Shikakai in Hindi: शिकाकाई का इस्तेमाल करने से बालों को मजबूत बनाया जा सकता है।

0
622
Shikakai

Shikakai:- प्रमुख रूप से शिकाकाई का इस्तेमाल बालों और त्वचा के लिए किया जाता है ।शिकाकाई का इस्तेमाल  काले घने बालों के लिए किया जाता है। शिकाकाई का इस्तेमाल आप कई प्रकार से कर सकते हैं शिकाकाई का साबुन, शिकाकाई ऑयल, शिकाकाई शैंपू, शिकाकाई पाउडर आदि औषधीय गुण पाए जाते हैं। आज हम आपके साथ हमारे इस लेख के माध्यम से शिकाकाई से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी जैसे शिकाकाई के फायदे, शिकाकाई के पोषक तत्व, शिकाकाई के नुकसान, शिकाकाई क्या है? आदि पर चर्चा परिचर्चा करेंगे।

Shikakai 

शिकाकाई का वैज्ञानिक नाम एकेशिया रुगेटा है। यह मिमोसेसी कुल से सम्बन्ध रखता है। इसे अंग्रेजी में सोप पोड कहा जाता है।शिकाकाई के पेड़ शीघ्रता से बढ़ने वाले छोटे-छोटे बातों से भरा था ना होता है । शिकाकाई की फली अंसार पट्टी के आकार की सीधी होती है।

Shikakai 

शिकाकाई एक आरोही झाड़ीनुमा पौधा होता है। शिकाकाई का उत्पादन उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों एवं पूर्वी हिमालय क्षेत्रों में किया जाता है। यह एशिया में पाया जाता है ।भारत के मध्य और दक्षिणी गर्म मैदानों में शिकाकाई आसानी से उगती है ।शिकाकाई की झाड़ियों को पैंटोपोरिया हॉर्डोनिया नामक तितली के लारवा से पोषण मिलता है। शिकाकाई के पौधे के फलों में अल्कलॉइड की मात्रा प्रचुर होती है।

शिकाकाई का पौधा छोटे-छोटे कांटों से भरा तना होता है शिकाकाई के पौधे की मांसल, पट्टी आकार की होती है ।यह 7.5 से लेकर 10 सेमी लंबी होती है तथा 1.8 सेमी इसकी चौड़ाई होती है। शिकाकाई की फली कच्चे अवस्था में हरे रंग की होती है तथा सूखने के पश्चात झुर्रिदार हो जाती है। शिकाकाई की फली में 6 से लेकर 10 बीज होते हैं।

शिकाकाई का इस्तेमाल करने से ब्लड डिसऑर्डर, कुष्ठ रोग, पेट संबंधित समस्याएं, किडनी रोग, हृदय रोग, पाइल्स, बवासीर, कृमि और आम दोष जैसी समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है। शिकाकाई का मुख्य रूप से बालों के लिए उपयोग किया जाता है। यह बालों और त्वचा के लिए काफी ठंडा होता है। इसके अतिरिक्त, शिकाकाई कफ और पित्त को कम करने, वात को हराने और हृदय संबंधित समस्याओं से छुटकारा दिलाने और भूख बढ़ाने में भी सहायक होती है।

Nutrients of shikakai in Hindi

शिकाकाई में कई पोषक तत्व पाए जाते हैं जैसे प्रोटीन, फाइबर, विटामिन ए, विटामिन सी, विटामिन डी, विटामिन ए, विटामिन के, ग्लूकोस अरबी नो कार्बोहाइड्रेट आदि ।इसके अतिरिक्त शिकाकाई में ऑक्जेलिक एसिड, सिट्रिक एसिड, एस्कोरबिक एसिड, टारटरिक एसिड प्रचुर मात्रा में पाई जाती है । शिकाकाई में एंटीऑक्सीडेंट भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।

Benefits of Shikakai in Hindi

Shikakai

बालों के लिए (shikakai for hair problems)

शिकाकाई की फलियों का काढ़ा बनाकर बालों को धोने से बालों को घने होते हैं । और इन में डैंड्रफ भी कम होता है। शिकाकाई के शैंपू का इस्तेमाल करने से असमय बालों के सफेद होने की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं। शिकाकाई का शैंपू बालों के लिए काफी गुणकारी साबित हो सकता है।

रूसी के लिए (shikakai in Hindi for dandruff)

बालों में डेंड्रफ होने का प्रमुख कारण वात और कफ दोष के अलावा सर की त्वचा या तो ज्यादा तेलीय है या ज्यादा ही रूखी होती है शिकाकाई तेल त्वचा के कारण होने वाले डैंड्रफ को कम करने के लिए काफी फायदेमंद होती है। क्योंकि उनमें कफ को कम करने के लिए औषधीय गुण मौजूद होते हैं । शिकाकाई की फली के क्वाथ से बालों में डैंड्रफ की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

बालों को साफ और मजबूत बनाने के लिए (shikakai in Hindi for strong and clean hair)

शिकाकाई का इस्तेमाल करने से बालों को मजबूत बनाया जा सकता है। शिकाकाई के शैंपू का इस्तेमाल करने से बाल इस सफाई अच्छे से होती है ।और जड़ों को मजबूती प्रदान करती है।

बालों की चमक के लिए (shikakai in Hindi for shiny hair)

शिकाकाई बालों की चमक बढ़ाने के लिए काफी गुणकारी साबित हो सकती है, क्योंकि इसमें काष्य गुण पाया जाता ।है शिकाकाई का इस्तेमाल करने से बालों में से गंदगी और पसीने को दूर किया जा सकता है, जिससे बालों की चमक बनी रहती है।बालों के झड़ने की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप शिकाकाई का इस्तेमाल भी कर सकती हैं।

