Peepal tree in Hindi- Top 8 Healthy Benefits

0
844
peepal tree in tamil

Peepal Tree In Hindi:- शायद ही कोई इंसान होगा जो पीपल के पेड़ के बारे में नहीं जानता होगा। हाथी इसके पत्तों को बड़े चाव से खाते हैं। इसलिए इसे गजभक्ष्य भी कहते हैं। पीपल का पेड़ ( Peepal Tree In Hindi ) प्रायः हर जगह उपलब्ध होता है। सड़कों के किनारे, मंदिर या बाग-बगीचों में पीपल का ( Peepal Tree In Hindi ) पेड़ हमेशा देखने को मिलता है। शनिवार को हजारों लोग पीपल के पेड़ की पूजा भी करते हैं।

Peepal Tree In Hindi

अभी भी लोगों को पीपल के पेड़ से जुड़ी जानकारियां काफी कम है, अधिकांश लोग सिर्फ यही जानते हैं कि इसकी केवल पूजा होती है, लेकिन सच यह है कि पीपल के पेड़ का औषधीय प्रयोग भी किया जाता है और इससे कई रोगों में लाभ लिया जा सकता है।

कई पुराने आयुर्वेदिक ग्रंथों में पीपल के पेड़ और इसकी पत्तियों के गुणों के बारे में बताया गया है कि पीपल के प्रयोग से रंग में निखार आता है, घाव, सूजन, ( Peepal Tree In Hindi ) दर्द से आराम मिलता है। पीपल खून को साफ करता है। पीपल की छाल मूत्र-योनि ( Peepal Tree In Hindi ) विकार में लाभदायक होती है। पीपल की छाल के उपयोग से पेट साफ होता है |

यह सेक्सुअल स्टेमना को भी बढ़ाता है और गर्भधारण करने में मदद करता है। सुजाक, कफ दोष, डायबिटीज, ल्यूकोरिया, सांसों के रोग में भी पीपल का इस्तेमाल लाभदायक होता है। इतना ही नहीं, अन्य कई बीमारियों में भी आप पीपल का उपयोग कर सकते हैं।

आइए इसके बारे में विस्तार से जानते हैं। पीपल का पेड़ अपने विशाल आकार और घनी छाया के लिए जाना जाता है। हवा चलने पर इसकी पत्तियों से तालियों के( Peepal Tree In Hindi) बजने जैसी आवाज आती है, लेकिन इन्हीं पीपल की पत्तियों के स्वास्थ्य संबंधी कई ऐसे फायदे हैं, जो आपको स्वस्थ रहने में मदद कर सकते हैं। पीपल का वैज्ञानिक नाम फिकस रेलिगिओसा होता है। दादी के नुस्खे  के इस लेख के जरिए आपको पीपल के पत्ते के उपयोग से लेकर पीपल के पत्ते के फायदे और पीपल के पत्ते के नुकसान के बारे में जानकारी दी जा रही है।

पीपल के पेड़ की जड़ भूमि के अन्दर उपजड़ों से युक्त होती है और बहुत दूर तक फैली रहती है। वट वृक्ष के समान ही इसके पुराने वृक्ष के तने तथा मोटी-मोटी ( peepal tree in Hindi) शाखाओं से जटाएं निकलती हैं। इसे पीपल की दाढ़ी कहते हैं। ये जटायें बहुत मोटी तथा लम्बी नहीं होती। इसके तने या शाखाओं को तोड़ने या छिलने से या कोमल पत्तों को तोड़ने से एक प्रकार का चिपचिपा सफेद पदार्थ (दूध जैसा) निकलता है।

पीपल क्या है

पीपल विषैली कार्बन डाइआक्साईड सोखता है और प्राणवायु मतलब ऑक्सीजन छोड़ता है। पीपल के पेड़ की छाया बहुत (Peepal Tree In Hindi ) ठंडी होती है। पीपल का पेड़ लगभग 10-20 मीटर ऊँचा होता है। यह अनेक शाखाओं वाला, विशाल औक कई वर्षों तक जीवित रहता है। पुराने वृक्ष की छाल फटी व सफेद-श्यमाले रंग की होती है। इसके नए पत्ते कोमल, चिकने तथा हल्के लाल रंग के होते हैं। इसके फल चिकने, गोलाकार, छोटे-छोटे होते हैं। कच्ची अवस्था में हरे और पके अवस्था में बैंगनी रंग के होते हैं। (Peepal Tree In Hindi )

peepal tree in tamil

अनेक भाषाओं में पीपल के नाम ( Name of Peepal in Different Languages )

