Benefits of Ragi In Hindi- रागी के फायदे

0
753
Ragi

Ragi:- हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होती है ।रागी में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। यह बीज या दाना गोलाकार छोटा होता है। यह भूरे रंग की होती है। रागी की खेती हम ऊंची पहाड़ियों पर भी कर सकते हैं ।आज हम आपको हमारे इस लेख के माध्यम से रागी से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी जैसे रागी के फायदे, रागी होती क्या है?, रागी के पोषक तत्व, रागी के नुकसान आदि पर चर्चा परिचर्चा करेंगे।

Ragi

रागी का वानस्पतिक नाम एलुसाइनी कोराकैना (Eleusine coracana) है। रागी में फाइबर, प्रोटीन, पोटेशियम और कैल्शियम जैसे कई पोषक तत्वों से समृद्ध होता है। रागी पौधे की कई प्रजातियां होती है। रागी के पौधों की गांठे रंगीन एवं वालियाँ हल्की बैगनी रंग की होती हैं।रागी को और कई नामों से जाना जाता है जैसे मंडुआ, नाचनी, नचनी फिंगर मिलेट, इंडियन मीलेट आदि।

रागी की खेती मुख्य रूप से शुष्क वातावरण में की जाती है। रागी का पौधा लगभग 1 मीटर तक ऊंचा होता है। रागी के पौधे कई कई प्रजातियां पाई जाती है ।रागी का उत्पादन मुख्य रूप से इथोपिया, अफ्रीका, एशिया के सूखे क्षेत्रों में किया जाता है ।तथा भारत में भी रागी का सर्वाधिक उत्पादन किया जाता है । भारत के कर्नाटक राज्य में सबसे ज्यादा रागी उगाई जाती है। इसके अलावा तमिलनाडु, सिक्किम, अरुणाचल प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, उत्तराखंड आदि में भी राखी का उत्पादन किया जाता है।

Ragi

Nutrients of Ragi in Hindi

रागी में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जैसे Calcium, Carbohydrate, Potassium Fiber, Phosphorous and Protein, Iron, Iodine, Carotene, Ether Extracts, Methionine Amino Acids, Sodium, Zinc, Magnesium, Vitamin B1, Vitamin B2, Vitamin B3 आदि पोषक तत्व भी उचित मात्रा में पाए जाते हैं।यह सभी पोषक तत्व हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होते है।

Benefits of Ragi in Hindi

हड्डियों के विकास के लिए ( For bone growth)

रागी में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है । Osteoporosis की समस्या को रोकने तथा हड्डियों के विकास के लिए कैल्शियम सबसे अधिक आवश्यक होता है।इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप कैल्शियम की दवाइयों का सेवन करने के बजाय रागी कांजी या दलिया का सेवन कर सकते हैं। जोड़ों के दर्द का हड्डियों के विकास के लिए यह काफी फायदेमंद साबित हो सकती है।

कैंसर के लिए (For Cancer) 

रागी में कुछ आवश्यक एमिनो एसिड जैसे – मेथिओनाइन, सिस्टीन और लायसिन पाए जाते हैं। यह सभी पोषक तत्व कैंसर जैसी गंभीर समस्या को ठीक करने में सहायक होते हैं। रागी में पाए जाने वाले डायटरी फाइबर भी कैंसर से बचने में सहायक होता है। हलाकि आप डॉक्टर से अपना इलाज जरूर करवाए।

Ragi

हृदय के लिए ( For Heart)

रागी में आयरन और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। यह पोषक तत्व हार्ट अटैक के जोखिम को कम करने में सहायक होते हैं। रागी कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में सहायक होती है और इससे हृदय रोग के जोखिम को कम किया सकता है। रागी का सेवन करने से आप ह्रदय संबंधित समस्याओ से छुटकारा पा सकते है।

वजन कम करने के लिए (To Reduce weight)

रागी में प्राकृतिक वसा कम मात्रा में पाई जाती है।गेहूं तथा चावल के बदले यदि आप रागी का सेवन करते हैं तो आप मोटापे की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं ।क्योंकि रागी में ट्रिप्टोफैन नामक एमिनो एसिड पाया जाता है जो भूख को कम करने में सहायक होता है। मोटापे की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप सुबह रागी का सेवन कर सकते हैं।

कोलेस्ट्रोल के लिए (For cholesterol)

रागी में फाइबर प्रचुर मात्रा में पाया जाता है ।यह पाचन में भी सहायक होता है और अधिक खाने की समस्या से भी निजात दिलाता है। रागी में अमीनो एसिड लेसिथिन और मेथियोनिन पाया जाता है, जो लीवर में से अतिरिक्त फैट को बाहर निकालने में सहायक होते है। रागी हमारे शरीर में कोलेस्ट्रॉल लेवल को नियंत्रित करने में सहायक होती हैं।और रागी में उपस्थित थ्रेओनिन लिवर में फैट के गठन को नियंत्रित कर कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित करता है।

मधुमेह के लिए (For diabetes)

रागी में पॉलीफेनॉल और फाइबर प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं। यह ग्लाइसेमिक प्रतिक्रिया को नियंत्रित करने में सहायक होते हैं ।रागी का सेवन करने से ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित किया जा सकता है। रागी का सुबह और शाम दोपहर में सेवन करने से आप मधुमेह की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। यह रक्तचाप को नियंत्रित करने में सहायक होता हैं।

एनीमिया के लिए (For anemia)

