Top 5 Benefits Of Rose Water for Skin and face in Hindi ( गुलाब जल के फायदे )

0
237
uses for rose water

uses for rose water| dabur gulab jal , gulab jal dabur , gulab jal for eyes , gulab jal ke fayde , gulab jal patanjali , patanjali gulab jal , gulab jal ka fayda , gulab jal in eyes , gulab jal ke fayde , patanjali gulab jal ke fayde , glycerin or gulab jal ke fayde , gulab jal ke fayde aur nuksan , gulab jal ke fayde for eyes , gulab jal ke fayde in hindi , besan or gulab jal ke fayde , gulab jal ke fayde skin ke liye , glycerin or gulab jal ke fayde in hindi , glycerine aur gulab jal ke fayde | uses for rose water | uses for rose water | uses for rose water | uses for rose water |uses for rose water |

Uses for rose water

गुलाब शब्द का नाम लेते ही हमारे दिमाग में लाल रंग का सुंदर सा गुलाब आ जाता है और साथ ( uses for rose water ) ही यह हमें उसकी मनमोहक खुशबू की याद दिला जाता है। शायद ही कोई हो जिसे गुलाब की खुशबू पसंद ना हो। अक्सर लोग अपने प्रियजनों को खुश करने के लिए गुलाब का फूल गिफ्ट करते हैं। गुलाब को फूलों का राजा भी बोला गया है। तो आइए आज हम जानते हैं कि गुलाब जल क्या है और यह कैसे बनाया जाता है। और हम जानेंगे कि गुलाब जल के फायदे क्या है गुलाब जल स्वच्छ पानी और गुलाब की पंखुड़ियों से बनता है। 

इसकी अच्छी खुशबू और इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स भारी मात्रा में होने के कारण इसे बहुत सी दवाइयों,स्किन केयर प्रोडक्ट और तो और खाद्य पदार्थों में भी इस्तेमाल किया जाता है| गुलाब जल फ्लेवर्ड, खुशबूदार पानी होता है जो गुलाब की पत्तियों को पानी में भिगोकर ( uses for rose water ) तैयार किया जाता है. ये एक ऐसा पदार्थ है जो आपको हर भारतीय घर में दिखाई देगा. सिर्फ इसलिए नहीं कि गुलाब जल त्वचा के लिए बेस्ट होता है बल्कि ये आंखों के लिए भी काफी फायदेमंद माना जाता है. आंखों के लिए आप इसे एक ऑर्गैनिक क्लींज़र और एस्ट्रिंजेंट की तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं. गुलाब जल में एंटी-सेप्टिक और एंटी-बैक्टीरियल गुण भी पाए जाते हैं जो आंखों में डस्ट और प्रदूषण से होने वाली जलन को खत्म करता है.

गुलाब जल के और भी कई फायदे होते हैं आइए जानते हैं. गुलाब का फूल भला किसे नहीं पसंद होता। किसी से प्यार काे इज़हार करना हो याा फिर खूबसूरती बढ़ाने के लिए बालों पर लगाना हो, गुलाब का फूल सबसे आगे रहता है। हमारे देश के पहले प्रधानमंत्री चाचा नेहरू के पाॅकेट की शान भी यही गुलाब बढ़ाता था। घर पर सजाना हो या फिर भगवान ( uses for rose water ) के चरणों पर चढ़ाना हो, हर तरफ सिर्फ गुलाब के फूल की मांग रहती है। इसकी महमोहक खुशबू हर किसी का ध्यान अपनी तरफ खींच ही लेती है। मगर गुलाब जल के फायदे भी कुछ कम नहीं हैं। गुलाब के गुणों को देखते हुए इसे फूलों का राजा कहना बिल्कुल भी गलत नहीं होगा।