Peepal in –

1) Hindi (Peepal tree in hindi) – पीपल वृक्ष (Pipal vriksh)

2) English (Peepal tree in english) – पीपल ट्री (Peepal tree), द बो ट्री (The bo tree), बोद्ध ट्री (Bodh tree), द ट्री ऑफ इन्टेलिजेन्स (The tree of intelligence), Sacred fig (सेक्रेड फ्रिग)

3) Sanskrit – पिप्पल, कुञ्जराशन, अश्वत्थ, बोधिवृक्ष, चलदल, बोधिद्रुम, गजाशन

4) Oriya – जोरी (Jori), पिप्पलो (Pipplo), उस्टो पिपौलो (Osto pippolo)

5) Urdu – पिपल (Pipal)

6) Assamese – अंहोत (Anhot)

7) Konkani – पिम्पोल (Pimpoll)

8) Kannada – अरली (Arali)

9) Gujarati – पीपरो (Pipro)

10) Tamil – अरशुमरम् (Arsumaram), अरसू (Arasu)

11) Telugu – राविचेट्टु (Ravichettu), अश्वत्थामु (Ashvatthamu)

12) Nepali – पीपल (Pipal)

13) Punjabi – पीपल (Pipal)

14) Bengali – अश्वत्थ (Asvatwha)

15) Marathi – पिंपल (Pimpal)

16) Malayalam (Peepal tree in malayalam) : अराचु (Arachu), अरसु (Arsu), अरयाल (Arayal)

17) Manipuri – सना खोन्गनांग (Sana khongnang)

18) Persian – दरख्ते लरञ्जा (Darakhte laranza)

पीपल के फायदे ( Peepal Tree Benefits in Hindi )

1) डायबिटीज के लिए ( Benefits of Peepal Tree for Diabetes )

अगर आप डायबिटीज की समस्या से परेशान हैं, तो पीपल के पत्ते का इस्तेमाल कर सकते हैं। विशेषज्ञों के ( peepal tree in hindi ) द्वारा जारी किए गए एक वैज्ञानिक शोध में देखा गया है कि पीपल में ऐसे गुण पाए जाते हैं, जो ब्लड ग्लूकोज के स्तर को काफी हद तक कम कर सकते हैं और सीरम इंसुलिन की मात्रा भी बढ़ा सकते हैं। इस कारण से डायबिटीज के जोखिमों को कम किया जा सकता है।

2) दमा रोग के लिए ( Benefits of Peepal Tree for Asthma )

आयुर्वेदिक विशेषज्ञों का मानना है कि अगर आप सांस की बीमारी से पीड़ित हैं तो पीपल के पेड़ के आस पास रहना आपके लिए फायदेमंद है। पीपल का पेड़ वायु को शुद्ध रखता है और अन्य पेड़ों की तुलना में अधिक ऑक्सीजन वायुमंडल में छोड़ता है। इसके अलावा आप सांस से जुड़ी बीमारियों जैसे कि अस्थमा के घरेलू इलाज के रूप में इसका इस्तेमाल कर सकते हैं.( peepal tree in hindi ) आइये जानते हैं उपयोग का तरीका

1) पीपल की छाल और पके फल के चूर्ण को बराबर मिलाकर पीस लें। आधा चम्मच मात्रा में दिन में तीन बार सेवन करने से दमे में लाभ होता है।

2) पीपल के सूखे फलों को पीसकर 2-3 ग्राम की मात्रा में 14 दिन तक जल के साथ सुबह-शाम सेवन करें। इससे सांसों की बीमारी और खांसी में लाभ होता है। (Peepal Tree In Hindi )

3) अनेक प्रकार के घावों को ठीक करने के लिए ( Benefits of Peepal Tree for Sores )

त्वचा संबंधी समस्याओं में पीपल के पेड़ की छाल और पत्तियों का का उपयोग फायदेमंद होता है क्योंकि पीपल में घाव को जल्दी भरने का गुण होता है। आइये जानते हैं कि त्वचा रोगों या घाव के घरेलू इलाज में पीपल का इस्तेमाल कैसे करें :

आप पीपल के वृक्ष के लाभ घाव में भी ले सकते हैं। पीपल की नरम कोपलों को जलाकर कपड़े से छान लें। इसे पुराने बिगड़े हुए फोड़ों पर छिड़ने से लाभ होता है।

