Zandu Balm Uses in Hindi ( झंडू बाम के फायदे और कैसे प्रयोग करें ?)

0
1528

Zandu Balm Uses:- हेलो फ्रैंड्स आज के इस पोस्ट के अंतर्गत हम बात करेंगे Zandu Balm से सम्बंधित की क्या वास्तविकता मे यह झंडू बाम सिरदर्द ,कॉमन कोल्ड और बदन दर्द को कम करने में मदद कर सकता है । जैसा की दोस्तों आप सभी जानते है की झंडू बाम भारत का न . 1 दर्द से राहत देने वाला बाम है। झंडू बाम पीड़ाहारी बाम अधिकतर सभी लोग झंडू बाम के ऐड को देखकर ही झंडू बाम को जानते है। झंडू बाम के अनेक काम है जो अधिकतर सर्दी जुकाम,बदन दर्द और सिरदर्द के इलाज के लिए उपयोग में लायी जाती है।

Zandu Balm Uses

झंडू बाम में मेंथाल,विंटरग्रीन,गन्धपुरा के गुणों के बारे में हम आपको बताएँगे। झंडू की बाम कितनी मात्रा में लगाना है यह सभी आपके पिछली स्वास्थ के ऊपर निर्भर करता है.सर्दी जुकाम और फ्लू की समस्याओ से कोई भी परेशान हो जाता है, सर्दी जुकाम में नाक नोज का बहना और जाम हो जाना या फिर सिरदर्द होता है और इन सबमे झंडू बाम बहोत ही उपयोगी दवा है जो की आपको इन सबमे आराम पहुँचाती है। बिना डॉक्टर के पर्चे द्वारा मिलने वाली आयुर्वेदिक दवा है, जो मुख्यतः सिरदर्द, सर्दी जुकाम, बदन दर्द के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है।

दोस्तों झंडू बाम एक ऐसा बाम है जिसे यदि आप अपने शरीर पर किसी जगह दर्द होने की जगह पर लगाते हो तो आपको कुछ ही समय में आराम मिलने लगता है और इसके लिए आपको डॉक्टर के पास जाने की भी जरूरत नहीं पड़ती है | झंडू बाम यह एक झंडू फार्मास्यूटिकल्स कंपनी ने संशोधित करके बनाया है | यह जेली के स्वरूप में आता है और इसकी कीमत कुछ ज्यादा भी नहीं है और यह आपको आसानी से मार्केट में कहीं भी मिल जाता है | अभी यह अलग अलग तरीको में भी मार्किट में मिल रहा है जैसे की ज्यादा दर्द के लिए झंडू बाम अल्ट्रा पावर और छोटे बच्चो के लिए झंडू जूनियर बाम | Zandu Balm के मुख्य घटक हैं गंधपुरा, पुदीना, मेंथॉल, विंटरग्रीन ऑयल जिनकी प्रकृति और गुणों के बारे में नीचे बताया गया है। Zandu Balm की उचित खुराक मरीज की उम्र, लिंग और उसके स्वास्थ्य संबंधी पिछली समस्याओं पर निर्भर करती है। यह जानकारी विस्तार से खुराक वाले भाग में दी गई है।

Zandu Balm in Hindi – झंडू बाम क्या है?

झंडू बाम(Zandu Balm) भारत का एक लोकप्रिय दर्द से आराम दिलाने वाला बाम है| यह नाम अन्य कई प्रकार की उपलब्ध बाम का समानार्थी बन गया है। यह शरीर के किसी भी प्रकार के दर्द, सिरदर्द और यहां तक ​​कि फ्लू के दौरान भी उपयोगी है। यह बाम पूरी तरह से आयुर्वेदिक है और मेन्था एस.पी. के सत्व, गौथथिया फ्रैग्रेंटिसिमा और यूकलिपटस ग्लोबुलस से बना है।

झंडू बाम एक आयुर्वेदिक और हर्बल औसधियो से निर्मित आयुर्वेदिक दवा है। झंडू बाम भारत का न 1 दर्द से राहत देने वाला बाम है। झंडू बाम सिरदर्द, शरीर में दर्द और सर्दी के इलाज के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। झंडू बाम एक लोकप्रिय दर्द निवारक है और यह भी कही ना कही सत्य है की भारत मे 90 % झंडू बाम का उपयोग करते है क्योकि झंडू बाम सबसे अच्छा दर्द निवारक दवा है और यह शरीर को आराम करने में मदद करता है और यहां तक ​​कि एक आम सर्दी को ठीक करता है।