वहीं गुलाब के फूल से बनने वाला गुलाब जल भी हर किसी के घर का एक अहम सदस्य होता है। बात पूजा- पाठ की हो, शादी में मेहमानों के स्वागत की हो या फिर त्वचा की खूबसूरती निखारने की। गुलाब जल हर जगह डिमांड में रहता है। तो चलिए जानते हैं, ऐसा ( uses for rose water ) क्या गुलाब जल में, जो इसका महत्व और ज़रूरत इतनी ज्यादा है।बात जब फूलों की हो, तो गुलाब का जिक्र किए बिना कैसे रहा जा सकता है। इसी गुलाब से बनने वाले गुलाब जल की चर्चा भी कुछ कम नहीं हैं। भारतीय परंपरा में गुलाब जल का उपयोग न सिर्फ धार्मिक अनुष्ठानों में, बल्कि त्वचा को प्राकृतिक रूप से निखारने के लिए भी पौराणिक काल से हो रहा है। आखिर ऐसा क्या है गुलाब जल में कि इसे हर कोई इतना पसंद करता है। इसी के बारे में हम दादी के नुस्खे के इस लेख में बताएंगे। यहां गुलाब जल के फायदे और गुलाब जल कैसे बनता है, इस बारे में विस्तार से जानिए।

क्यों ज़रूरी है गुलाब जल

प्राचीन काल से ही खूबसूरती बढ़ाने के लिए गुलाब की पंखुड़ियों या फिर गुलाब जल( uses for rose water ) का इस्तेमाल किया जाता रहा है। गुलाब जल में एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी इंफ्लेमेट्री के कई गुण पाए जाते हैं जो त्वचा और बालों के लिए काफी फायदेमंद होते है। साथ ही ये उन्हें हाइड्रेट कर स्वस्थ भी बनाता है। ये त्वचा से तेल को नियंत्रित कर उसे चमक पहुंचाता है व उसमें निखार लाता है।

गुलाब जल के प्रयोग से त्वचा की नमी बरकरार रहती है। ये एक अच्छा मेकअप रिमूवर भी है। त्वचा से दिनभर की थकान व धूल- मिट्टी के कण साफ करने में भी ( uses for rose water ) गुलाब जल प्रयोग में लाया जा सकता है। इसके अलावा आंखों में कुछ चले जाने या जलन होने पर उसे ठंडक पहुंचाने में भी गुलाब जल मदद करता है। इसे न सिर्फ काॅस्मेटिक प्रोडक्ट्स बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है बल्कि ये कई घरेलू नुस्खों में भी कारगर है।

uses for rose water

अन्य भाषाओं में गुलाब के नाम ( Names of Gulab in Different Languages )

1) Sanskrit-तरुणी, देवतरुणी, शतपत्री, कर्णिका, चारुकेशरा, गन्धाढ्या, महाकुमारी, लाक्षापुष्पा;

2)Hindi-गुलाब;

3) Kannada-गुलाबि (Gulabi);

4) Gujrati-गुलाब (Gulab);

5) Tamil-इरोजा (Irosa), रोजा (Roja), गोलप्पु (Golappu);

6) Telugu-गुलाबीपुवु (Gulabipuvu), रोजापुत्वू (Rojaputvu);

7) Bengali-गोलाम (Golam), गोलाप (Golap);

8) Nepali-गुलाब (Gulab);

9) Punjabi-गुलाब (Gulab), गुलेसुर्ख (Gulesurkh);

10) Malayalam-गुलाबपुष्पम (Gulabpushpam), पनीनिरपुष्पम (Paninirpushpam)।

11) English-कैबेज रोज (Cabbage rose), हॅन्ड्रड लीव्ड रोज (Hundred leaved rose), फ्रेंच रोज (French rose), प्रोवेन्स रोज (Provence rose);

12) Arbi-वर्द (Vard), अलिका (Alika);

13) Persian-गुले सुर्ख (Gule surkh), गुल (Gul)।

गुलाब जल के फायदे – Benefits of Rose Water for Skin in Hindi

1) त्वचा के लिए ( Benefits of Rose Water for Skin )