पीपल की छाल के चूर्ण को पीसकर उसमें घी मिला लें। इसे जलने या चोट लगने से हुए घाव पर लगाने से रक्तस्राव बंद हो जाता है और घाव तुरंत भरने से लाभ होता है।

पीपल की छाल के चूर्ण को आग से जलने के कारण हुए घाव पर छिड़कने से तुरंत घाव सुख जाता है।

पुराने तथा ना भरने वाले घावों पर पीपल की अंतर छाल को गुलाब जल में घिसकर लगाएं। इससे घाव जल्दी भर जाते हैं। घाव पर औषधि का लेप लगाकर पीपल के कोमल पत्तों से ढक दें। यह घाव को सुखाता है।

4) आंखों के लिए ( Benefits of Peepal Tree for Eyes )

अगर आपको अक्सर आंखों के दर्द की परेशानी रहती है तो आप पीपल के पत्ते का सेवन कीजिए। आप पीपल के पत्ते का इस्तेमाल दो तरह से कर सकते हैं। पहला तरीका है कि, आप पीपल के पत्तियों को दूध में डालकर और उसे उबाल कर पी सकते हैं। दूसरा उपाय यह है कि, आप पीपल की पत्तियों को पीस लीजिए फिर उस मिश्रण को अपनी आंखों पर लगाइए। यह आपकी आंखों को ठंडक पहुंचाएगा और दर्द दूर करने में मदद करेगा।

5) सांस की तकलीफ के लिए (Benefits of Peepal Tree for shortness of breath )

सांस संबंधी किसी भी प्रकार की समस्या में पीपल का पेड़ आपके लिए बहुत फायदेमंद हो सकता है। इसके लिए पीपल के पेड़ की छाल का अंदरूनी हिस्सा निकालकर सुखा लें। सूखे हुए इस भाग का चूर्ण बनाकर खाने से सांस संबंधी सभी समस्याएं दूर हो जाती है। इसके अलावा इसके पत्तों का दूध में उबालकर पीने से भी दमा में लाभ होता है।

6) कफ की समस्या के लिए ( Benefits of Peepal Tree for Phlegm )

अगर आप कफ की समस्या से छुटकारा पाना चाहते हैं, तो इस स्थिति से उबरने के लिए पीपल का पत्ता प्रभावी रूप से कार्य कर सकता है। दरअसल, पीपल की पत्ती में थेरेपेटिक गुण पाए जाते हैं, जिसका उपयोग करने से कफ में आराम मिल सकता है। एक अन्य वैज्ञानिक रिसर्च में बताया गया है कि पीपल के पत्ते को जूस के रूप में इस्तेमाल करने से कफ की समस्या से छुटकारा मिल सकता है ।

7) अस्थमा के लिए ( Benefits of Peepal Tree for Asthma )

यह सांस की समस्या से जुड़ी परेशानी होती है, जिसमें फेफड़ों के रास्ते में सूजन और कसाव उत्पन्न हो जाता है। इससे गले में घरघराहट, सांस लेने में तकलीफ, सीने में जकड़न और खांसी होती है। अस्थमा की समस्या में पीपल के पत्ते के फायदे देखे जा सकते हैं। एक वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार यह देखा गया कि पीपल के पत्ते के अर्क में ऐसे विशेष गुण पाए जाते हैं, जो ब्रोंकोस्पास्म अस्थमा की एक स्थिति) पर प्रभावी असर दिखा सकता है ।

एक अन्य वैज्ञानिक अध्ययन के अनुसार यह देखा गया है कि पीपल के पत्ते और फल में औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो अस्थमा को ठीक करने में मददगार साबित हो सकते हैं। अस्थमा के इलाज के लिए पीपल के पत्ते का जूस और इसके फल का चूर्ण लेने की सलाह दी जाती है।

8) डायरिया की समस्या के लिए ( Benefits of Peepal Tree for Diarrhea )

डायरिया की स्थिति में इंसान बहुत थका हुआ महसूस करने लगता है, क्योंकि डायरिया में पतले दस्त होने लगते हैं। दिनभर में तीन या अधिक बार दस्त होना डायरिया के लक्षण माने जाते हैं । इस समस्या से उबरने के लिए आप पीपल की छाल का उपयोग कर सकते हैं, क्योंकि पीपल की छाल में एंटी-बैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। अगर इसकी छाल से निकलने वाले अर्क का सेवन किया जाए, तो यह डायरिया की समस्या को प्रभावी रूप से ठीक कर सकता है ।

