित करने के लिए 3 हफ्ते तक खाली पेट जीरा पानी पिए । जीरा का नियमित रूप से सेवन करने से आप मोटापे की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं ।

एनीमिया के लिए Jeera (Cumin Seeds in Hindi) For anemia

जीरा में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो हमारे शरीर में आयरन की कमी को पूरा करता है। एनीमिया की समस्या फोन में आयरन की कमी होने के कारण उत्पन्न होती है। इसके कारण हमारा शरीर में कमजोरी आने लगती है, और चक्कर भी आने लगते हैं। जीरा का सेवन करने से आप एनीमिया की समस्या से छुटकारा पा सकते है। जीरा में कई अन्य पोषक तत्व भी पाए जाते हैं, जो हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। जीरा का सेवन करने से आप कई समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।

जोड़ों के दर्द के लिए Jeera For joint pain

जीरा में मौजूद एंटी इन्फ्लेमेटरी औषधीय गुण सूजन को कम करने में सहायक होता है। इसके अतिरिक्त जीर में एथनोलिक अर्क में मौजूद एनाल्जेसिक गुण दर्द से निजात दिलाने में सहायक होता है।जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए आप जीरे का पानी या खाने में जीरा शामिल कर सकते हैं । काली जीरी की के तेल की घुटनों पर मालिश करने से आप दर्द से छुटकारा पा सकते हैं जीरा का तेल लगाने से आप घटिया की समस्या से भी छुटकारा पा सकते हैं क्योंकि जीरा में मौजूद  Thymoquinone औषधीय गुण सूजन और दर्द को कम करने में सहायक होता है ।

पेट दर्द के लिए | Jeera For stomach ache

जीरा में एनाल्जेसिक गुण मौजूद होता है, जो पेट दर्द जैसी समस्याओं से राहत दिलाने में सहायक होता है। जीरा में इरिटेबल बाउल सिंड्रोम को कम करने में भी सहायक होता है । पेट दर्द से निजात पाने के लिए जीरे के पानी का सेवन कर सकते हैं या फिर ऐसे मसाले के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। आप जीरे के सेवन भूनकर भी कर सकते हैं ।

डायबिटीज के लिए | Jeera For diabetes

जीरा में anti-diabetic औषधीय गुण पाया जाता है, जो डायबिटीज की समस्याओं से निजात दिलाने में सहायक होता है ।जीरा में आयरन भी प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो हमारे रक्तचाप को सुचारू रखने में सहायक होता है ।एंटी डायबिटिक गुण रक्त शुगर की मात्रा को नियंत्रित करने में सहायक होता है जिससे मधुमेह को कम किया जा सकता है। डायबिटीज की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप जीरा का सेवन कर सकते हैं ।जीरा मधुमेह की समस्या में काफी फायदेमंद साबित हो सकता है।

मासिक धर्म के लिए | Jeera For menstruation

जीरा में दर्द निवारक औषधीय गुण पाया जाता है, जो दर्द को कम करने, पेट में ऐठन और मतली जैसी समस्याओं को ठीक करने में सहायक होता है। मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द से छुटकारा पाने के लिए आप जीरा का सेवन कर सकते हैं ।आप जीरे के पानी  या पाउडर के रूप में भी सेवन कर सकते हैं ।

त्वचा के लिए ( Jeera For Skin)

जीरा में विटामिन ई प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो त्वचा को जवां रखने और झुर्रियों आदि समस्याओं से छुटकारा दिलाने में सहायक होते हैं। जीरा के तेल में एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल, एंटीमाइक्रोबल औषधीय गुण पाया जाता है, जो हमारी त्वचा को इंफेक्शन से बचाने में सहायक होता है ।आप त्वचा पर जीरा का लेप या फिर जीरा पानी का सेवन कर सकती है।

बालों के लिए ( Jeera For hair)

जीरा के तेल में एंटी फंगल, एंटी इन्फ्लेमेटरी औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो डैंड्रफ की समस्या से छुटकारा दिलाने में सहायक होते हैं ।डैंड्रफ की समस्या होने पर जीरा का एसेंशियल ऑयल काफी फायदेमंद साबित हो सकता है । आप जीरा का तेल बालों में लगाकर धूप में ना निकला ऐसा करने पर आपकी त्वचा में संवेदनशीलता महसूस हो सकती है।