रागी में आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। एनीमिया और लो हीमोग्लोबिन लेवल से पीड़ित रोगियों को के लिए रागी काफी फायदेमंद साबित हो सकती है । रागी में उपस्थित विटामिन सी क्योंकि रागी में आयरन की उच्च मात्रा पाई जाती है जो की शरीर में खून के स्तर को बढ़ाता है। एनीमिया और लो हीमोग्लोबिन लेवल से पीड़ित रोगियों को रागी डोसा या रागी बॉल्स का सेवन कर सकते हैं। रागी की सब्जी में आप नींबू मिलाकर कर भी सेवन कर सकते हैं।

मस्तिष्क के लिए (For brain)

रागी में ट्रिप्टोफैन अमीनो एसिड और एंटीऑक्सीडेंट प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं जो हमारे शरीर को आराम देने के लिए मैं काफी गुणकारी होते हैं । यह चिंता, अनिद्रा, सिरदर्द ,अवसाद जैसी बीमारियों के इलाज करने में काफी फायदेमंद साबित हो सकती है।

रक्तचाप के लिए (For blood pressure)

रागी कई पोषक तत्व उपस्थित होते हैं, जो रक्तचाप को नियंत्रित करने में सहायक होते हैं ।यह हमारे शरीर में रक्त में कोलेस्ट्रॉल के स्तर को नियमित करके उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में सहायक होते हैं।

सीलिएक रोग के लिए (For celiac disease)

रागी ग्लूटेन मुक्त होता है। रागी का सेवन करने से सिलिएक नामक रोग से छुटकारा पा सकते हैं, क्योंकि इसमें कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। जो हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी गुणकारी होती हैं।

शिशुओं के लिए (For infants)

रागी में कैल्शियम और आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। जो शिशुओं की हड्डियो तथा शरीर के विकास के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। शिशुओं को मां का दूध छुड़वाने के पश्चात रागी का दलिया खिलाना चाहिए ।दक्षिण भारत में लोग नामकरण के समय 28 दिन के शिशु को रागी के दलिए का सेवन करवाते हैं।

स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए (For lactating women)

रागी में कैल्शियम तथा आयरन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो दूध को बढ़ाने में सहायक होता है ।यह महिलाओं तथा शिशु दोनों के लिए काफी गुणकारी होता है ।रागी की खिचड़ी तथा अन्य व्यंजनों का सेवन करने से आपका ही समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं। राखी आपके स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होती है।

Ragi

त्वचा के लिए (For skin)

रागी में मेथियोनीन और लाइसिन जैसे महत्वपूर्ण एमिनो एसिड पाए जाते है जो त्वचा के ऊतकों में झुर्रियों की संभावना को नियंत्रित करने में सहायक होते है। रागी में विटामिन डी से जुड़े कुछ खास पोषक तत्व पाए जाते है, जो मुख्य रूप से धूप से प्राप्त होते है।रागी त्वचा को जवान रखने में सहायक होती है।

यह भी देखे –>> Benefits of Castor Oil

Side Effects of Ragi in Hindi

  • रागी में ऑक्सलिक अम्ल प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो संचार गति को प्रभावित करता है। रागी पथरी के रोगियों के लिए काफी नुकसानदायक साबित हो सकती है।
  •  रागी का अधिक मात्रा में सेवन करने से किडनी के रोगियों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
    बच्चों को रागी का सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए।
  • स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को रागी का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श जरूर करना चाहिए।

For more details regrading the Ragi in Hindi: Click Here

रागी क्या है?

हमारे स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होती है ।रागी में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। यह बीज या दाना गोलाकार छोटा होता है। यह भूरे रंग की होती है। रागी की खेती हम ऊंची पहाड़ियों पर भी कर सकते हैं ।आज हम आपको हमारे इस लेख के माध्यम से रागी से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी जैसे रागी के फायदे, रागी होती क्या है?, रागी के पोषक तत्व, रागी के नुकसान आदि पर चर्चा परिचर्चा करेंगे।

हड्डियों के विकास के लिए कैसे उपयोगी है रागी बताईये?

रागी में कैल्शियम प्रचुर मात्रा में पाया जाता है । Osteoporosis की समस्या को रोकने तथा हड्डियों के विकास के लिए कैल्शियम सबसे अधिक आवश्यक होता है।इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप कैल्शियम की दवाइयों का सेवन करने के बजाय रागी कांजी या दलिया का सेवन कर सकते हैं। जोड़ों के दर्द का हड्डियों के विकास के लिए यह काफी फायदेमंद साबित हो सकती है।

हृदय के लिए के लिए कैसे उपयोग करें रागी को बताईये?

रागी में आयरन और मैग्नीशियम जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। यह पोषक तत्व हार्ट अटैक के जोखिम को कम करने में सहायक होते हैं। रागी कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने में सहायक होती है और इससे हृदय रोग के जोखिम को कम किया सकता है। रागी का सेवन करने से आप ह्रदय संबंधित समस्याओ से छुटकारा पा सकते है।

रागी के Side Effects बताईये?

रागी में ऑक्सलिक अम्ल प्रचुर मात्रा में पाया जाता है, जो संचार गति को प्रभावित करता है। रागी पथरी के रोगियों के लिए काफी नुकसानदायक साबित हो सकती है।
 रागी का अधिक मात्रा में सेवन करने से किडनी के रोगियों को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है।
बच्चों को रागी का सेवन अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए।
स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को रागी का सेवन करने से पहले एक बार डॉक्टर से परामर्श जरूर करना चाहिए।