Shikakai 

घाव भरने के लिए (shikakai in Hindi for healing wounds)

शिकाकाई में हीलिंग औषधिय गुण प्रचुर मात्रा में उपलब्ध होता है। जो घाव को भरने में सहायता करता है। इसके अतिरिक्त शिकाकाई में एंटी इन्फ्लेमेटरी औषधीय गुण भी पाया जाता है, जो सूजन को कम करने में सहायक होता है। शिकाकाई का इस्तेमाल घाव के प्रभावित स्थान पर करने से जलन या सूजन को कम किया जा सकता है।

कफ और खांसी के लिए (shikakai in Hindi for cough and cold)

कफ और खांसी से छुटकारा पाने के लिए आप शिकाकाई की फलियों को फाणट बनाकर 15 से 30 मिली फाणट का सेवन करने से सास और खांसी से संबंधित समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है ।यह मौसम के बदलने के कारण होने वाले खांसी और जुखाम के लिए काफी फायदेमंद साबित होती है।

पेट फूलने की समस्या के लिए(shikakai in Hindi for blotting)

ज्यादा मसालेदार भोजन का सेवन करने से अक्सर लोगों में पेट फूलने की समस्या सामने आती है। इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप शिकाकाई के पत्तों को पीसकर गुनगुना करके पेट पर लगाने से गैस की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है ।पेट फूलने तथा पाचन संबंधी समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए आप शिकाकाई का इस्तेमाल कर सकते हैं ।यह काफी फायदेमंद साबित हो सकती है।

पीलिया के लिए (shikakai in Hindi for jaundice)

पीलिया की समस्या होने पर उल्टी और बुखार से निजात पाने के लिए आप शिकाकाई का सेवन कर सकते हैं। पीलिया होने पर आप शिकाकाई की फलियों का काढ़ा बनाकर 10-30 मिली काला का सेवन करने से उल्टी को रोका जा सकता है। इसके अलावा बुखार से छुटकारा दिलाने में भी शिकाकाई काफी फायदेमंद साबित होती है।

लिवर के लिए (shikakai in Hindi for liver problems)

लीवर संबंधित रोगों से छुटकारा पाने के लिए आप शिकाकाई का इस्तेमाल कर सकते हैं। संबंधित समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए शिकाकाई के कोमल पत्तों का काढ़ा बनाकर 10 से 30 मिलीलीटर सेवन करने से सभी समस्याओं से छुटकारा पा सकते हैं । यह आपके स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

Shikakai 

त्वचा के लिए (Shikakai in Hindi for skin)

शिकाकाई त्वचा के लिए काफी फायदेमंद होती है यह को कम करने में सहायक होती है। और त्वचा से अतिरिक्त तेल को बाहर खींचकर निकालने में भी सहायक होती है ।शिकाकाई के पत्तों का पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाने से त्वचा की गंदगी बाहर निकल जाती है और इससे त्वचा का रंग साफ होता है। शिकाकाई का इस्तेमाल करने से त्वचा पर चमक बनी रहती है ।और कील मुहांसों से भी छुटकारा पाया जा सकता है।

Side effects of shikakai in Hindi

▶️ शिकाकाई का अधिक मात्रा में सेवन करने से अस्थमा और सांस लेने संबंधित समस्याएं सामने आ सकती है।

▶️ शिकाकाई का नियमित रूप से इस्तेमाल करने से आपके बालों की त्वचा तेलीय हो सकती है।

For more details regarding the Shikakai in Hindi:- Click here

शिकाकाई क्या है?

प्रमुख रूप से शिकाकाई का इस्तेमाल बालों और त्वचा के लिए किया जाता है ।शिकाकाई का इस्तेमाल  काले घने बालों के लिए किया जाता है। शिकाकाई का इस्तेमाल आप कई प्रकार से कर सकते हैं शिकाकाई का साबुन, शिकाकाई ऑयल, शिकाकाई शैंपू, शिकाकाई पाउडर आदि औषधीय गुण पाए जाते हैं। आज हम आपके साथ हमारे इस लेख के माध्यम से शिकाकाई से जुड़ी सभी आवश्यक जानकारी जैसे शिकाकाई के फायदे, शिकाकाई के पोषक तत्व, शिकाकाई के नुकसान, शिकाकाई क्या है? आदि पर चर्चा परिचर्चा करेंगे।

रूसी के लिए शिकाकाई का उपयोग बताये?

बालों में डेंड्रफ होने का प्रमुख कारण वात और कफ दोष के अलावा सर की त्वचा या तो ज्यादा तेलीय है या ज्यादा ही रूखी होती है शिकाकाई तेल त्वचा के कारण होने वाले डैंड्रफ को कम करने के लिए काफी फायदेमंद होती है। क्योंकि उनमें कफ को कम करने के लिए औषधीय गुण मौजूद होते हैं । शिकाकाई की फली के क्वाथ से बालों में डैंड्रफ की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

बालों की चमक के लिए शिकाकाई का उपयोग कैसे करें?

शिकाकाई बालों की चमक बढ़ाने के लिए काफी गुणकारी साबित हो सकती है, क्योंकि इसमें काष्य गुण पाया जाता ।है शिकाकाई का इस्तेमाल करने से बालों में से गंदगी और पसीने को दूर किया जा सकता है, जिससे बालों की चमक बनी रहती है।बालों के झड़ने की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप शिकाकाई का इस्तेमाल भी कर सकती हैं।

शिकाकाई के Side Effects बताईये?

▶️ शिकाकाई का अधिक मात्रा में सेवन करने से अस्थमा और सांस लेने संबंधित समस्याएं सामने आ सकती है।
▶️ शिकाकाई का नियमित रूप से इस्तेमाल करने से आपके बालों की त्वचा तेलीय हो सकती है।