सांस लेने में परेशानी के उपाय: साँस फूलने के करण और उपाय, जाने

0
224
सांस लेने में परेशानी के उपाय

सांस लेने में परेशानी के उपाय:- जैसा की आपको पता है की हम जानते है कभी-कभी साँस फूलना कमजोरी महसूस होना ऐसे कुछ परेशानियों से व्यक्ति काफी परेशान हो जाता है। यह सब पौष्टिक आहार न खाने के कारण होता है। यदि हमारे शरीर में पौष्टिक आहार की कमी होती है।

सांस लेने में परेशानी के उपाय

Table of Contents

हम यह समस्या श्वसन प्रणाली में संक्रमण या बीमारी, हृदय संबधी बिमारी, Pancreatitis, Allergies और खून की कमी से भी हो सकती है। आज हम आपको इन बीमारियों से कैसे बचे और क्या-क्या आहार लें इन सब के बारे में घरेलू उपाय बताएंगे विस्तार से जानने के लिए दिए गए लेख को अंत तक पढ़े।

अदरक (सांस लेने में परेशानी के उपाय)

बलगम से राहत पाने के लिए आप प्रतिदिन अदरक को खा सकते है। (सांस लेने में परेशानी के उपाय) या फिर आप ऐसा कोई आहार बनाये जिसमे आप भरपूर मात्रा में अदरक डाल सको अदरक में पाए जाने वाले गुण बलगम को निकालने में आपकी सहायता करेंगे।  जिससे की सांस फूलने की जो परेशानी है आपको उस से राहत मिलगी। 

भाप लेना चाहिए (सांस फूलने का रामबाण इलाज)

  • यदि आप को सांस फूलने की शिकायत है। तो आपको गर्म पानी में भाप लेना चाहिए। इससे आपके नाक की नलियां स्वच्छ होती है और सांस लेने में किसी भी तरह की परेशानी नहीं होती है। भाप लेने से नासिका मार्ग खुल जाता है जिससे सांस लेने में सरलता होती है।
  • भाप की गर्मी और नमी भी फेफड़ों में जमा Mucus को तोड़ सकती है जिससे सांस लेने में हो रही परेशानी कम हो सकती है।एक बर्तन में गर्म पानी भरें और उसमें पुदीने या नीलगिरी का तेल की कुछ बूंदें डालें। (सांस लेने में परेशानी के उपाय) एक कपड़े से सिर को ढक लें फिर इस बर्तन से थोड़ा ऊपर रख लें और पानी की भाप लें।

सांस लेने में परेशानी के उपाय

गहरी सांस लेना (सांस फूलना)

पेट से गहरी सांस लेने से भी सांस की शिकायत दूर होती है। आप लेट जाएं और दोनों हाथों को पेट पर रखें। अब नाक से गहरी सांस लेने का प्रयास करें और पेट को फुलाते हुए फेफड़ों में हवा भरें। कुछ सेकंड तक सांस को रोक लें धीरे से मुंह से सांस लेते रहें और फेफड़ों में भरी हवा को बाहर निकालें। 5 से 10 मिनट के लिए इसे दोहराते रहें।

टहलने जाए एक्सरसाइज करें (सांस फूलने पर क्या करें)

  • जो लोग किसी भी प्रकार की शारीरिक गतिविधि (एक्सरसाइज) नहीं करते हैं। उन्हें कभी-कभी काम करना भारी पड़ जाता है।
    उनकी सांस फूलने लगती है।
  • इसलिए प्रतिदिन हमे टहलना या फिर चलना फिरना चाहिए।
  • इससे आप प्रतिदिन घूमेंगे फिरेंगे तो आपकी साँस फूलने की बिमारी दूर होगी।
  • इसी के साथ प्रतिदिन आप एक्सरसाइज भी कर सकते हैं। (सांस लेने में परेशानी के उपाय) जिससे आपको सांस फूलने की समस्या नहीं होगी। आप योग प्राणायाम भी कर सकते हैं। जो आपके शरीर के लिए फायदेमंद होता है।

दिव्य श्वासारी प्रवाही सिरप (सांस फूलने की दवा पतंजलि)

यह दवा पतंजलि कंपनी की पेटेंट दवाओं में आती है | श्वासारी प्रवाही मुख्यत: श्वसन सम्बन्धी विकारों में उपयोग में आती है। यदि आपको साँस लेने में परेशानी है तो यह दवा लाभदायक साबित होती है |  इसमें दोनों तरह के वासा (अडूसा), बनफ्सा, दालचीनी, लौंग, कालीमिर्च, भृंगराज एवं पिप्पली जैसे घटक द्रव्य है | इसका प्रयोग अस्थमा रोग में प्रमुखता से किया जा सकता है |

दिव्य श्वासारी प्रवाही सिरप

​जीवनशैली में करें बदलाव (saas fulna ka ilaj in hindi)