uses for rose water

गुलाब जल एक प्राकृतिक एस्ट्रिंजेंट के रूप में काम करता है। यह सभी प्रकार की त्वचा के लिए टोनर की तरह इस्तेमाल किया जा सकता है। हमारी त्वचा को क्लींजिंग, टोनिंग व मॉश्चराइज़ करना बेहद जरूरी है। इन सब में कई बार हम टोनिंग की अनदेखी कर देते हैं। जबकि टोनिंग भी त्वचा की केयर के लिए बेहद ज़रूरी स्टेप है। इसके लिए चेहरा धोने के बाद एक काॅटन यानि रुई के फाहे में गुलाब जल लेकर इससे अपना चेहरा पोंछ लें। इससे न सिर्फ आपके खुले पोर्स को बंद करने में मदद मिलेगी बल्कि मुंहासों ( uses for rose water ) और रेडनेस की समस्या में भी राहत मिलेगी। इसके रोज़ाना इस्तेमाल से आपकी त्वचा में प्राकृतिक निखार भी आएगा। गुलाब जल चेहरे पर जमा अतिरिक्त तेल को मिटाने में मदद करता है। साथ ही उन बैक्टीरिया को पनपने से रोकता है, जो कील-मुंहासों का कारण बनते हैं। ये त्वचा पर पड़े हल्के कटे के निशान को भी धीरे- धीरे कर खत्म कर देता है। इसमें मौजूद एस्ट्रिंजेंट के गुण त्वचा में निखार लाने का काम करते हैं। गुलाब जल के एंटीऑक्सीडेंट गुण स्किन सेल्स को मजबूत करते हैं, जिससे त्वचा रूखी नहीं लगती। इसके एंटी बैक्टीरियल गुण चोट व घावों को भरने के काम भी आते हैं।

2) काले घेरों के लिए ( Benefits of Rose Water for Dark circles )

uses for rose water

बढ़ता तनाव, धूल- मिट्टी व प्रदूषण सिर्फ चेहरे पर झाइयां ही नहीं पैदा करते बल्कि आंखों के नीचे काले घेरों को भी बुलावा देते हैं। इसके अलावा नींद न पूरी होना या फिर ज्यादा रोने से भी काले घेरे यानि डार्क सर्कल्स नज़र आने लगते हैं। गुलाब जल इस समस्या से निजात दिलाने का सबसे आसान व सस्ता उपाय है। गुलाब जल में विटामिन-ए और बी के गुण मौजूद होते हैं, जो स्किन की रोग ( uses for rose water ) प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते हैं। आंखों के नीचे काले घेरे कम करने के लिए आपको ज्यादा कुछ करने की ज़रूरत नहीं है। बस गुलाब जल में भीगी काॅटन बाॅल को कुछ देर के लिए अपनी आंखों पर रख लें। इससे न सिर्फ डार्क सर्कल्स दूर होंगे, बल्कि आंखों की थकान में भी राहत मिलेगी।

3) झुर्रियों के लिए ( Benefits of Rose Water for Wrinkles )

uses for rose water

उम्र बढ़ने के साथ-साथ त्वचा पर झुर्रियां पड़ने लगती हैं। गुलाब जल इन झुर्रियों को कम करने में सहायक ( uses for rose water) हो सकता है। झुर्रियों के साथ ही यह बढ़ती उम्र के दूसरे लक्षण यानी फाइन लाइन्स को भी कम करने में मददगार साबित होता है।

4) संक्रमण को रोकने के लिए ( Benefits of Rose Water for Infection )

uses for rose water

गुलाब जल में एंटीसेप्टिक गुण होता है। यह गुण बैक्टीरिया को खत्म करके संक्रमण को रोकता है। इसी कारण इसका उपयोग संक्रमण से बचाव के लिए भी किया जाता है। गुलाब जल में एंटीमाइक्रोबॉयल गुण भी मौजूद होता है, इसलिए इसका उपयोग रोजेशिया (rosacea) नामक त्वचा संक्रमण में भी किया जाता है। यह ( uses for rose water ) त्वचा को आराम पहुंचाता है।

5) कील-मुंहासे के लिए ( Benefits of Rose Water for Pimples )

गुलाब जल का उपयोग ( uses for rose water ) लोग कील-मुंहासों को कम करने के लिए भी किया जाता है। दरअसल, गुलाब जल में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं । एंटी-बैक्टीरियल गतिविधि उन बैक्टीरिया को पनपने से रोक सकती है, जिनके कारण त्वचा पर कील-मुंहासों बनते हैं। साथ ही एंटी-इंफ्लेमेटरी प्रभाव पिंपल के जीवाणुओं के कारण होने वाले इंफ्लेमेश को कम करके भी कील-मुंहासे से राहत दिला सकता है ।