Side Effects of Jeera

  • गर्भवती महिलाएं जीरे का सेवन अधिक मात्रा में ना करें।
  • यदि आप पहली बार जीरे का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो थोड़ी सावधानी से जीरे का तेल का इस्तेमाल करें क्योंकि इससे त्वचा पर एलर्जी हो सकती है ।
  • जीरा का सेवन करने से रक्त शुगर को कम किया जाता है, इसीलिए मधुमेह से ग्रसित लोगों को जीरा का सेवन संतुलित मात्रा में ही करना चाहिए।
  • जीरा का अधिक मात्रा में सेवन करने से रक्त स्राव का की समस्या सामने आ सकती है ।
  • काले जीरे का तेल का अधिक मात्रा में इस्तेमाल करने से हल्की विषाक्त सामने आ सकती है।

For More Details Regarding the Benefits of Jeera(Cumin Seeds in Hindi): Click Here

जीरा क्या होता है?

आप सभी ने जीरा के बारे में तो सुना ही होगा जीरा मसालों की में प्रयोग किया जाता है ।जीरा केवल भोजन की स्वाद बढ़ाने के लिए ही नहीं बल्कि हमारे स्वास्थ्य के लिए भी काफी गुणकारी होता है ।जीरा में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं ।हम जीरा का इस्तेमाल बीजों के रूप में तथा पाउडर के रूप में दोनों  तरह से इस्तेमाल कर सकते हैं। आज हम आपके साथ हमारी इसलिए के माध्यम से जीरा से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी जैसे जीरा क्या होता है?, जीरा के फायदे, जीरा के नुकसान, जीरा में उपलब्ध पोषक तत्व आदि पर चर्चा परिचर्चा करेंगे ।

पाचन के लिए जीरा कैसे उपयोगी है?

जीरा में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं, जो पाचन तंत्र को स्वस्थ बनाने में सहायक होते हैं ।जीरा का सेवन करने से आप पाचन संबंधित रोग जैसे डायरिया, गैस, पेट फूलने जैसी गंभीर समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं।  जीरा का सेवन छाछ में मिलाकर पी सकते हैं। या फिर एक कप पानी को उबालकर उसमें एक चुटकी पिसा हुआ जीरा, अदरक पाउडर और आधा चम्मच सौंफ और नमक डालें, 5 मिनट तक इसे उबालकर छानकर ठंडा होने के बाद पी ले।

सर्दी और बुखार के लिए जीरा कैसे उपयोगी है?

जीरा में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं, जो सर्दी जुखाम जैसी समस्याओं से राहत दिलाने में सहायक होते हैं। जीरा में एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटी बैक्टीरियल, एंटी फंगल गुण पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर को ठंड से बचाने में सहायक होते हैं ।और रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाकर संक्रमण से लड़ने में सहायता करते हैं ।आप जीरा को पानी और अदरक डालकर पीने से ठंड से राहत मिलती है। और गले की खराश की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। सर्दी में बार बार छींक आने और नाक में भारीपन महसूस होने पर आप एक मुट्ठी जीरा को भूनकर कपड़े में बांधकर थोड़ी थोड़ी देर में सूंघने से आप छींक आने की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

मासिक धर्म के लिए जीरा कैसे उपयोगी है?

जीरा में दर्द निवारक औषधीय गुण पाया जाता है, जो दर्द को कम करने, पेट में ऐठन और मतली जैसी समस्याओं को ठीक करने में सहायक होता है। मासिक धर्म के दौरान होने वाले दर्द से छुटकारा पाने के लिए आप जीरा का सेवन कर सकते हैं ।आप जीरे के पानी  या पाउडर के रूप में भी सेवन कर सकते हैं ।

जीरा से होने वाले Side Effects बताईये?

गर्भवती महिलाएं जीरे का सेवन अधिक मात्रा में ना करें।
यदि आप पहली बार जीरे का इस्तेमाल कर रहे हैं, तो थोड़ी सावधानी से जीरे का तेल का इस्तेमाल करें क्योंकि इससे त्वचा पर एलर्जी हो सकती है ।
जीरा का सेवन करने से रक्त शुगर को कम किया जाता है, इसीलिए मधुमेह से ग्रसित लोगों को जीरा का सेवन संतुलित मात्रा में ही करना चाहिए।
जीरा का अधिक मात्रा में सेवन करने से रक्त स्राव का की समस्या सामने आ सकती है ।
काले जीरे का तेल का अधिक मात्रा में इस्तेमाल करने से हल्की विषाक्त सामने आ सकती है।