  • यदि साँस फूलने की शिकायत है धूम्रपान न करें और तंबाकू का सेवन न करें।
  • प्रदूषण भरी जगहों से दूर रहे।
  • विषैले पर्दार्थो मोटापा कम करें।
  • उच्‍च तापमान में कठिन व्‍यायाम न करें।
  • संतुलित आहार और पौष्टिक आहार लें।
  • आठ घंटे की नींद लें।

सांस फूलने की घरेलू दवा अजवाइन की पत्तियां (सांस की देसी दवा)

अजवाइन की पत्तियों में ऐसे Agent भरपूर मात्रा में होते है। (सांस लेने में परेशानी के उपाय) जो की लंग्स की अच्छे से स्वच्छ कर देते है। इससे दमा और खांसी की परेशानी दूर होती है। इसलिए प्रतिदिन अजवाइन की पत्तियों का सेवन करें।

सितोपलादि चूर्ण के फायदे (सांस फूलने की दवा बताएं)

  • अस्थमा की समस्या परेशानी एवं श्वांस की बिमारी में फायदेमंद है।
  • सर्दियों में कफ की ज्यादा परेशानी रहती है उनके लिए फायदेमंद औषधि है |
  • सुखी एवं कफज खांसी में शहद के साथ इस दवा लेने से राहत मिलती है।
  • अजीर्ण एवं पाचन की परेशानी में फायदेमंद है।

सांस लेने में परेशानी के उपाय

सांस फूलना का इलाज लहसुन (sans ki problem ka ilaj)

लहसुन में Antibacterial गुण भरपूर मात्रा में होते है।(सांस लेने में परेशानी के उपाय) जो की गले और लंग्स के Bacteria को अच्छे से स्वच्छ कर देते है और सांस की परेशानी को नियंत्रण में रखते है।

होंठ गोल करके सांस लेना (Shortness of Breath in Hindi)

होठों से सांस लेने का प्रोसेस एक और बेहतरीन तरीका मन जाता है।जो साँस फूलने की परेशानी को कम करने में हमारी सहायता करता है।ये आपकी सांस फूलने की परेशानी को तीव्रता से कम करता है। और सामान्य सांस को लय में लेकर आती है। इसके साथ ही इससे तनाव और चिंताएं भी दूर होती हैं।

होंठ गोल करके सांस लेना

कैसे करें –

  1. सर्वप्रथम आराम से बैठ जाएं और गर्दन एवं कंधे की Muscles को आराम दें।
  2. फिर आप अपने होठों को ज़ोर से दबा लें।
  3. फिर कुछ सेकेंड के लिए अपनी नाक से सांस लेने का प्रयास करें।
  4. अब होंठों को थोड़ा खोलें और धीरे से साँस छोड़े।
  5. फिर से इसी तरह सांस लें और छोड़ें। ये प्रोसेस करीब 10 मिनट तक दोहराएं।
  6. इस प्रोसेस को आप कभी भी कर सकते हैं या जब लगे कि सांस में दिक्क़त हो रही है तो(सांस लेने में परेशानी के उपाय)  आप आराम से इसे करें। कुछ देर बाद में आप अच्छा महसूस करने लगेंगे।

Black coffee (saans fulna in english)

Black Coffee वायुमार्ग में मौजूद Muscles के जकड़न को कम करने में सहायता करती है। अस्थमा के रोगी यदि प्रतिदिन Black Coffee का सेवन लगातार करें। तो उन्हें बहुत फायदा मिलता है। इससे हमारे फेफड़े अच्छे से काम करते है (सांस लेने में परेशानी के उपाय) क्योकि यह हमारी सहायता करती है। जिससे आपको सांस फूलने की परेशानी से राहत मिलेगी।

स्टीम 

बहुत सी Nasal Passage में हुए Blockage की वजह से भी सांस फूलने लगती है। ऐसे में Steam की सहायता से इसे खोल सकते हैं। Steam लेने से सीने, नाक में बलगम की वजह से जकड़न से राहत मिलती है। फेफड़ों में जमे बलगम को भी Steam के माध्यम से हटाया जा सकता है।

सांस लेने में परेशानी के उपाय

चुकंदर 

Anemia के कारण से सांस फूलने की यदि परेशानी है तो चुकंदर का सेवन आपके लिए बहुत लाभदायक साबित होगा। चुकंदर में भरपूर मात्रा में Iron होता है और साथ ही यह Fiber, Calcium, Potassium And Vitamins से भी प्रचुर होता है। (सांस लेने में परेशानी के उपाय) यह सब आपकी अच्छी सेहत के लिए जरुरी है।

सौंफ 

आयुर्वेद में सौंफ को सांस की परेशानी को दूर करने के लिए उपयोग में लिया जाता है। इसमें ऐसे बहुत से तत्व पाए जाते है जो बलगम को निकालते हैं और सांस से जुड़ी समस्याओ को दूर करने में सहायता करते हैं। साथ ही सौंफ में Iron भरपूर मात्रा में होता है (सांस लेने में परेशानी के उपाय) जिससे की Anemia जैसी बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है।