पीपल के पत्ते का उपयोग – How to Use Peepal in Hindi

  • पीपल के पत्ते को निम्न प्रकार से इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • पीपल के पत्ते का जूस बनाकर पीने में उपयोग किया जा सकता है।
  • पीपल के पत्ते का अर्क कई समस्याओं के इलाज के तौर पर उपयोग किया जा सकता है।
  • पीपल के पत्ते को पीसकर दांतों के लिए पेस्ट के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • त्वचा पर पीपल के पत्तों का पेस्ट बनाकर रखा जा सकता है।
  • पीपल की पत्तियों को नीम की पत्तियों की तरह कच्चा भी चबाया जा सकता है।
  • पीपल की पत्तियों को नीम की पत्तियों की तरह कच्चा भी चबाया जा सकता है।
  • कब करें इस्तेमाल : पीपल की पत्तियों को ज्यादातर सुबह इस्तेमाल में लिया जा सकता है। इसके सेवन से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए एक बार डॉक्टर से सलाह जरूर लें।
  • कितना करें इस्तेमाल : कच्चा चबाने के लिए पीपल की केवल 2-3 पत्तियां ही लें और जूस के रूप में इसे केवल एक छोटे गिलास की मात्रा में ही पिएं। एक हफ्ते में इसके सेवन को दोहराने से पहले डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

पीपल के प्रयोग की मात्रा ( How Much to Consume Peepal )

1) काढ़ा:- 50-100

2) मिली चूर्ण:- 3-6 ग्राम

3) दूध:- 1-20 मिली

Side Effects of Peepal in Hindi

  • पीपल पत्ते के अधिक सेवन करने से इसका कड़वा स्वाद आपको उल्टी करवा सकता है।
  • पीपल के पत्ते में कैल्शियम होता है। इसका अधिक सेवन करने से प्रोस्टेट कैंसर और हृदय रोग का खतरा बढ़ा सकता है ।
  • पीपल की पत्ती में फाइबर की मात्रा पाई जाती है और अनिश्चिचित मात्रा में किया गया उपयोग पेट में गैस, दर्द और मरोड़ की समस्या उत्पन्न कर सकता है ।

For more details regarding the Peepal in Hindi: click here

पीपल क्या है?

पीपल विषैली कार्बन डाइआक्साईड सोखता है और प्राणवायु मतलब ऑक्सीजन छोड़ता है। पीपल के पेड़ की छाया बहुत (Peepal Tree In Hindi ) ठंडी होती है। पीपल का पेड़ लगभग 10-20 मीटर ऊँचा होता है। यह अनेक शाखाओं वाला, विशाल औक कई वर्षों तक जीवित रहता है। पुराने वृक्ष की छाल फटी व सफेद-श्यमाले रंग की होती है। इसके नए पत्ते कोमल, चिकने तथा हल्के लाल रंग के होते हैं। इसके फल चिकने, गोलाकार, छोटे-छोटे होते हैं। कच्ची अवस्था में हरे और पके अवस्था में बैंगनी रंग के होते हैं। (Peepal Tree In Hindi )

डायबिटीज के लिए कैसे उपयोगी है ?

अगर आप डायबिटीज की समस्या से परेशान हैं, तो पीपल के पत्ते का इस्तेमाल कर सकते हैं। विशेषज्ञों के ( peepal tree in hindi ) द्वारा जारी किए गए एक वैज्ञानिक शोध में देखा गया है कि पीपल में ऐसे गुण पाए जाते हैं, जो ब्लड ग्लूकोज के स्तर को काफी हद तक कम कर सकते हैं और सीरम इंसुलिन की मात्रा भी बढ़ा सकते हैं। इस कारण से डायबिटीज के जोखिमों को कम किया जा सकता है।

पीपल के पत्तो के Side Effects बताईये?

पीपल पत्ते के अधिक सेवन करने से इसका कड़वा स्वाद आपको उल्टी करवा सकता है।
पीपल के पत्ते में कैल्शियम होता है। इसका अधिक सेवन करने से प्रोस्टेट कैंसर और हृदय रोग का खतरा बढ़ा सकता है ।
पीपल की पत्ती में फाइबर की मात्रा पाई जाती है और अनिश्चिचित मात्रा में किया गया उपयोग पेट में गैस, दर्द और मरोड़ की समस्या उत्पन्न कर सकता है ।