घर पर कैसे बनाएं गुलाब जल? – How to Make Rose Water at Home

वैसे तो बाज़ार में रोज़ वाॅटर यानि गुलाब जल आसानी से मिल जाता है, लेकिन आप चाहें तो इसे खुद घर पर भी ( uses for rose water ) बना सकते हैं। हम यहां आपको घर पर गुलाबजल बनाने की ऐसे ही कुछ विधियां बता रहे हैं।

सामग्री-

1- गुलाब की पंखुड़ियां (जितनी आप चाहें)

2- डिस्टिल्ड वाॅटर

बनाने की विधि-

सबसे पहले गुलाब की पंखुड़ियों को तोड़कर ( uses for rose water ) उन्हें गुनगुने पानी से साफ कर लें, जिससे पंखुड़ियों पर किसी भी तरह की धूल व बाहरी गंदगी न रहे। अब इन पंखुड़ियों को एक बड़े से पाॅट में डालें और उसके ऊपर इतना डिस्टिल्ड वाॅटर डालें कि पंखुड़ियां उसमें अच्छे से डूब जाएं। पानी की मात्रा इससे अधिक न होने दें। अब इसे ढककर मध्यम या धीमी आंच में उबलने दें। इसे लगभग 20 से 30 मिनट तक उबालें, जब तक पंखुड़ियों का रंग उड़ न जाए। उसके बाद गैस बंद कर पानी से पंखुड़ियों को अलग कर दें। अब तैयार गुलाब जल को किसी जार में बंद कर रख दें। ( uses for rose water )

त्वचा के लिए गुलाब जल का उपयोग

1) मॉइस्चराइजिंग के लिए

सामग्री :

1) तीन चम्मच शुद्ध गुलाब जल

2) एक चम्मच ग्लिसरीन

3) एक चम्मच नारियल तेल

4) वैकल्पिक रूप से दो चम्मच बादाम तेल

उपयोग करने का तरीका :

1) इन सभी सामग्रियों को एक बोतल में डाल लें।

2) फिर बोतल में इन्हें अच्छे से मिक्स कर लें।

3) अब इसमें से थोड़ा-सा मिश्रण लेकर त्वचा पर लगाएं।

4) वैकल्पिक रूप से गुलाब जल को बादाम तेल में मिलाकर पूरे शरीर की मालिश कर सकते हैं।

5) इसके अलावा, अपनी क्रीम में गुलाब जल को मिक्स करके स्किन पर लगा सकते हैं।

कैसे है फायदेमंद :

हम ऊपर बता चुके हैं कि गुलाब जल में मॉइस्चराइजिंग गुण होता है। जब इसके साथ ( uses for rose water ) नारियल तेल और ग्लिसरीन मिलाया जाता है, तो यह और प्रभावी रूप से कार्य कर सकता है। दरअसल, कोकोनट ऑयल में एमोलिएंट इफेक्ट होता है, जो त्वचा की नमी को बनाए रखता है । साथ ही ग्लिसरीन हुमेक्टैंट (Humectant) की तरह काम करता है। मतलब यह स्किन में नमी को घंटों लॉक कर सकता । इसके अलावा, वैकल्पिक रूप से इस्तेमाल किए गए बादाम तेल में भी एमोलिएंट गतिविधि होती है। यह गतिविधि स्किन को नर्म बनाने और रूखेपन को दूर करने में सहायक है। साथ ही बादाम तेल त्वचा की रंगत में निखार भी लाती है । हालांकि, अगर किसी की त्वचा पर बार-बार मुंहासे की समस्या होती हो, तो वो इस मिश्रण का उपयोग न करें।

2) त्वचा को साफ करने के लिए

सामग्री :

1) शुद्ध गुलाब जल

उपयोग करने का तरीका :