Zandu Balm Uses

Zandu Balm Benefits in Hindi – zandu balm in hindi

भारत में तो बाम का पर्याय ही झंडु बाम है। यह तब से उपलब्ध है जब मार्किट में कोई अन्य ओटीसी दवा मोच आदि के लिए उपलब्ध नहीं होती थी।

बाम एक इंग्लिश शब्द है जिसका मतलब होता है balm means fragrant cream or liquid used to heal or soothe the skin, मरहम या लेप। झंडु बाम एक दर्द निवारक या पीड़ाहारी मरहम है जिसे सिर के दर्द के लिए, पीठ दर्द, कोल्ड-कफ आदि में बाहरी रूप से लगाया जाता है। यह एक हरे रंग का लेप है और पूरी तरह से बाहरी प्रयोग के लिए है। झंडु के तीन बाम उपलब्ध हैं, झंडु बाम, झंडु बाम अल्ट्रा पॉवर और झंडु बाम जूनीयर। जूनियर में घटक अलग हैं और इसलिए यह बच्चों की कोमल त्वचा के लिए उपयुक्त है। बड़ों के बाम ज्यादा स्ट्रोंग होते हैं और उन्हें बच्चों को नहीं लगाना चाहिए। झंडु बाम अल्ट्रा पॉवर को अधिक दर्द apply on affected parts and gently massage on Strong Headache, Strong Backache, Strong Knee Pain, Strong Joint Pain, Strong Neck and Shoulder Pain, Sprain, Muscle Pain, Inflammation, Cold में प्रयोग किया जाता है। इसे भी सिर दर्द, पीठ दर्द, घुटने का दर्द, कंधे के दर्द, मोच, मांसपेशियों के दर्द, सूजन, कफ आदि में लगाते है।

1) जोड़ों के दर्द, जकड़न, सूजन, गठिया, आदि में भी यह दर्दनिवारक और सूजन दूर करने के गुण के कारण लाभकारी है। मालिश करने से जोड़ों में गर्माहट आती है और रक्तप्रवाह ठीक होता है। #

2) गर्दन के दर्द, पीठ के दर्द, मांसपेशियों के दर्द आदि में भी यह सूजन को दूर करने में और दर्द निवारक गुण के कारण लाभकारी है। यह जब हलकी मालिश के साथ लगते हैं तो दर्द वाले हिस्से में आराम मिलता है।

3) मोच, मांसपेशियों के दर्द, खिचाव, समेत यह सभी इसी तरह की समस्याओं तथा वात रोगों में बाहर से प्रयोग की जा सकने वाली उत्तम हर्बल दवाई है।

4) जुखाम-कफ आदि में इसे लगाने से नाक खुलती है, कंजेशन में राहत होती है और मालिश करने से खून का दौरा ठीक होता है।

5) इसे लगाने से जोड़ों और मांसपेशियों के जकड़न से राहत मिलती है।

6) यह बाम भरोसेमंद ब्रांड झंडु से है। अब झंडु बाम नाम तो बाम का ही एक पर्याय बन है।

7) कान के पिछले वाले हिस्से में लगाने से आपको सर्दी जुखाम से जल्द राहत मिलती है |

8) झंडू बाम की महक से नाक मैं बन रही सर्दी कम होने लगती है |

9) घुटनों के दर्द के लिए यह रामबाण उपाय है |

10) सिर में होने वाले दर्द से छुटकारा पाने के लिए असरदार उपाय है |

झंडु बाम कैसे प्रयोग करें?

झंडु बाम को कितने दिन लगाना है और यह कितनी देर में काम करती है, यह बहुत सारे फैक्टर्स पर निर्भर है, जैसे दर्द की गंभीरता, कारण, प्रकार, उम्र, शारीरिक बनावट, ताकत आदि। इस लिए हो सकता है, इसे लगाने के बाद आपको तुरंत ही दर्द से राहत न मिले। यह भी हो सकता है की परिणाम सभी के लिए एक जैसे न हों। क्योंकि यह बाह्य प्रयोग के लिय है, इसलिए इसे लगाने से कोई हानि नहीं है। यह लोकल एप्लीकेशन के लिए है। प्रभावित स्थान पर इसे बाहरी रूप से जरुरत के अनुसार हल्की मालिश के साथ लगायें। मालिश करने से एक तो खून का दौरा सही होगा और दूसरा यह दवा के अवशोषण में भी मदद करेगा।

झंडू बाम कैसे बनता है?