साँस फूलने के लक्षण

  • बिना किसी श्रम किये सांस का फूलना
  • 5-7 सीढियाँ चढ़ते ही जोर-जोर से सांस फूलना या हाफना
  • हल्की एलर्जी होते ही सांस लेने में परेशानी।
  • बिना भाग-दौड़ सांस लेने में परेशानी
  • लम्बे समय से अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति को भी सांस लेने में परेशानी आती है |
  • जुकाम एवं खांसी की परेशानी होने पर सांस लेने में समस्या होना

सांस फूलने के कारण

  • शरीर का वजन ज्यादा होना
  • धूम्रपान
  • वायु में मौजूद किसी प्रदूषक
  • अत्‍य‍धिक ठंड
  • कठिन व्‍यायाम और एंग्‍जायटी के कारण सांस फूल सकती है।
  • इसके अतिरिक्त अस्‍थमा, Anemia, Chronic Obstructive Pulmonary Disease, हृदय का ठीक तरह से काम न करना, फेफड़ों के कैंसर और TB की कारण से सांस फूल सकती है।

Disclaimer

सलाह सहित यह सामग्री सिर्फ सामान्य जानकारी प्रदान करती है। यह किसी भी प्रकार से Qualified Medical राय का Option नहीं है। जायदा जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने Doctor से Consultation करें। dadikenuske इस जानकारी के लिए ज़िम्मेदारी का दावा नहीं करता है।

अदरक कैसे फायदेमंद है ?

बलगम से राहत पाने के लिए आप प्रतिदिन अदरक को खा सकते है। या फिर आप ऐसा कोई आहार बनाये जिसमे आप भरपूर मात्रा में अदरक डाल सको अदरक में पाए जाने वाले गुण बलगम को निकालने में आपकी सहायता करेंगे। जिससे की सांस फूलने की जो परेशानी है आपको उस से राहत मिलगी। ‘

सास फूलने की परेशानी को चकुंदर कैसे हमारी मदद करेगा ?

Anemia के कारण से सांस फूलने की यदि परेशानी है तो चुकंदर का सेवन आपके लिए बहुत लाभदायक साबित होगा। चुकंदर में भरपूर मात्रा में Iron होता है और साथ ही यह Fiber, Calcium, Potassium And Vitamins से भी प्रचुर होता है। यह सब आपकी अच्छी सेहत के लिए जरुरी है।

सौंफ के फायदे बताये?

आयुर्वेद में सौंफ को सांस की परेशानी को दूर करने के लिए उपयोग में लिया जाता है। इसमें ऐसे बहुत से तत्व पाए जाते है जो बलगम को निकालते हैं और सांस से जुड़ी समस्याओ को दूर करने में सहायता करते हैं। साथ ही सौंफ में Iron भरपूर मात्रा में होता है जिससे की Anemia जैसी बीमारियों से छुटकारा पाया जा सकता है।

​जीवनशैली में क्या-क्या बदलाव करें जिस से साँस न फुले?

यदि साँस फूलने की शिकायत है धूम्रपान न करें और तंबाकू का सेवन न करें।
प्रदूषण भरी जगहों से दूर रहे।
विषैले पर्दार्थो मोटापा कम करें।
उच्‍च तापमान में कठिन व्‍यायाम न करें।

सांस फूलना का इलाज लहसुन से कैसे किया जा सकता है?

लहसुन में Antibacterial गुण भरपूर मात्रा में होते है।(सांस लेने में परेशानी के उपाय) जो की गले और लंग्स के Bacteria को अच्छे से स्वच्छ कर देते है और सांस की परेशानी को नियंत्रण में रखते है।

होंठ गोल करके सांसकैसे लें?

सर्वप्रथम आराम से बैठ जाएं और गर्दन एवं कंधे की Muscles को आराम दें।
फिर आप अपने होठों को ज़ोर से दबा लें।
फिर कुछ सेकेंड के लिए अपनी नाक से सांस लेने का प्रयास करें।
अब होंठों को थोड़ा खोलें और धीरे से साँस छोड़े।
फिर से इसी तरह सांस लें और छोड़ें। ये प्रोसेस करीब 10 मिनट तक दोहराएं।
इस प्रोसेस को आप कभी भी कर सकते हैं या जब लगे कि सांस में दिक्क़त हो रही है तो(सांस लेने में परेशानी के उपाय)  आप आराम से इसे करें। कुछ देर बाद में आप अच्छा महसूस करने लगेंगे।

साँस फूलने के लक्षण बताये?

बिना किसी श्रम किये सांस का फूलना
5-7 सीढियाँ चढ़ते ही जोर-जोर से सांस फूलना या हाफना
हल्की एलर्जी होते ही सांस लेने में परेशानी।
बिना भाग-दौड़ सांस लेने में परेशानी

साँस फूलने का करण?

शरीर का वजन ज्यादा होना
धूम्रपान
वायु में मौजूद किसी प्रदूषक
अत्‍य‍धिक ठंड
कठिन व्‍यायाम और एंग्‍जायटी के कारण सांस फूल सकती है।