1) गुलाब जल को स्प्रे बोतल में भर लें।

2) अब इसे चेहरे पर तब तक स्प्रे करें, जब तक पूरा चेहरा गीला न हो जाए।

3) फिर करीब 20-30 सेकंड त्वचा को ऐसे ही रहने दें।

4) अब टिशू पेपर की मदद से चेहरा साफ कर लें।

5) जरूरत पड़ने पर कभी भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैसे है फायदेमंद :

गुलाब जल में मौजूद एस्ट्रिंजेंट गतिविधि की वजह से यह त्वचा को गहराई से साफ ( uses for rose water ) करता है। यह रोमछिद्रों में जमी गंदगी और त्वचा के अतिरिक्त तेल को हटाने में सहायक माना जाता है। साथ ही यह स्किन रेडनेस कम करने और त्वचा में कसावट लाने में भी मदद कर सकता है। गुलाब जल से स्किन साफ करने से एक्ने होने का खतरा भी कम हो जाता है । इसी वजह से चेहरे के लिए गुलाब जल का उपयोग स्किन साफ करने के लिए किया जाता है।

3) होंठों के लिए गुलाब जल

सामग्री :

1) आधा चुकंदर

2) गुलाब जल की कुछ बूंदें दो बूंद

3) ऑलिव ऑयल

5) बीस वैक्स

उपयोग करने का तरीका :

1) चकंदर को छोटे-छोटे टुकड़ाें में काट लें।

2) फिर चुकंदर का पेस्ट तैयार करें।

3) अब इसमें गुलाब जल और अन्य सामग्रियां डालकर अच्छे से मिला लें।

4) पेस्ट तैयार होने के बाद सीधे इसे अपने साफ होंठों पर लगाएं। करीब 15 मिनट बाद इसे पानी से धो लें। जब भी 5) जरूरत महसूस हो, इसका उपयोग किया जा सकता है।

कैसे है फायदेमंद :

होंठों को मुलायम और गुलाबी ( uses for rose water ) बनाने का तरीका नहीं सूझ रहा है, तो इस पैक को इस्तेमाल कर सकते हैं। एक शोध में बताया गया है कि लिपस्टिक बनाने के लिए अक्सर चुकंदर का इस्तेमाल किया जाता है। इसमें बेटालिंस नामक पिगमेंट होता है, जो होंठों को प्राकृतिक लाल व पर्पल रंग दे सकता है ।

इसके अलावा, गुलाब जल और ऑलिव ऑयल होंठों को नमी देने में मदद करते हैं। साथ ही बीस वैक्स होंठों को ग्लॉसी लुक देता है । इसी वजह से माना जाता है कि यह पैक होंठों को मुलायम ( uses for rose water )और प्राकृतिक रंग देने में मदद कर सकता है। ध्यान रहे कुछ लोगों को बीस वैक्स से एलर्जी हो सकती है। ऐसे में इसके उपयोग से पहले पैच टेस्ट जरूर करें।

गुलाब से बनी चाय – Rose Herbal Tea in Hindi

सामग्री :

1) दो गुलाब के फूल

2) दो कप पानी

3) एक चम्मच शहद

4) नींबू के रस की 3 से 4 बूंदें

5) उपयोग करने का तरीका :

6) एक पैन में पानी गर्म करें।

7) फिर उसमें गुलाब की पंखुड़ियां डाल दें।

8) जब अच्छे से पानी उबल आ जाए, तो इसे 10 मिनट के लिए रख दें।

9) फिर इसे छानकर स्वादानुसार शहद और नींबू का रस मिला लें।

10) लीजिए, तैयार है आपकी गुलाब की चाय।

कैसे है फायदेमंद :

गुलाब की पंखुड़ी से बनी चाय पित्ताशय (Gallbladder) और लिवर को साफ करने में मदद करती है। साथ ही पित्त स्राव (Bile secretion) को बेहतर करती है। यही नहीं, गुलाब की पंखुड़ियों की चाय गले की हल्की खराश और ब्रोंकियल संक्रमण यानी फेफड़ों के एयर-वे इंफेक्शन को ( uses for rose water )कम करने में भी सहायक मानी जाती है। इसके अलावा, यह चाय शरीर को ठंडक देती है और बुखार के कारण होने वाले रैशेज को कम करती है।

For more details regarding the Rose water in Hindi: click here