झंडू बाम के इस्तेमाल के बारे में तो सुना हुआ लेकिन क्या आपको पता है झंडू बाम बनाने के लिए क्या करना पड़ता है ? झंडू बाम बनाते समय मेंथॉल और gaultheria oil, and Eucalyptus globulus का इस्तेमाल किया जाता है और इन पदार्थों का सही मिश्रण बनाकर झंडू बाम को एक जेली के स्वरूप में बनाया जाता है | शुरुआती समय में Gaultheria fragrantissima नामक वनस्पति के पत्तों को डिस्टलेशन प्रोसेस में द्रव स्वरुप में लाया जाता है | डिस्टलेशन की क्रिया में पत्तों को अच्छे से उबालकर उस से जो भाप बनती हैं, उस भाप को पानी के स्वरूप में बदल कर जो द्रव निकलता है और उसे इस्तेमाल किया जाता है | इस द्रव में मैथिल सालीसाइलेंट नामक केमिकल पदार्थ होता है और जब यह केमिकल बाम के साथ त्वचा के ऊपर लगता है, तो यह आपके त्वचा पर होने वाले जलन और दर्द कारक घटको को बनने से रोकता है और इसी तरह झंडू बाम काम करता है |

Zandu Balm Side-Effects in Hindi– दुष्प्रभाव

वैसे झंडू बाम एक आयुर्वेदिक औषधि है इसी कारन इसके कोई गंभीर दुष्प्रभाव नहीं है लेकिन आपको कुछ बातो से सावधान रहना चाहिए जैसे की इसे आँखों के आसपास ना लगाए, अधिक मात्रा में इसका उपयोग ना करे क्योकि इससे आपको जलन ज़्यादा महसूस होगी और इसे छोटे बच्चो से भी दूर रखना चाहिए और झंडू बाम को खाना भी बिलकुल नहीं है |

TOP 5 BEST FACE SCRUBS FOR GLOWING SKIN AND SIMPLE SMOOTHING FACIAL SCRUB ( 5 बेस्ट फेस स्क्रब्स IN 2021)

झंडू बाम क्या है?

Zandu Balm भारत का नंबर 1 दर्द से राहत बाम है. यह Zandu पोर्टफोलियो का एक प्रतिष्ठित ब्रांड है और अधिकांश उपभोक्ताओं के लिए बाम के लिए एक सामान्य नाम बन जाता है.

झंडू बाम कौन कौन से काम में आता है?

Zandu Balm बिना डॉक्टर के पर्चे द्वारा मिलने वाली आयुर्वेदिक दवा है, जो मुख्यतः सिरदर्द, सर्दी जुकाम, बदन दर्द के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है। Zandu Balm के मुख्य घटक हैं गंधपुरा, पुदीना, मेंथॉल, विंटरग्रीन ऑयल जिनकी प्रकृति और गुणों के बारे में नीचे बताया गया है।

घर पर झंडू बाम कैसे बनाएं?

बाम बनाने के लिए सामग्री
वैक्‍स- 3 चम्मच
कोकोनेट ऑयल- 3 चम्मच
शिया बटर- 3 चम्मच
पिपरमेंट ऑयल- 20 बूंद
लैवेंडर ऑयल- 15 बूंद

झंडू पंचारिष्ट कैसे ले?

इस आइटम के बारे में
Emami लिमिटेड
पाचन और लिवर के रोग
2 चम्मच (30ml) को बराबर मात्रा में पानी के साथ मिलाएं, भोजन के बाद नियमित रूप से दो बार लें, या जैसी फिजीशियन के द्वारा सलाह दी गई है

पेट पर बाम लगाने से क्या होता है?

जिससे आप आसानी से कुछ ही दिनों में में पेट की चर्बी से आसानी से निजात पा सकते है। इस चाइनीज मोटापा कम करने के उपाय से रातभर में अपनी कमर को कई सेमी साइज कम कर सकते है। जानिए कैसे। आधा चम्मच बोनिकी बाम(Aboniki balm) इसे आप ऑनलाइन खरीद सकते है।

बाम लगाने से क्या होता है?

फटी एडियों पर भी आप बाम लगा कर इन्हें ठीक कर सकते हैं। शेव करते समय अगर आपके चेहरे पर हल्का कट लग जाए तो आप तुरंत बाम लगा सकते हैं। इससे से घाव जल्दी भर जाता है। यह त्वचा पर फंगल इंफेक्शन को रोकता है जिससे कटी फटी त्वचा का घाव जल्दी भर जाता है।

विक्स क्या काम आती है?

वेपोरब फटी एडियों को ठीक कर सकती है, सर्दियों में यह हाथों के लिये मॉइस्‍चराइजर का काम कर सकती है और तो और यह स्‍ट्रेच मार्क को भी हटा सकती है। 7. इतना ही नहीं वेपोरब त्वचा की साफ सफाई में फायदेमंद होता है। दिन में कई बार इसे मुहांसे पर लगाएं, ठीक हो जाएंगे।

झंडू बाम क्या काम में आता है?

Zandu Balm | सिरदर्द, शरीर में दर्द, मोच और ठंड से प्रभावी राहत | त्वरित दर्द से राहत के लिए नंबर 1 आयुर्वेदिक बाम, 25ml.

झंडू बाम की भाप कैसे लेते हैं?

अब तेज गर्म पानी के बर्तन के ऊपर अपने चेहरे को 30 सेंटीमीटर की दूरी पर रखें। सिर को टॉवेल से अच्छी तरह से ढंक लें और अब लम्बी -लम्बी सांस लें। भाप कम से कम 5-10 मिनट तक लें, ताकि गर्म हवा फेफड़ों तक पहुंच कर सर्दी-खांसी और कफ से निजात दिलाएं। भाप लेने के लिए भाप की मशीन का भी इस्तेमाल कर सकते हैं

बाम लगाने से क्या होता है?

फटी एडियों पर भी आप बाम लगा कर इन्हें ठीक कर सकते हैं। शेव करते समय अगर आपके चेहरे पर हल्का कट लग जाए तो आप तुरंत बाम लगा सकते हैं। इससे से घाव जल्दी भर जाता है। यह त्वचा पर फंगल इंफेक्शन को रोकता है जिससे कटी फटी त्वचा का घाव जल्दी भर जाता है।

झंडू बाम की भाप कैसे लेते हैं?

अब तेज गर्म पानी के बर्तन के ऊपर अपने चेहरे को 30 सेंटीमीटर की दूरी पर रखें। सिर को टॉवेल से अच्छी तरह से ढंक लें और अब लम्बी -लम्बी सांस लें। भाप कम से कम 5-10 मिनट तक लें, ताकि गर्म हवा फेफड़ों तक पहुंच कर सर्दी-खांसी और कफ से निजात दिलाएं। भाप लेने के लिए भाप की मशीन का भी इस्तेमाल कर सकते हैं

बाम खाने से क्या होता है?

कुछ बुढ़े लोग जरूर आज भी बाम को जोड़ों के दर्द और जुकाम में लगाना पसंद करते हैं। बाम में यूकोलिप्टस के तेल, कपूर और पिपरमेंट होते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि बाम का इस्तेमाल न सिर्फ जुकाम में फायदेमंद है बल्कि ये और भी कई तरह से काम में आता है।

पेट पर बाम लगाने से क्या होता है?

जिससे आप आसानी से कुछ ही दिनों में में पेट की चर्बी से आसानी से निजात पा सकते है। इस चाइनीज मोटापा कम करने के उपाय से रातभर में अपनी कमर को कई सेमी साइज कम कर सकते है। जानिए कैसे। आधा चम्मच बोनिकी बाम(Aboniki balm) इसे आप ऑनलाइन खरीद सकते है।

झंडू बाम क्या क्या चीज में काम आता है?

दर्द दूर करने के लिए उनके नाम की दवा जामनगर की पूर्व रियासत की शाही ‘रस शाला’ से बाहर आ गई है और 150 वर्षों से आम लोगों के साथ है. भले ही झंडु बाम दर्द दूर करे-न करे, पर उसकी पहुंच और उसके प्रति लोगों का लगाव उसका सबसे बड़ा राज है.